Saturday , 21 October 2017

Home » खबर खास » होमवर्क न करने पर अध्यापिका ने की छात्राओं की पिटाई

होमवर्क न करने पर अध्यापिका ने की छात्राओं की पिटाई

जुलाना के लजवाना कलां गांव का मामला पिटाई व डंड बैठक लगवाने से बेहोश हुई छात्राएं

May 14, 2016 12:10 pm by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-
girl-students-fainted-due-to-ups-and-down-in-school_1463212921

फोटो अमर उजाला से साभार

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ सरकार के नारा तो दे दिया और हजारों करोड़ों के विज्ञापन भी इस संदेश को फैलाने के लिये खर्च किये जा रहे हैं। लेकिन जींद जिले के जुलाना क्षेत्र के गांव लजवाना के राजकीय कन्या माध्यमिक विद्यालय में बेटी पढ़ाना बेटी बचाने के नारे को झुठला रहा है। जी हां स्कूल की अध्यापिका पर होमवर्क न करने पर छात्राओं की बेरहमी से पिटाई व उनसे डंड बैठक लगवाने के आरोप हैं जिसके कारण बेहोशी की हालत में छात्राओं को जुलाना के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती करवाया गया। छात्राओं का आरोप है कि अध्यापिका ने कुर्सी के टूटे हुए बाजू से उनकी पिटाई की इतना ही नहीं इसके बाद उठक बैठक लगवाई जिस दौरान करीब 9 छात्राएं बेहोश हो गईं।

घटना के बाद अध्यापिका को निलंबित करने की मांग को लेकर अभिभावकों ने भी स्कूल में बवाल काटा। हालांकि इस दौरान स्कूल स्टाफ वहां नजर नहीं आया। शिक्षा विभाग के आला अधिकारियों तक भी बात पहुंची है। जिला शिक्षा अधिकारी वंदना गुप्ता ने छात्राओं से मुलाकात कर हालचाल जाना व अध्यापिका के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई करने की कही।

स्कूल में छात्र-छात्राओं की पिटाई का यह कोई पहला मामला नहीं है इससे पहले भी इस तरह की घटनाएं प्रदेश में सामने आती रही हैं। लेकिन एक शिक्षक या शिक्षिका छात्राओं पर इतना क्रोधित क्यों हो जाता है/जाती है? होम वर्क न करके लाने की सजा हिंसात्मक क्यों होती है। सरकार ने हालांकि बच्चों को दंड देने पर प्रतिबंध लगाया हुआ है बावजूद उसके यही तरीका शिक्षकों को कारगर क्यों लगता है? क्या वे अपने किसी अवसाद को छात्रों पर निकाल रहे होते हैं? क्या निम्न वर्ग के बच्चों का सरकारी स्कूलों में पढ़ना इसका कारण है? क्या शिक्षा पद्धति को रचनात्मक नहीं बनाया जा सकता? क्या होमवर्क को रोमांचक या रुचिकर नहीं बनाया जा सकता? बुद्धिजीवी समाज को इस बारे में जरुर सोचना चाहिए। ग्रामीण शिक्षा समितियों की सक्रियता इसमें अहम भूमिका निभा सकती है उन्हें लगातार अपने गांव के स्कूलों का दौरा कर शिक्षक एवं छात्रों से संवाद करते रहना चाहिये।

होमवर्क न करने पर अध्यापिका ने की छात्राओं की पिटाई Reviewed by on . [caption id="attachment_118" align="aligncenter" width="614"] फोटो अमर उजाला से साभार[/caption] बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ सरकार के नारा तो दे दिया और हजारों करोड़ों [caption id="attachment_118" align="aligncenter" width="614"] फोटो अमर उजाला से साभार[/caption] बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ सरकार के नारा तो दे दिया और हजारों करोड़ों Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top