Monday , 20 November 2017

Home » खबर खास » बलात्कार – हम, समाज और सिस्टम का नजरिया

बलात्कार – हम, समाज और सिस्टम का नजरिया

अगर आप रेप विक्टिम या रेपिस्ट के पक्ष या विपक्ष में खड़े होने में उसकी जात, धर्म, इलाका, स्टेट्स देखते हो तो आप जाने-अनजाने निर्भया के बलात्कारियो के साथ हो। फिर आपको कोई अधिकार नही है ढोंग करने का, आप बलात्कारी समाज के साथ खड़े हो। UDay Che

May 9, 2017 12:24 pm by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

निर्भया दिल्ली बलात्कार पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद, देश के अख़बारो के पहले पन्ने भरे पड़े है।
देश के सभी राष्ट्रीय व् लोकल अखबारों ने पहले पृष्ठ पर और अंदर के पृष्ठ पर इस फैसले की अच्छी चर्चा की हुई है। चर्चा हो भी क्यों न मामला ही इतना जघन्य था।
6 हैवान पुरुषो द्वारा एक मासूम लड़की के साथ बड़ी ही निर्ममता से बलात्कार, बलात्कार के बाद उसके प्राइवेट पार्ट और उसके शरीर के साथ जो हैवानियत की उस हैवानियत को बयां करने के लिए कोई शब्द नही है। माननीय सुप्रीम कोर्ट ने इन हैवानो को हाई कोर्ट द्वारा दी गयी फांसी की सजा को बरकरार रखा है। माननीय सुप्रीम कोर्ट ने कहा – यह क्रूरतम, नृशंस और पैशाचिक कृत्य है, ये दरिंदगी है। इसलिए इनको ये सजा जरूरी है।
अखबारों ने अलग-अलग विशेषज्ञो की बलात्कार पर राय छापी हुई है। अखबारों ने इस फैसले पर और इस जघन्य घटना पर सम्पादकीय लिखें है। बलात्कारियो के बड़े-बड़े फोटो अखबारों ने फांसी के फंदे के साथ छापे हुए है। अखबारों ने ऐसा माहौल बनाया हुआ है जैसे कल ही इनको फांसी हो जायेगी और फांसी के बाद कभी भी बलात्कार तो छोड़ो छेड़खानी की घटना भी नही होगी। शोशल मिडिया पर यूजर्स ने फैसले पर खुशी मनाई है। सजा फांसी हो या आजीवन कारावास हो इस पर भी बहस छिड़ी हुई है। दिल को सकूँ मिला की बलात्कार जैसे गम्भीर मसले पर जो सीधा-सीधा एक पुरूष का एक महिला पर हमला है। उस पर चर्चा को अच्छी जगह मिली है। लेकिन बलात्कार की जड़ क्या है, 80% बलात्कार के मामले किनके साथ होते है। बलात्कार पीड़ितों के साथ समाज, सरकार, पोलिस, डॉ और कानून किस तरह का व्यवहार करता है। ऐसी चर्चा किसी भी अख़बार में नही दिखाई दी।
लेकिन जैसे ही आज सुबह अख़बार पढ़ने के लिए खोलता हूँ तो सर घूम जाता है। कल जो अख़बार निर्भया के बलात्कारियो को फांसी दे रहे थे वो ही अख़बार आज अपने पहले पृष्ठ पर एक बलात्कार के आरोपित बाबा के गुणगान में लगे हुए है। बाबा के साथ हरियाणा के मुख्यमंत्री भी खिलखिला कर हंस रहे है। बाबा के अनुयायियों ने मुख्यमंत्री से बाबा को स्वछता का ब्रांड अम्बस्टर बनाने की मांग की और मुख्यमंत्री ने भी इस पर विचार करने की हामी भर दी। क्या यहां पर हमारा, हमारी सरकार, हमारे सिस्टम का दोहरा चरित्र नही दिखाई देता है।
हमारे समाज मे बलात्कारी की तरफ खड़ा होना है या पीड़ित की तरफ खड़ा होना है इसके लिए हम बलात्कारी का स्टेटस, जाति, धर्म देखते है। अगर बलात्कार किसी मजदूर, दलित, मुस्लिम ने किया है तो हम भी और मीडिया भी उसको फांसी से कम बात करता ही नही करते है और साथ में उसके पूरी कम्युनिटी को भी बलात्कारी साबित करने की कोशिश की जाती है। लेकिन अगर रेप में कोई अमीर, स्वर्ण, बाबा या सैनिक शामिल है तो हम, मीडिया, समाज और सिस्टम पीड़ित के ही खिलाफ खड़े मिलते है। कितने ही बाबा है जो बलात्कार के केस में अंदर है या बाहर केस का सामना कर रहे है लेकिन उनके अनुयायियों की सँख्या करोड़ो में है जो इन बाबाओं को बलात्कारी कहने वालों की जान तक लेने केे लिए तैयार है। ऐसे ही जब फ़ोर्स के जवान बलात्कार करते है तो देश की जनता मानने के लिए तैयार ही नही होती उल्टा बलात्कार पीड़ित के खिलाफ सरकार पैरवी करती है।
अब सवाल ये है कि हम बलात्कारियो को किस नजर से देखते है। मै कुछ केस आपके सामने रख रहा हूँ फिर आप देखना की उन बलात्कार की घटनाओं पर आप और आपके आस-पास के लोग क्या सोचते है। वो किसके साथ खड़े है बलात्कारी के साथ या पीड़ित के साथ

