Friday , 24 November 2017

Home » खबर खास » धान की खरीद, प्राळी और अब गेहूं के बीज का संकट

धान की खरीद, प्राळी और अब गेहूं के बीज का संकट

November 8, 2016 10:17 am by: Category: खबर खास, खेती खास Leave a comment A+ / A-

genhu-beej-ka-sankat

पहले खेतों में फसलों पर मौसम की मार, फिर मंडियों में धान के भाव न मिलना, नमी और तोल आदि के नाम के पर कथित लूट। फिर प्राळी जलाने के नाम पर दिल्ली के दरबार तक किसानों को खलनायक बनाकर पेश करना। जय किसान, अन्नदाता जैसे खिताब दरअसल ऐसे में बेमानी से लगते हैं। अब किसानों के जी को गेंहूं के बीज का ताजा-ताजा एक ओर संकट खड़ा हो गया है। सरकार को परवाह नहीं है कि उसकी छवि किसान विरोधी होती जा रही है।

आखिर किसानों के लिए यह सब कब तक ??? पिछले काफी दिनों से किसान कैथल जिले में बने विभिन्न बीज केंद्रों पर बीज लेने पहुंच रहे हैं लेकिन उन्हें बीज की बजाए निराशा हाथ लग रही है। किसान चिंतित हैं कि अबकी बार भी बीज लेने के लिए उन्हें बड़ी जदोजहद करनी पड़ेगी। किसान अभी से बीज केंद्रों के चक्कर लगाने लगे हैं। इसी से गुस्साए किसानों ने आज ढांड की विस्तार मंडी के मुख्य गेट पर खड़े होकर विरोध स्वरूप नारेबाजी की और रोष जताया। किसानों ने बताया कि वे खेतो में एचडी 2967 नामक बीज की खेती करना चाहते हैं लेकिन अभी तक कोई कर्मचारी किसानों को बीज देने नही आता। किसान चिंतित हैं लेकिन विभाग और सरकार गम्भीर नहीं है।

सरकार कर रही है किसानों को परेशान : कसाना 

इस बारे में जानकारी देते हुए  भारतीय किसान यूनियन के युवा प्रदेश अध्यक्ष विक्रम कसाना और प्रदेश महासचिव भूरा राम पबनावा ने बताया कि हमे इस बात का पता है कि लगभग हर जगह बीज केंद्रों पर बीज पहुंच चुका है लेकिन सरकार ने अभी बीज देने की कोई नीति नही बनाई  जबकि किसान भाई बीज लेने के लिए खरीद केंद्रों पर लाइन लगाकर  खड़े होने शुरू भी हो चुके हैं। उन्होंनें कहा कि सरकार की पता नही क्या मंशा है किसान पुत्र को इतना परेशान करने की। क्योंकि सरकार ने आज तक किसान हित में कोई भी निर्णय नहीं लिया जबकि सरकार अपने आपको किसान हितैषी होने के ढोंग रचने में कोई कसर नही छोड़ रही। सरकार को चाहिए कि विभाग के अधिकारियों को निर्देश दे कि सभी खरीद केंद्रों का निरक्षण करें और बीज के सरकारी रेट तय करें। एक खरीद केंद्र पर एक कर्मचारी की ड्यूटी लगाए ताकि किसानों को बीज लेने में कोई दिक्कत न आये। अगर सरकार और विभाग ने जल्द इस बारे में कोई निर्णय नही लिया तो वे प्रदर्शन करेंगे।

क्या कहते हैं कृषि उप निदेशक

जब इस बारे में कैथल कृषि उपनिदेशक महाबीर सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि सभी बिक्री केंद्रों पर बीज पहुंच चूका है। जल्द ही बीज बेचना शुरू कर दिया जायेगा। सरकार और विभाग की सीएम साहब से बात हो चुकी है। जल्द ही  बीज के रेट भी निर्धारित कर दिए जायेंगे। किसानों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं आने दी जाएगी। प्रचुर मात्रा में बीज में उपलब्ध है कोई भी किसान जल्दबाजी न करे प्रत्येक किसान को बीज उपलब्ध करवाया जायेगा।

पूंडरी से कृष्ण प्रजापति की रिपोर्ट

धान की खरीद, प्राळी और अब गेहूं के बीज का संकट Reviewed by on . पहले खेतों में फसलों पर मौसम की मार, फिर मंडियों में धान के भाव न मिलना, नमी और तोल आदि के नाम के पर कथित लूट। फिर प्राळी जलाने के नाम पर दिल्ली के दरबार तक किस पहले खेतों में फसलों पर मौसम की मार, फिर मंडियों में धान के भाव न मिलना, नमी और तोल आदि के नाम के पर कथित लूट। फिर प्राळी जलाने के नाम पर दिल्ली के दरबार तक किस Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top