Tuesday , 24 October 2017

Home » खबर खास » राजनीतिक द्वेष भावना से काम कर रही है बीजेपीः कांग्रेस उपाध्यक्ष

राजनीतिक द्वेष भावना से काम कर रही है बीजेपीः कांग्रेस उपाध्यक्ष

September 5, 2016 8:18 am by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

aftab ahamad

कहते हैं राजनीति में किसी पार्टी को अपने से दूसरी पार्टी की लोकप्रियता रास नहीं आती। बात अगर प्रतिस्पर्धा रखने वाली दो ही पार्टियों की हो तो बाजिब कही जा सकती है। तिकड़मबाजी में कई दफा कुछ बिंदुओं पर बात उलझ भी सकती है। हरियाणा की अगर बात करें तो पिछले दो कार्यकाल में राज कर चुके भूपेंद्र सिंह हुड्डा कुछ समय से सुर्खियों का हिस्सा रह चुके हैं। बात चाहे पंचकूला लैंड डील की हो, उसके बाद जाट आरक्षण आंदोलन के संबंध रही उनकी भूमिका की हो, या फिर हाल ही में उनके ठिकानों पर हुई छापेमारी की। प्रमाणों के बगैर दावा करना तो गलत ही बात है, बाकि सत्ता के नशे में कानून का प्रयोग बहुत बार होता ही है।

शनिवार के दिन सुबह के वक्त सीबीआई की टीमों ने चंडीगढ़ में पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा के सेक्टर 3 स्थित एमएलए हॉस्टल नंबर 26 और हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव (एसीएस) एसएस ढिल्लों के सेक्टर 24 स्थित मकान नंबर 136 में छापेमारी की। बता दें कि सीबीआई टीम अपने 15 अधिकारियों के साथ छापा मारने पहुंची थी। जिन्होनें 400 एकड़ जमीन घोटाले के मामले में चंडीगढ़, पंचकूला, रोहतक , गुड़गांव और दिल्ली समेत 24 जगहों पर छापेमारी की।

इस छापेमारी के उपरांत हरियाणा कांग्रेस के उपाध्यक्ष और प्रदेश के पूर्व परिवहन मंत्री आफताब अहमद ने हरियाणा की भाजपा सरकार पर बदले व राजनीतिक द्वेष भावना से काम करने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा की दिन प्रतिदिन बढ़ती लोकप्रियता को खट्टर सरकार पचा नहीं पा रही है और सरकार डरी हुई है, इसीलिए सीबीआई के छापे डलवा रही है। सीएम खट्टर से इस पर प्रतिक्रिया लिए जाने पर उन्होने कहा कि ये कोई राजनीतिक द्वेष भावना के कारण की गई कार्रवाई नहीं हैं।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि खट्टर सरकार के बनने के पहले दिन से ही ये सरकार अपने विरोधियों के मुह को बंद करने का अलोकतांत्रिक प्रयास कर रही है । पहले भाजपा सरकार ने जाट आरक्षण दंगों में प्रकाश सिंह समिति बनाकर पूर्व मुख्यमंत्री को फ़साना चाहा लेकिन रिपोर्ट में दंगों के लिए खुद खट्टर सरकार के मंत्री और प्रशासन को दोषी पाया है। जब रिपोर्ट में सरकार के मंत्रियों का नाम आया तो सरकार ने प्रकाश सिंह समिति की रिपोर्ट को कूड़ेदान में फैंक दिया। जब प्रकाश सिंह ने हरियाणा की ही भाजपा सरकार पर सवाल उठाये तो उसके मंत्री कहते हैं की आज की तारीख में प्रकाश सिंह समिति की कोई उपयोगिता ही नहीं है।

वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष ने खुलकर हमला बोलते हुए कहा कि ये कोई नई बात नहीं है की भाजपा बदले की भावना से काम कर रही है बल्कि जिन राज्यों में कांग्रेस की सरकार हैं वहां भी केंद्र की मोदी जी की सरकार कभी राष्ट्रपति शासन लगा देती है। चाहे हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीर भद्र सिंह हो, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत हो , राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत हो या भारत सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री पी चिदंबरम हो, हर राज्य में भाजपा सरकार राजनीतिक बदले ओर द्वेष की भावना से मौजूदा या पूर्व कांग्रेसी मुख्यमंत्रियों के खिलाफ घिनोना काम कर रही है ।

कांग्रेस उपाध्यक्ष की माने तो कांग्रेस की लोकप्रियता बीजेपी को रास नहीं आ रही। जहां तक क्षेत्रिय राजनीति का सवाल है, जनता गिने चुने विकल्पों को ही आजमाती रहती है। बीजेपी के शासनकाल में होने वाली असुविधाओं से परेशानी झेल रहे किसान और कर्मचारी वर्ग पूरी तरह से परेशान तो है वहीं मुख्य विपक्ष तौर पर कांग्रेस ही है जो अपनी जमीन तैयार कर सकती है। भले कांग्रेस को खेमों की पार्टी कहा जाता हो उनमें आ रहे बिश्नोई सरीखे नेताओं को खेमों के रूप में माना जाता हो, मगर ये तो है ही बीजेपी को ये तनिक लोकप्रियता भी किसी तरह पचती नजर नहीं आ रही।

मेवात से पत्रकार युनूस अल्वी की रिपोर्ट पर आधारित

राजनीतिक द्वेष भावना से काम कर रही है बीजेपीः कांग्रेस उपाध्यक्ष Reviewed by on . कहते हैं राजनीति में किसी पार्टी को अपने से दूसरी पार्टी की लोकप्रियता रास नहीं आती। बात अगर प्रतिस्पर्धा रखने वाली दो ही पार्टियों की हो तो बाजिब कही जा सकती ह कहते हैं राजनीति में किसी पार्टी को अपने से दूसरी पार्टी की लोकप्रियता रास नहीं आती। बात अगर प्रतिस्पर्धा रखने वाली दो ही पार्टियों की हो तो बाजिब कही जा सकती ह Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top