  1.  निर्भया बलात्कार केस – कुछ लड़के जो अलग-अलग जाति और धर्म के है। रोड़ से एक लड़की को उठाते हैं उनको नही पता की लड़की की जात क्या है, धर्म क्या है। वो बलात्कार के बाद उसकी निर्मम हत्या कर देते है। ये मामला जघन्य से जघन्य है। ये मामला सीधा-सीधा पुरुषवाद का महिला पर हमला है। इस घटना पर देश और विदेश का आवाम लड़की के पक्ष में खड़ा होता है। बड़े-बड़े प्रदर्शन होते है। बलात्कारियो और हत्यारों को कड़ी से कड़ी सजा मिले और जल्दी सजा मिले ये मांग मुख्य होती है सुप्रीम कोर्ट का आया फैसला पीड़ित परिवार और प्रदर्शनकारियों को संतुष्टि देता है।
  2.   बिलकिस बानो – 2002 में गुजरात में धार्मिक दंगे होते है। एक परिवार जो मुस्लिम है वो किसी सुरक्षित ठिकाने की तलाश में मारे-मारे फिर रहा हैं। वो मुस्लिम परिवार एक खास धर्म के धार्मिक उन्मादियों के हत्थे चढ़ जाता है। ये धार्मिक दंगाई परिवार के 14 लोगो की हत्या बड़ी ही निर्ममता से कर देते है। हत्या से पहले वो इस परिवार की सभी महिलाओं से बलात्कार करते है बिलकिस बानो भी उन्ही महिलाओं में शामिल है। बिलकिस के गर्भ में उस समय 5 महीने का बच्चा भी है। बलात्कारी बिलकिस के पेट पर त्रिशूल से जय श्री राम लिखते है। वो जितनी निर्ममता कर सकते है वो बिलकिस से करते है। पुरे परिवार को मरा हुआ समझकर बलात्कारी धर्म की जय-जयकार करते हुए, धर्म की जीत की ख़ुशी का जश्न मनाते हुए निकलते हैं। बिलकिस बच जाती है। वो पोलिस के पास जाती है पोलिस भी जो उस धार्मिक सत्ता की ही है जो सत्ता पिछले दरवाजे से दंगो में शामिल है। वो उसको डरा-धमका कर भगा देती है। वो डॉ के पास जाती है। डॉ भी उसको भगा देता है। वो जिला जज के पास जाती है जज भी आरोपितों को बाइज्जत बरी कर देती है। लेकिन बिलकिस हार नही मानती और हार नही मानते उसके वो साथी जो अन्याय के खिलाफ लड़ने के लिए जाने जाते है तीस्ता सीतलवाड़ और देश के प्रगतिशील बुद्धिजीवी व् कम्युनिस्ट वो लड़ते है। सीबीआई से जाँच होती है गुजरात से बाहर बॉबे हाई कोर्ट में केस चलता है 15 साल बाद बिलकिस को इंसाफ मिलता है। बलात्कारियो को उम्र कैद होती है। उसके साथ में उस पोलिस अधिकारी और डॉ को भी सजा होती है जिन्होंने बिलकिस को इंसाफ दिलाने की बजाए बलात्कारियो का बचाव किया। लेकिन हम चुप है, चुप है मिडिया, चुप है सरकार, और इस चुपी का कारण है बिलकिस का मुस्लिम होना, चुपी का कारण है केंद्र में उस पार्टी की सरकार का होना जो उस समय गुजरात में थी।
  3.  एक है सोनी सोरी जो आदिवासी है। वो छतीसगढ़ में अध्यापिका है। वो गाँधीवादी है। पूंजीपतियों द्वारा जल-जंगल-जमीन की लूट के खिलाफ आवाज बुलंद करती है। पोलिस अधीक्षक अंकित गर्ग उसको और उसके परिवार को झूठे केस में पकड़ लेता है। पोलिस लॉकअप में अंकित गर्ग अध्यापिका सोनी सोरी की योनि में पत्थर डलवा देता है। सोनी के भतीजे के गुद्दे में लाल मिर्च लगा डंडा डलवा देता है। सोनी के पति के हाथ पांव जेल में तुड़वा दिए जाते है। जिसकी मौत जेल से बाहर आते ही हो जाती है। सोनी सोरी का मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है। लेकिन उस समय की केंद्र सरकार जिसको कॉग्रेस चला रही थी जिस सरकार को भारत के धर्मनिरपेक्ष, दलित हितैसी, समाजवादी, संसदीय कम्युनिस्ट समर्थन दिए हुए है वो केंद्र सरकार उस पोलिस अधीक्षक अंकित गर्ग को राष्ट्रपति वीरता पुरस्कार देती है। हम बहादुर पोलिस ऑफिसर को वीरता पुरस्कार मिलने पर तालियां बजाते हैं।
  4.   एक है आदिवासी महिला जिसको पोलिस के जवान उसके घर से दिन दहाड़े गांव के बीच से उठाते हैं उसके साथ सामूहिक बलात्कार करते है। बलात्कार के बाद उसको 11 गोलियां मारते हैं। फिर एक नई माओवादियों की वर्दी पहनाते है। हाथ में बन्दूक थमाते है और करते है फोटो सेशन, मिडिया में प्रेस रिलीज करते हैे की इनामी माओवादी नेता इनकाउंटर में पोलिस के बहादुर जवानों ने ढेर की। जबकि वर्दी में एक भी सुराग गोलियों का नही है। मामला हाई कोर्ट में विचाराधीन है। पोलिस की तरफ से सरकार पैरवी कर रही है। लेकिन हम, सरकार, मिडिया खड़े है पोलिस की तरफ।
  5.     आज से 26 साल पहले दिनांक 23 फ़रवरी 1991 को कश्मीर के कुनान पोशपोरा में मानव इतिहास की सबसे बड़ी शर्मनाक घटना को अंजाम दिया जाता है, वहाँ पर रहने वाली पूरे गावँ की औरतों को बाहर निकाल कर लाया जाता है जिसमें 13 साल की बच्ची से लेकर 81 साल की बूढ़ी औरत तक शामिल है। फिर शुरू होता है वो घिनोना खेल, जिसमे आंतक, वहसीपन की सारी सीमाएं तोड़ दी जाती है। उन सभी महिलाओं के साथ पूरी रात बलात्कार किया जाता है। ये बहादुरी का काम भारतीय सेना के राजस्थान राइफल्स के जवानों पर था। बेटी की इज़्ज़त उसके बाप के सामने रौंदी जाती है, पति की आँखों के सामने पत्नी का सामूहिक बलात्कार होता है। भारतीय आधिकारिक के अनुसार पीड़ित महिलाओं की संख्या 23 थीं जबकि ह्यूमन राइट वॉच एवं विभिन्न सूत्रों के अनुसार इन औरतों की संख्या 100 से ऊपर थी। आज तक किसी को सजा नही हुई जाँच के नाम पर वर्षो बीत गए। आख़िरकार इतने बड़े मानवता विरोधी कांड की फ़ाइल हमेशा के लिए बंद कर दी गई।
  6.    भंवरी देवी सामाजिक बुराइयों के खिलाफ अभियान चलाती थी। वो महिलाओं को साफ-सफाई, परिवार नियोजन और लड़कियों को स्कूल भेजने के फायदों के बारे में बताती थीं. इन सामाजिक बुराइयों में भ्रूण हत्या, दहेज और बाल विवाह जैसी कुरीतियां भी शामिल हैं. उन्होंने गांव की अगड़ी जाति में होने वाली एक 9 महीने की लड़की की शादी को रुकवा दिया। अगड़ी जाति के 5 लोगो ने भंवरी के पति को बांध कर उसके सामने ही भंवरी के साथ सामूहिक रेप किया। भंवरी देवी का केस आज तक पेंडिंग है। 1995 में हाई कोर्ट ने आरोपियों को बरी करते हुए लिखा की ये लोग रेप कर ही नही सकते क्योंकि जो अगड़ी जाति आपको छूना भी पसंद नही करती। जो आपको अशुद्ध मानती है वो कैसे आपसे बलात्कार कर सकती है। 1995 में भंवरी देवी दोबारा अपील में गयी और आज तक मतलब 22 सालो में सिर्फ एक तारीख लगी है। 5 में से 2 बलात्कारी मर चुके है।
  7.       दिल्ली के एक प्राईवेट स्कूल ने ग्याहरवी क्लास में एक लड़की को एडमिशन देने से मना कर दिया। एडमिशन देने की शर्त रखी- लड़की स्कूल बस से न आएगी न जाएगी। और तो और, लड़की के दोस्तों को उसके आस पास बैठने से मना कर दिया गया है। ये फरमान सुनाने वाले स्कूल प्रिसिंपल हैं। वैसे स्कूल वालों के पास कारण भी है। कारण यह कि उस लड़की का एडमिशन कर लिया तो स्कूल की बदनामी होगी। लड़की के मां बाप ने दिल्ली महिला आयोग के पास शिकायत पहुंचाई है। लड़की का कसूर ये है कि जब वो दसवी क्लास में थी, तब उसका किडनेप किया गया और उसके बाद बलात्कार करके चलती गाड़ी से फेंक दिया गया। स्कूल प्रिंसीपल की नजर में उस बेशर्म को तभी मर जाना चाहिए था। अब तक जिंदा क्यूं है? जिन्दा है तो पढना क्यों चाहती है।

