Friday , 24 November 2017

Home » साहित्य खास » जलग्या हरियाणा

जलग्या हरियाणा

April 19, 2016 2:59 pm by: Category: साहित्य खास Leave a comment A+ / A-

आरक्षण की आड़ मैं देखो, हरियाणा जलग्या भाई

हक की खातिर लड़ने आळे, क्यूं बण बैठे दंगाई

बड़ी मुश्किल तै हाड घसा कै, खड़ी करी थी मनै दुकान

जींदगी मैं कदे देख्या ना था, एकदम आया इसा तूफान

भीड़ बणा कै आये थे गूंडे, लूटण लागे सारा सामान

फेर तेल छिड़क कै आग लगा दी, धूमां चढ़ण लग्या आसमान

इब क्या कै सहारै बाळक पाळूं कुछ देता नहीं दिखाई….

हक की खातिर लड़ने वाले क्यूं बण बैठे दंगाई…..

 

युद्धिष्ठर के हाल नै देखो, महाभारत पिछै किसा राज मिल्या

महान अशोक भी कलिंग कै पिछै, हांड्या था रै हिल्या हिल्या

धर्म कै ऊपर होये देश के टुकड़े, आज तलक नहीं मिट्या गिला

हरे भरे जो बाग उजाड़ै, उसका कद सी चमन खिल्या

दंग्या की आड़ै मैं बणैं निशाना, निर्दोष जो लोग लुगाई

हक की खातिर लड़ने वाले क्यूं बण बैठे दंगाई…..

 

जो जो बाणी बोले नेता, थम सारी पूरी तार गए

आपसरी मैं दुश्मन बण कै, एक दूजे नै मार गए

जीवन भर की पूंजी गूंडे, मिनटा के म्हां ढकार गए

या किसी लड़ाई जीती भाई, थम जीत कै भी हार गए

आवण आळी पीढी थमनै, देती रहवैं दुहाई

हक की खातिर लड़ने वाले क्यूं बण बैठे दंगाई…..

 

आंदोलनकारी उपद्रवी क्यूं बणगे, के सै कोए समझावणिया

थम कहो थारे, नहीं थे उननै, था कोए और खंदावणिया

लूंगाड़यां ऊपर रोक लगी ना, कित गए थे झंडे ठावणिया

जीवन भर ये घा रैंह ताजा, के सै कोए मरहम लावणिया

जगदीप सिंह का भीतर पाटै, दीखै न्यरी तबाही

हक की खातिर लड़ने वाले क्यूं बण बैठे दंगाई

जलग्या हरियाणा Reviewed by on . [embed]https://youtu.be/2dFLJchoWx4[/embed] आरक्षण की आड़ मैं देखो, हरियाणा जलग्या भाई हक की खातिर लड़ने आळे, क्यूं बण बैठे दंगाई बड़ी मुश्किल तै हाड घसा कै, खड [embed]https://youtu.be/2dFLJchoWx4[/embed] आरक्षण की आड़ मैं देखो, हरियाणा जलग्या भाई हक की खातिर लड़ने आळे, क्यूं बण बैठे दंगाई बड़ी मुश्किल तै हाड घसा कै, खड Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top