Sunday , 27 May 2018

Category: इतिहास खास

Feed Subscription

इतिहास से जुड़ी खबरें, ऐतिहासिक जानकारियां, ऐतिहासिक घटनाक्रमों के बारे में

  • बाबा सोहन सिंह भकना एक महान क्रान्तिकारी

    बाबा सोहन सिंह भकना एक महान क्रान्तिकारी

    जवानी के बेहतरीन 16 साल अंग्रेजों की जेल में बिताए थे महान गदरी सोहन सिंह भकना ने  गदर लहर के हीरो महान क्रांतिकारी बाबा सोहन सिंह भकना  कि जयंती 4 जनवरी 1870 पर लाल सलाम .. अमेरिक ...

  • किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी

    किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी

    किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी किताबें करती हैं बातें बीते ज़मानों की दुनिया की, इंसानों की आज की, कल की एक-एक पल की ख़ुशियों की, ग़मों की फूलों की, बमों की जीत की, हार की प ...

  • “भीड़ मर गयी गैलीलियो नहीं मरा”

    “भीड़ मर गयी गैलीलियो नहीं मरा”

    "भीड़ मर गयी गैलीलियो नहीं मरा" हम सब को बहुत गुस्सा आता है जब हम पढते हैं कि किस तरह क्रूर ईसाई धर्मान्धों ने गैलीलियो को जिंदा जला दिया था। गैलीलियो का गुनाह क्या था? उसने सच बोल ...

  • सबसे खतरनाक होता है, हमारे सपनों का मर जाना

    सबसे खतरनाक होता है, हमारे सपनों का मर जाना

    सबसे खतरनाक होता है, हमारे सपनों का मर जाना #Pash मेहनत की लूट सबसे ख़तरनाक नहीं होती पुलिस की मार सबसे ख़तरनाक नहीं होती ग़द्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे ख़तरनाक नहीं होती बैठे-बिठा ...

बाबा सोहन सिंह भकना एक महान क्रान्तिकारी

बाबा सोहन सिंह भकना एक महान क्रान्तिकारी

जवानी के बेहतरीन 16 साल अंग्रेजों की जेल में बिताए थे महान गदरी सोहन सिंह भकना ने  गदर लहर के हीरो महान क्रांतिकारी बाबा सोहन सिंह भकना  कि जयंती 4 जनवरी 1870 पर लाल सलाम .. अमेरि ...

Read More »
किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी

किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी

किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी किताबें करती हैं बातें बीते ज़मानों की दुनिया की, इंसानों की आज की, कल की एक-एक पल की ख़ुशियों की, ग़मों की फूलों की, बमों की जीत की, हार की ...

Read More »
“भीड़ मर गयी गैलीलियो नहीं मरा”

“भीड़ मर गयी गैलीलियो नहीं मरा”

"भीड़ मर गयी गैलीलियो नहीं मरा" हम सब को बहुत गुस्सा आता है जब हम पढते हैं कि किस तरह क्रूर ईसाई धर्मान्धों ने गैलीलियो को जिंदा जला दिया था। गैलीलियो का गुनाह क्या था? उसने सच बो ...

Read More »
सबसे खतरनाक होता है, हमारे सपनों का मर जाना

सबसे खतरनाक होता है, हमारे सपनों का मर जाना

सबसे खतरनाक होता है, हमारे सपनों का मर जाना #Pash मेहनत की लूट सबसे ख़तरनाक नहीं होती पुलिस की मार सबसे ख़तरनाक नहीं होती ग़द्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे ख़तरनाक नहीं होती बैठे-बिठ ...

Read More »
साम्राज्यवाद के खिलाफ लड़ने वाला एक महान क्रांतिकारी योद्धा – ओमर मुखतार

साम्राज्यवाद के खिलाफ लड़ने वाला एक महान क्रांतिकारी योद्धा – ओमर मुखतार

  साम्राज्यवाद के खिलाफ लड़ने वाला एक महान क्रांतिकारी योद्धा - ओमर मुखतार ओमर मुख़्तार ने कहा "मैने तुमसे ज़िन्दगी की कोई भीख ऩही मांगी दुनिया वालों से ये न कह देना के तुमसे इस कम ...

Read More »
पद्मावती- ईमानदारी से इतिहास को दिखाने से डरती फ़िल्म

पद्मावती- ईमानदारी से इतिहास को दिखाने से डरती फ़िल्म

  आज जिन आलीशान महलों पर राजपूत गर्व करते नही थकते कभी सोचा है इन आलीशान किलो, महलों, बावड़ियों को मजदूरों मतलब दलितो ने ही बनाया है कितनी पीढियां खप गयी इन किलों, महलों को बन ...

Read More »
अभिव्यक्ति पर खतरे और प्रेस दिवस  

अभिव्यक्ति पर खतरे और प्रेस दिवस  

राष्ट्रीय प्रेस दिवस। यानि मीडिया को अपनी जिम्मेदारी और निष्पक्षता की याद दिलाने वाला दिन। यूं तो मीडिया का अर्थ मीडियम या माध्यम होता है यानि समाज के विभिन्न वर्गों, सत्ता केन्द् ...

Read More »
मोदी जी के नाम खुला खत

मोदी जी के नाम खुला खत

आपको इतिहास में अमर होने की जबरदस्त चाहत है। इसीलिए आपने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, स्वच्छता अभियान जैसे अभियान चलाए लेकिन दूसरी तरफ पूंजीपतियों के फायदे के लिए आपने अपनी लोकप्रियता को ...

Read More »
शहीद-ए-आज़म भगत सिंह और इंक़लाब

शहीद-ए-आज़म भगत सिंह और इंक़लाब

शहीद-ए-आज़म भगत सिंह और इंक़लाब         23 मार्च 1931 भारत की क्रांति के  इतिहास का वो ऐतिहासिक दिन है जिस दिन इंग्लैंड की साम्राज्यवादी सरकार ने साम्राज्यवादी इंग्लैंड के खिलाफ भा ...

Read More »
भगत सिंह – कितने दूर कितने पास

भगत सिंह – कितने दूर कितने पास

भगत सिंह हमारी राष्ट्रीय चेतना में कितने गहरे बसे हैं इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि धुर दक्षिणपंथी दलों से लेकर धुर वामपंथी दलों तक उन्हें अपना नायक बनाने और उनसे अपन ...

Read More »
scroll to top