ये लिस्ट बहुत लंबी है आपके आस-पास नजर घुमाओगे तो आपको हालात भयंकर दिखाई देंगे। ऐसी अनगिनित पीड़ित महिलाएं आपको मिल जायेगी जिन्होंने रेप के खिलाफ आवाज ही सिर्फ इसलिए नही उठाई की समाज दोषी ही पीड़िता को मनाता है। परिवार वाले भी अपनी इज्जत के चक्कर में या तो आवाज उठाते ही नही अगर उठाने की कोशिश करे तो समाज, पोलिस, ये सिस्टम उनकी आवाज को दबा देता है। बहुत से मामलों में पीड़ित महिला को परिवार वाले मार देते है, घर से निकाल देते है, पति अपनी पत्नी को छोड़ देता है। प्रेमी जो जीने-मरने की कसमें खाता है वो प्रेमिका को छोड़ कर भाग जाता है। हमारे समाज में रेप पीड़ित मरते समय तक सामाजिक भेदभाव का शिकार रहती है। वो जब बाहर निकलती है तो बच्चे, बुड्ढे, महिला सब उसको अपनी नजरो से अहसास कराते रहते है कि बलात्कार के लिए वो ही दोषी है। उसका बार-बार अपनी गन्दी नजरो से एक्सरे करते रहते है।
अब फैसला आपको करना है कि आप किस तरफ खड़े हो। बलात्कारी की तरफ या पीड़ित की तरफ
अगर आप रेप विक्टिम या रेपिस्ट के पक्ष या विपक्ष में खड़े होने में उसकी जात, धर्म, इलाका, स्टेट्स देखते हो तो आप जाने अनजाने निर्भया के बलात्कारियो के साथ हो। फिर आपको कोई अधिकार नही है ढोंग करने का, आप बलात्कारी समाज के साथ खड़े हो।
UDay Che
krishanaphotostat@gmail.com

