Thursday , 19 July 2018

Category: खबर खास

Feed Subscription

खास खबर यानि की स्पेशल स्टोरी विशेष समाचार लेख आदि।

  • कबीर- धार्मिक आंडम्बरो के खिलाफ लङने वाले महान समाज सुधारक

    कबीर- धार्मिक आंडम्बरो के खिलाफ लङने वाले महान समाज सुधारक

    कबीर- धार्मिक आंडम्बरो के खिलाफ लङने वाले महान समाज सुधारक विभिन्न साक्ष्यों और विद्वानों के मतानुसार यह ज्ञात होता है कि कबीर अनपढ़ थे, अतः उन्होंने स्वयं कोई भी रचना लिपिबद्ध नहीं ...

  • मा. सतबीर – गायकी में भी मास्टरी थी मास्टर जी की

    मा. सतबीर – गायकी में भी मास्टरी थी मास्टर जी की

    आज की पीढ़ी को पंडित लख्मीचंद को देखना नसीब नहीं हुआ क्योंकि वह बहुत पहले अपना सबकुछ आने वाली पीढियों को समर्पित करके जा चुके हैं लेकिन पुरानी के साथ आज की पीढ़ी पंडित लख्मीचंद, मा ...

  • 2 अप्रैल भारत बंद – एक मूल्यांकन

    2 अप्रैल भारत बंद – एक मूल्यांकन

    2 अप्रैल भारत बंद - एक मूल्यांकन 2 अप्रैल को हुआ "भारत बंद" जिसमे दलित-आदिवासी एकता मजबूत नजर आयी। बहुमत आदिवासी और दलित जातियां इस बन्द में शामिल रही। इसके साथ ही देश के प्रगतिशील ...

  • खत्म होता लोकतंत्र

    खत्म होता लोकतंत्र

    माफ कीजिएगा आज बड़ा मजबूर होकर के लिखना पड़ रहा है कि हमारे देश के बड़े नामचीन पत्रकारों, संपादको ने अपनी आत्मा अपने संस्थान के मालिकों के पास गिरवी रख दी है नही तो यह ख़बर आपको इस पोस ...

कबीर- धार्मिक आंडम्बरो के खिलाफ लङने वाले महान समाज सुधारक

कबीर- धार्मिक आंडम्बरो के खिलाफ लङने वाले महान समाज सुधारक

कबीर- धार्मिक आंडम्बरो के खिलाफ लङने वाले महान समाज सुधारक विभिन्न साक्ष्यों और विद्वानों के मतानुसार यह ज्ञात होता है कि कबीर अनपढ़ थे, अतः उन्होंने स्वयं कोई भी रचना लिपिबद्ध नही ...

Read More »
मा. सतबीर – गायकी में भी मास्टरी थी मास्टर जी की

मा. सतबीर – गायकी में भी मास्टरी थी मास्टर जी की

आज की पीढ़ी को पंडित लख्मीचंद को देखना नसीब नहीं हुआ क्योंकि वह बहुत पहले अपना सबकुछ आने वाली पीढियों को समर्पित करके जा चुके हैं लेकिन पुरानी के साथ आज की पीढ़ी पंडित लख्मीचंद, म ...

Read More »
2 अप्रैल भारत बंद – एक मूल्यांकन

2 अप्रैल भारत बंद – एक मूल्यांकन

2 अप्रैल भारत बंद - एक मूल्यांकन 2 अप्रैल को हुआ "भारत बंद" जिसमे दलित-आदिवासी एकता मजबूत नजर आयी। बहुमत आदिवासी और दलित जातियां इस बन्द में शामिल रही। इसके साथ ही देश के प्रगतिशी ...

Read More »
खत्म होता लोकतंत्र

खत्म होता लोकतंत्र

माफ कीजिएगा आज बड़ा मजबूर होकर के लिखना पड़ रहा है कि हमारे देश के बड़े नामचीन पत्रकारों, संपादको ने अपनी आत्मा अपने संस्थान के मालिकों के पास गिरवी रख दी है नही तो यह ख़बर आपको इस पो ...

Read More »
हरियाणा पुलिस की तानाशाही और दमन के खिलाफ व दलित एक्टिविस्ट संजीव बालू के समर्थन में आवाज बुलंद करो।

हरियाणा पुलिस की तानाशाही और दमन के खिलाफ व दलित एक्टिविस्ट संजीव बालू के समर्थन में आवाज बुलंद करो।

हरियाणा पुलिस की तानाशाही और दमन के खिलाफ व दलित एक्टिविस्ट संजीव बालू के समर्थन में आवाज बुलंद करो।               गांव बालू,  हरियाणा में दलित RTI कार्यकर्ता संजीव को हरियाणा पुल ...

Read More »
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को एक “लाल बदमाश” का खुला पत्र।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को एक “लाल बदमाश” का खुला पत्र।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को एक "लाल बदमाश" का खुला पत्र। आपका ये ब्यान जैसे ही सुना तो रहा नही गया दिल कल से कर रहा है कि आपको जवाब जरूर दुं। आपने विधान सभा से जो बय ...

Read More »
सीएम मनोहर लाल को लाल बदमाशी का जवाब

सीएम मनोहर लाल को लाल बदमाशी का जवाब

हाल ही में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने वामपंथी विचारधारा के लोगों को बदमाश कहकर संबोधित किया है जिसके जवाब में मार्क्सवादी पार्टी के एक साधारण सदस्य ने सीएम को खुल्ल ...

Read More »
सत्ता और बाज़ार के जाल में फंसता महिलाओं के संघर्षो का प्रतीक “महिला दिवस”

सत्ता और बाज़ार के जाल में फंसता महिलाओं के संघर्षो का प्रतीक “महिला दिवस”

सत्ता और बाज़ार के जाल में फंसता महिलाओं के संघर्षो का प्रतीक "महिला दिवस" एक बार फिर 8 मार्च आ गया है। 8 मार्च जो पूरे विश्व मे महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है। लगभग पूरे विश् ...

Read More »
मलयालम पत्रिका के बहाने

मलयालम पत्रिका के बहाने

जब कोई स्त्री बच्चे को स्तनपान कर रही होती है तो उसमें सिर्फ़ माँ दिखती है, और उस माँ को सिर्फ़ अपने बच्चे की भूख। हालांकि दूध पिलाती स्त्री के लिए सिर्फ़ श्रद्धा भाव ही मन में आता ह ...

Read More »
हिंदुस्तानः एक स्वार्थी लोगों का मुल्क 

हिंदुस्तानः एक स्वार्थी लोगों का मुल्क 

भारत में अनेको धर्मों, जातियों के लोग हैं। यहां अनेकों तरह की मान्यताएं प्रचलित है। विभिन्न धर्मों के लोग यहां रहते ही नहीं वे अपने तमाम तरह के त्योहार भी बड़ी आजादी के साथ मनाते ...

Read More »
scroll to top