Wednesday , 22 November 2017

Category: इतिहास खास

Feed Subscription
  • अभिव्यक्ति पर खतरे और प्रेस दिवस  

    अभिव्यक्ति पर खतरे और प्रेस दिवस  

    राष्ट्रीय प्रेस दिवस। यानि मीडिया को अपनी जिम्मेदारी और निष्पक्षता की याद दिलाने वाला दिन। यूं तो मीडिया का अर्थ मीडियम या माध्यम होता है यानि समाज के विभिन्न वर्गों, सत्ता केन्द्र ...

  • मोदी जी के नाम खुला खत

    मोदी जी के नाम खुला खत

    आपको इतिहास में अमर होने की जबरदस्त चाहत है। इसीलिए आपने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, स्वच्छता अभियान जैसे अभियान चलाए लेकिन दूसरी तरफ पूंजीपतियों के फायदे के लिए आपने अपनी लोकप्रियता को द ...

  • भगत सिंह – कितने दूर कितने पास

    भगत सिंह – कितने दूर कितने पास

    भगत सिंह हमारी राष्ट्रीय चेतना में कितने गहरे बसे हैं इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि धुर दक्षिणपंथी दलों से लेकर धुर वामपंथी दलों तक उन्हें अपना नायक बनाने और उनसे अपनी ...

  • भारत के राष्ट्रपति – 1950 से 2012 तक निर्वाचित हुए 13 राष्ट्रपति

    भारत के राष्ट्रपति – 1950 से 2012 तक निर्वाचित हुए 13 राष्ट्रपति

    पिछले 40 साल से 25 जुलाई एक अहम तिथि है। दरअसल इस तिथि को एक नाम के आगे पूर्व राष्ट्रपति लग जाता है तो नव निर्वाचित राष्ट्रपति अपना कार्यभार संभालते हैं। राष्ट्रपति चुनाव के लिये म ...

अभिव्यक्ति पर खतरे और प्रेस दिवस  

अभिव्यक्ति पर खतरे और प्रेस दिवस  

राष्ट्रीय प्रेस दिवस। यानि मीडिया को अपनी जिम्मेदारी और निष्पक्षता की याद दिलाने वाला दिन। यूं तो मीडिया का अर्थ मीडियम या माध्यम होता है यानि समाज के विभिन्न वर्गों, सत्ता केन्द् ...

Read More »
मोदी जी के नाम खुला खत

मोदी जी के नाम खुला खत

आपको इतिहास में अमर होने की जबरदस्त चाहत है। इसीलिए आपने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, स्वच्छता अभियान जैसे अभियान चलाए लेकिन दूसरी तरफ पूंजीपतियों के फायदे के लिए आपने अपनी लोकप्रियता को ...

Read More »
भगत सिंह – कितने दूर कितने पास

भगत सिंह – कितने दूर कितने पास

भगत सिंह हमारी राष्ट्रीय चेतना में कितने गहरे बसे हैं इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि धुर दक्षिणपंथी दलों से लेकर धुर वामपंथी दलों तक उन्हें अपना नायक बनाने और उनसे अपन ...

Read More »
भारत के राष्ट्रपति – 1950 से 2012 तक निर्वाचित हुए 13 राष्ट्रपति

भारत के राष्ट्रपति – 1950 से 2012 तक निर्वाचित हुए 13 राष्ट्रपति

पिछले 40 साल से 25 जुलाई एक अहम तिथि है। दरअसल इस तिथि को एक नाम के आगे पूर्व राष्ट्रपति लग जाता है तो नव निर्वाचित राष्ट्रपति अपना कार्यभार संभालते हैं। राष्ट्रपति चुनाव के लिये ...

Read More »
रोहतक सामूहिक बलात्कार और हत्या – पुरुषवाद का महिला पर हमला

रोहतक सामूहिक बलात्कार और हत्या – पुरुषवाद का महिला पर हमला

अभी 2 दिन पहले रोहतक में एक लड़की के साथ जो जघन्य सामूहिक बलात्कार और उसके बाद उसकी निर्ममता से जो हत्या हुई। उसकी जैसे-जैसे परते खुल रही है वो बहुत ही भयानक है। क्योंकि बलात्कारी ...

Read More »
मई दिवस – संकट में हैं मजदूर

मई दिवस – संकट में हैं मजदूर

मजदूर जिन्हें हम श्रमिक, मेहनतकश, लेबर आदि कई नामों से संबोधित करते हैं। सही मायनों में बदलाव मजदूरों के दम पर ही संभव हुआ है। इतिहास गवाह है कि देश ही नहीं दुनिया में और दुनिया ह ...

Read More »
पाकिस्तान की मशाल को सलाम

पाकिस्तान की मशाल को सलाम

पाकिस्तान में "वली खान यूनिवर्सिटी" के छात्र नेता व पत्रकारिता विषय के छात्र कामरेड मशाल खान की उसी यूनिवर्सिटी के धार्मिक आंतकवादी छात्रों द्वारा की गयी निर्मम हत्या पाकिस्तान, भ ...

Read More »
चौगरदै धूम मचावां मनावां स्वर्ण जयंती

चौगरदै धूम मचावां मनावां स्वर्ण जयंती

स्वर्ण जयंती का साल चौगरदै पूरै हरियाणै मैं छाया रह्या। हरियाणा सरकार नै हरियाणा की जनता का करोड़ों फूंक कै नै गुरुग्राम मैं प्रोग्राम करया तो। हरियाणा की राजधानी कै तलै पंचकूला म ...

Read More »
हम भी आराम उठा सकते थे घर पर रह कर

हम भी आराम उठा सकते थे घर पर रह कर

यह पंक्तियां शहीद भगतसिंह को बहुत प्रिय थीं और वे अक्सर इनको गुनगुनाया करते थे ‘हमको भी मां बाप ने पाला था दुख सह सह कर हम भी आराम उठा सकते थे घर पर रह कर वक्ते रुखसत इतना भी न आए ...

Read More »
सुनने को फुर्सत हो तो आवाज है पत्थरों में…

सुनने को फुर्सत हो तो आवाज है पत्थरों में…

सुनने को फुर्सत हो तो आवाज है पत्थरों में उजड़ी हुई बस्तियों में आबादियां बोलती हैं कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिनका स्वरूप तो बदल जाता है मगर उससे जीवंतता नष्ट नहीं होती।  हिसार में  ...

Read More »
scroll to top