लेखक परिचय

उदय चे पूर्व छात्र नेता हैं स्वतंत्र रूप से लेखन कार्य करते हैं। सक्रिय सामाजिक कार्यकर्ता हैं। दलित एवं पीड़ितों के हक की आवाज़ अपने संगठन के माध्यम से उठाते रहते हैं। उदय चे हिसार के हांसी में रहते हैं।

नोट:- प्रस्तुत लेख में दिये गये विचार या जानकारियों की पुष्टि हरियाणा खास नहीं करता है। यह लेखक के अपने विचार हैं जिन्हें यहां ज्यों का त्यों प्रस्तुत किया गया है। लेख के किसी भी अंश के लिये हरियाणा खास उत्तरदायी नहीं है।

 

बलात्कार – हम, समाज और सिस्टम का नजरिया Reviewed by on . निर्भया दिल्ली बलात्कार पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद, देश के अख़बारो के पहले पन्ने भरे पड़े है। देश के सभी राष्ट्रीय व् लोकल अखबारों ने पहले पृष्ठ पर और अंदर निर्भया दिल्ली बलात्कार पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद, देश के अख़बारो के पहले पन्ने भरे पड़े है। देश के सभी राष्ट्रीय व् लोकल अखबारों ने पहले पृष्ठ पर और अंदर Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top