Friday , 24 November 2017

Home » खबर खास » हमारे कॉलेजों में भी है एक ‘काला धन’…. लाना होगा De-campus-isation

हमारे कॉलेजों में भी है एक ‘काला धन’…. लाना होगा De-campus-isation

November 22, 2016 10:57 am by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

deepkamal

-दीपकमल सहारण

कॉलेज और यूनिवर्सिटी कैम्पस में मौजूद इस काले धन का कोई तोड़ नहीं निकल पा रहा है। स्टाफ बदल चुका, बैच बदल गए, पीढ़ी बदल गई.. स्टूडेंट्स के बच्चे स्टूडेंट बनकर आ गए लेकिन काले धन की खेप लगातार बरकरार रही। यह हमारी शिक्षा व्यवस्था और नई पीढ़ियों के लिए शर्मनाक और unproductive है।
यह काला धन कैम्पस में होने वाले हर कार्यक्रम में किलकी मारने में विशेषज्ञ है, कोई प्रस्तुति चल रही हो तो उसे तालियों से सराहने की बजाय चीख चिल्लाकर, सीटी बजाकर, हूटिंग के साथ डिस्टर्ब करने में ज्यादा यकीन रखता है। इनमें स्टेज पर कोई नहीं आता लेकिन ग्रुप बनाकर बैठा यह धन आपस में चुटकुलेबाजी और कमेंटबाजी कर खूब ठहाके लगाता है और तालियां पीटता है। इनमें सबसे सयाना धन किसी भी शख्स या कलाकार की कला को अपने कमेंट्स से छोटा बनाने में माहिर होता है। यह टॉन्ट या हरियाणवी में ‘डाट’ पूरे काले धन को सुकून और किसी कामयाबी का अहसास दिलाने वाला होता है। स्टेज पर माइक टेस्टिंग के लिए ‘ हैलो हैलो ‘ बोल रही लड़की को चिल्लाकर बोलते हैं ‘ हां हैलो, के हाल है माणस ‘ और फिर मुंह सीट के पीछे छिपा लेते हैं। चूंकि ये खुद स्टेज पर जा नहीं सकते इसलिए जैसे तैसे ध्यान खींचने के लिए ऊल जुलूल हरकतें करते हैं।

कैम्पस के इस काले धन में बाइक पर बिना हेलमेट, 4-5 की संख्या में घूमने का टैलेंट रहता है और गाड़ी मिल जाए तो शीशे नीचे कर तेज आवाज़ में हनी सिंह सुनना भी इसकी पहचान है। लड़की के पास से गुजर जाने पर कमेंट किए बिना तो ये खुद को किसी लायक समझते ही नहीं। हां, सामने से किसी से तमीज से बात करना या प्रभावित करना इनके बस का काम नहीं है।

हमारे युवाओं का यह टैलेंट काला धन क्यों है ? क्योंकि यह गैरजरूरी है, गलत आदतों से बना है, स्वीकार्य नहीं है और बाकी युवाओं के लिए सिरदर्द है। यह धन खत्म होगा तो कैम्पस में क्रियाशीलता बढ़ेगी, सकारात्मकता आएगी और मेहनती युवाओं की कदर बढ़ेगी।

हमारे कैम्पसज में इस धन ने कई दशक पहले इकट्ठा होना शुरू किया और पीढ़ी दर पीढ़ी, बैच दर बैच अगली पीढ़ी को ट्रांस्फर होता रहा। जो 80 और 90 के दशक में किलकी मारते थे, आज उनके बेटे भी उसी अंदाज़ में इस होड़ में शामिल हैं। जो लड़कियां आज झेलती हैं, उनकी मां भी शायद इसी दौर से गुजरी होंगी या उनके पिता इस धन का हिस्सा रहे होंगे। बच्चों का दोष नहीं है। कैम्पस में आने के पहले साल में उन्हें यह सब नहीं आता लेकिन जाते-जाते वे सब सीख जाते हैं क्योंकि सीनियर्स को देख उन्हें लगता है कि यह सब कैम्पस में करना जरूरी होता है। इसलिए क्या काले धन की तरह कुछ समय के लिए हमारे campuses को खाली करवा दिया जाए। अगर कोई नया बैच आए और उसे कैम्पस में सीनियर्स ना मिले तो काफी संभावना है कि वे यह सब नहीं सीखेंगे। पिछले दशक में खुले नए इंजीनियरिंग या अन्य ग्रेजुएशन कॉलेजों में बच्चे उन कैम्पस से ज्यादा सभ्य हैं जहां दशकों से लगातार पढ़ाई चल रही है। बारहवीं से निकलकर आने वाले बच्चे सीनियर्स से ही हुड़दंगबाजी का हुनर और हौंसला सीखते हैं। उन्हें महसूस होता है कि सीनियर बनने के लिए यह सब गुण होने जरूरी हैं। संभव तो नहीं है लेकिन 2-3 साल के लिए De-campus-isation यानी कैम्पस में नए बच्चे ना लेकर इस परम्परा को खत्म किया जा सकता है।

यह काला धन कैम्पस से निकलने के बाद इस व्यवहार को बसों, सार्वजनिक स्थानों, चंडीगढ़, दिल्ली और विदेशों तक ले जाता है जो अंतत: प्रदेश और देश की छवि खराब ही करता है। इससे छुटकारा पाने पर गंभीरता से विचार किया जाना चाहिए।

लेखक दीपकमल सहारण वरिष्ठ पत्रकार हैं, हरियाणा के लिये पत्रकारिता करने वालों में वे जाना माना नाम हैं। उन्हीं की फेसबुक वाल से साभार।

हमारे कॉलेजों में भी है एक ‘काला धन’…. लाना होगा De-campus-isation Reviewed by on . -दीपकमल सहारण कॉलेज और यूनिवर्सिटी कैम्पस में मौजूद इस काले धन का कोई तोड़ नहीं निकल पा रहा है। स्टाफ बदल चुका, बैच बदल गए, पीढ़ी बदल गई.. स्टूडेंट्स के बच्चे स -दीपकमल सहारण कॉलेज और यूनिवर्सिटी कैम्पस में मौजूद इस काले धन का कोई तोड़ नहीं निकल पा रहा है। स्टाफ बदल चुका, बैच बदल गए, पीढ़ी बदल गई.. स्टूडेंट्स के बच्चे स Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top