Sunday , 21 January 2018

Category: इतिहास खास

Feed Subscription
  • बाबा सोहन सिंह भकना एक महान क्रान्तिकारी

    बाबा सोहन सिंह भकना एक महान क्रान्तिकारी

    जवानी के बेहतरीन 16 साल अंग्रेजों की जेल में बिताए थे महान गदरी सोहन सिंह भकना ने  गदर लहर के हीरो महान क्रांतिकारी बाबा सोहन सिंह भकना  कि जयंती 4 जनवरी 1870 पर लाल सलाम .. अमेरिक ...

  • किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी

    किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी

    किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी किताबें करती हैं बातें बीते ज़मानों की दुनिया की, इंसानों की आज की, कल की एक-एक पल की ख़ुशियों की, ग़मों की फूलों की, बमों की जीत की, हार की प ...

  • “भीड़ मर गयी गैलीलियो नहीं मरा”

    “भीड़ मर गयी गैलीलियो नहीं मरा”

    "भीड़ मर गयी गैलीलियो नहीं मरा" हम सब को बहुत गुस्सा आता है जब हम पढते हैं कि किस तरह क्रूर ईसाई धर्मान्धों ने गैलीलियो को जिंदा जला दिया था। गैलीलियो का गुनाह क्या था? उसने सच बोल ...

  • सबसे खतरनाक होता है, हमारे सपनों का मर जाना

    सबसे खतरनाक होता है, हमारे सपनों का मर जाना

    सबसे खतरनाक होता है, हमारे सपनों का मर जाना #Pash मेहनत की लूट सबसे ख़तरनाक नहीं होती पुलिस की मार सबसे ख़तरनाक नहीं होती ग़द्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे ख़तरनाक नहीं होती बैठे-बिठा ...

भारत के राष्ट्रपति – 1950 से 2012 तक निर्वाचित हुए 13 राष्ट्रपति

भारत के राष्ट्रपति – 1950 से 2012 तक निर्वाचित हुए 13 राष्ट्रपति

पिछले 40 साल से 25 जुलाई एक अहम तिथि है। दरअसल इस तिथि को एक नाम के आगे पूर्व राष्ट्रपति लग जाता है तो नव निर्वाचित राष्ट्रपति अपना कार्यभार संभालते हैं। राष्ट्रपति चुनाव के लिये ...

Read More »
रोहतक सामूहिक बलात्कार और हत्या – पुरुषवाद का महिला पर हमला

रोहतक सामूहिक बलात्कार और हत्या – पुरुषवाद का महिला पर हमला

अभी 2 दिन पहले रोहतक में एक लड़की के साथ जो जघन्य सामूहिक बलात्कार और उसके बाद उसकी निर्ममता से जो हत्या हुई। उसकी जैसे-जैसे परते खुल रही है वो बहुत ही भयानक है। क्योंकि बलात्कारी ...

Read More »
मई दिवस – संकट में हैं मजदूर

मई दिवस – संकट में हैं मजदूर

मजदूर जिन्हें हम श्रमिक, मेहनतकश, लेबर आदि कई नामों से संबोधित करते हैं। सही मायनों में बदलाव मजदूरों के दम पर ही संभव हुआ है। इतिहास गवाह है कि देश ही नहीं दुनिया में और दुनिया ह ...

Read More »
पाकिस्तान की मशाल को सलाम

पाकिस्तान की मशाल को सलाम

पाकिस्तान में "वली खान यूनिवर्सिटी" के छात्र नेता व पत्रकारिता विषय के छात्र कामरेड मशाल खान की उसी यूनिवर्सिटी के धार्मिक आंतकवादी छात्रों द्वारा की गयी निर्मम हत्या पाकिस्तान, भ ...

Read More »
चौगरदै धूम मचावां मनावां स्वर्ण जयंती

चौगरदै धूम मचावां मनावां स्वर्ण जयंती

स्वर्ण जयंती का साल चौगरदै पूरै हरियाणै मैं छाया रह्या। हरियाणा सरकार नै हरियाणा की जनता का करोड़ों फूंक कै नै गुरुग्राम मैं प्रोग्राम करया तो। हरियाणा की राजधानी कै तलै पंचकूला म ...

Read More »
हम भी आराम उठा सकते थे घर पर रह कर

हम भी आराम उठा सकते थे घर पर रह कर

यह पंक्तियां शहीद भगतसिंह को बहुत प्रिय थीं और वे अक्सर इनको गुनगुनाया करते थे ‘हमको भी मां बाप ने पाला था दुख सह सह कर हम भी आराम उठा सकते थे घर पर रह कर वक्ते रुखसत इतना भी न आए ...

Read More »
सुनने को फुर्सत हो तो आवाज है पत्थरों में…

सुनने को फुर्सत हो तो आवाज है पत्थरों में…

सुनने को फुर्सत हो तो आवाज है पत्थरों में उजड़ी हुई बस्तियों में आबादियां बोलती हैं कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिनका स्वरूप तो बदल जाता है मगर उससे जीवंतता नष्ट नहीं होती।  हिसार में  ...

Read More »
Reliance Jio 4G- सस्ता जरूर, मगर लूट सको, इतना नहीं…

Reliance Jio 4G- सस्ता जरूर, मगर लूट सको, इतना नहीं…

रियायंस जियो को लेकर जो घमासान भारतीय मोबाईल बाजारों में सुना और देखा जा रहा है। दरअसल उसकी कुछ सच्चाई उससे परे भी है। आपको बता दें कि बिलकुल फ्री की बात कहने वाला रिलायस जियो कुछ ...

Read More »
आधी रात को मिली आज़ादी लेकिन….

आधी रात को मिली आज़ादी लेकिन….

  आजादी...... आजकल इस शब्द के अनेक मायने हैं, यह शब्द संदर्भ के साथ ही अपने मायने भी बदल लेता है। आजादी का आज इतना विस्तरित अर्थ हो गया है कि इसका असल अर्थ और इसे पाने के लिय ...

Read More »
9 अगस्त 1942 – अगस्त क्रांति दिवस

9 अगस्त 1942 – अगस्त क्रांति दिवस

क्या है अगस्त क्रांति दिवस ? 9 अगस्त 1942, यानि भारतीय इतिहास का एक ऐसा दिन जिसे क्रांति दिवस के नाम से भी जाना जाता है। यूं तो क्रांतियों के इतिहास बड़े ही जटिल और व्यापक रहे हैं ...

Read More »
scroll to top