Wednesday , 22 November 2017

About haryanakhas

सर छोटूराम: कैसे बने राम रिछपाल से रहबर ए आजम

सर छोटूराम: कैसे बने राम रिछपाल से रहबर ए आजम

रहबर ए आजम, दीनबंधु, सर, चौधरी छोटूराम शारीरिक रूप से छोटे से कद के इस व्यक्ति के व्यक्तित्व का कद बहुत बड़ा था। वे दीन दुखियों गरीबों के बंधु, रहबर ए आज़म, अंग्रेजी हुकूमत के लिये सर तो किसानों के लि ...

Read More »
आह्वान

आह्वान

मेरे देश के नौजवानों सच्चाई को समझो दुश्मन को पहचानो शांति सेना का नहीं जनसेना का निर्माण करो।। सन्दीप कुमार अपनी कविता के माध्यम से आवाज उठा रहे है कि रोजाना हो रहे सैनिको और आदिवादियो, कश्मीरियों, प ...

Read More »
रूमान और इंकलाब के बेजोड़ शायर थे फैज

रूमान और इंकलाब के बेजोड़ शायर थे फैज

  मुझसे पहली सी मोहब्बत मेरे महबूब न मांग                और भी दुख हैं जमाने में मोहब्बत के सिवा फ़ैज़ अहमद फ़ैज़। शायरी की दुनियां का वो नाम जिनकी रचनाओं में इंक़लाबी और रूमानी दोनों भाव जिंदा ह ...

Read More »
अभिव्यक्ति पर खतरे और प्रेस दिवस  

अभिव्यक्ति पर खतरे और प्रेस दिवस  

राष्ट्रीय प्रेस दिवस। यानि मीडिया को अपनी जिम्मेदारी और निष्पक्षता की याद दिलाने वाला दिन। यूं तो मीडिया का अर्थ मीडियम या माध्यम होता है यानि समाज के विभिन्न वर्गों, सत्ता केन्द्रों, व्यक्तियों और सं ...

Read More »
सीढियों पर

सीढियों पर

तब प्रिंट पत्रकारिता के प्रशिक्षण पर था मैं। शहर के बस स्टैंड से टाउन पार्क के पास बने ऑफिस तक रोज पैदल चलना होता था। बीच में रेलवे लाईन के उपर पुल बना हुआ था जिसे पार करना पड़ता था। एक दिन सदा की तरह ...

Read More »
विश्व मधुमेह दिवसः व्यापक जागरूकता की दरकार  

विश्व मधुमेह दिवसः व्यापक जागरूकता की दरकार  

मधुमेह या शुगर। यानि शरीर में अग्नाश्य द्वारा इंसुलिन का स्त्राव कम होने के कारण पैदा होने वाली एक ऐसी बिमारी जिससे रक्त में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाता है और मरीजों में रक्त कोलेस्ट्रॉल और वसा के अवयव अ ...

Read More »
मोदी जी के नाम खुला खत

मोदी जी के नाम खुला खत

आपको इतिहास में अमर होने की जबरदस्त चाहत है। इसीलिए आपने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, स्वच्छता अभियान जैसे अभियान चलाए लेकिन दूसरी तरफ पूंजीपतियों के फायदे के लिए आपने अपनी लोकप्रियता को दांव पर रखकर भी नोटबन ...

Read More »
शायर-ए-मशरीक़ सर मुहम्मद इक़बाल

शायर-ए-मशरीक़ सर मुहम्मद इक़बाल

  यूनान-मिस्र-रोमा सब मिट गए जहाँ से अब तक मगर है बाक़ी नामो-निशाँ हमारा कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी सदियों रहा है दुश्मन दौर-ए-ज़माँ हमारा देशभक्ति और राष्ट्रीय एकता से कूट-कूटकर भरी ये ...

Read More »
सम्पत्ति में महिलाओं का हिस्सा क्यों नहीं

सम्पत्ति में महिलाओं का हिस्सा क्यों नहीं

दहेज की बजाय लड़कियों को संपत्ति का अधिकार मिलना चाहिए क्योंकि अगर उनके पास चल अचल संपत्ति के रूप में कुछ रहेगा तो ससुराल वाले उसे तंग करते हुए सोचेंगे। अगर उसे ससुराल से निकाल दिया जाए या उसके पति की ...

Read More »
भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी)  महासचिव सीताराम येचुरी को खुला पत्र।

भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) महासचिव सीताराम येचुरी को खुला पत्र।

जब प्रोफेसर GN साईंबाबा के मसले पर आपकी चुप्पी को देखता हूँ तो आपकी ईमानदारी पर शक होता है। क्या कारण है कि आप GN पर हो रहे अमानवीय अत्याचार पर नही बोल रहे हो। जिस प्रकार से उसकी गैरक़ानूनी गिरफ्तारी ह ...

Read More »
scroll to top