Tuesday , 21 August 2018

Category: शख्सियत खास

Feed Subscription

शख्सियत खास सेक्शन में चर्चित हस्तियों का जिक्र हो रहा है जिन्होंने अपने बूते पर एक मुकाम हासिल किया है। सेलिब्रिटी सेक्शन आप इसे कह सकते हैं।

  • मा. सतबीर – गायकी में भी मास्टरी थी मास्टर जी की

    मा. सतबीर – गायकी में भी मास्टरी थी मास्टर जी की

    आज की पीढ़ी को पंडित लख्मीचंद को देखना नसीब नहीं हुआ क्योंकि वह बहुत पहले अपना सबकुछ आने वाली पीढियों को समर्पित करके जा चुके हैं लेकिन पुरानी के साथ आज की पीढ़ी पंडित लख्मीचंद, मा ...

  • बलवन्त सिंह आजाद – एक गुमनाम योद्धा

    बलवन्त सिंह आजाद – एक गुमनाम योद्धा

    बलवन्त सिंह आजाद - एक गुमनाम योद्धा                     पिछले दिनों राजस्थान में संगरिया, हनुमानगढ़ के पास गया हुआ था एक दोस्त से मिलने। दोस्त से किसान, मजदूर, महिला मुद्दों पर चर्च ...

  • महर्षि दयानंद – आर्यसमाज के संस्थापक

    महर्षि दयानंद – आर्यसमाज के संस्थापक

    स्वामी दयानन्द सरस्वती। एक सुधारवादी सन्यासी, विद्वान, दार्शनिक और आर्यसमाज के संस्थापक। स्वामी जी का जब भी जिक्र आता है तो हमारी समीक्षक दृष्टि एक बार फिर उस समाज की ओर चली जाती ह ...

  • रविदास  जयंती 2018 – बेगमपुरा शहर का नाउ

    रविदास जयंती 2018 – बेगमपुरा शहर का नाउ

    रविदास  जयंती 2018 (31 जनवरी) - रैदास हिंदी साहित्य के स्वर्णयुग माने जाने वाले भक्तिकाल की एक ऐसी आवाज़ जिसमें कबीर का साहस भी है और तुलसी की नम्रता भी। जो दुत्कार भी पुचकार के सा ...

अमृता प्रीतम – इन्हें जानना ज़रूरत है जिंदगी की

अमृता प्रीतम – इन्हें जानना ज़रूरत है जिंदगी की

अमृता प्रीतम, एक ऐसी शख्सियत जिन से आप सभी बखूबी परिचित होंगे, और अगर नहीं है ..तो सच मानिए ...इन्हें जानना ज़रूरत है जिंदगी की। अमृता एक देह नहीं, एक आत्मा है जो हर एक औरत के दिल ...

Read More »
पाकिस्तान की मशाल को सलाम

पाकिस्तान की मशाल को सलाम

पाकिस्तान में "वली खान यूनिवर्सिटी" के छात्र नेता व पत्रकारिता विषय के छात्र कामरेड मशाल खान की उसी यूनिवर्सिटी के धार्मिक आंतकवादी छात्रों द्वारा की गयी निर्मम हत्या पाकिस्तान, भ ...

Read More »
सावित्रीबाई फुले – नारी आंदोलन की मशाल भी मिसाल भी

सावित्रीबाई फुले – नारी आंदोलन की मशाल भी मिसाल भी

काम करो-ज्ञान और धन इकट्ठा करो ज्ञान के बिना सब खो जाता है, ज्ञान के बिना हम जानवर बन जाते है इसलिए, खाली ना बैठो,जाओ, जाकर शिक्षा लो दमितों और त्याग दिए गयों के दुखों का अंत करो, ...

Read More »
दबे कुचले लोगों का  “प्रभात”

दबे कुचले लोगों का “प्रभात”

आज हरियाणा के मजदूर आंदोलन के जुझारू और अगवा नेता दिवगंत साथी कामरेड प्रभात सिंह की जयंती है। 47 वर्ष की कम उम्र में 24 अक्टूबर 2008 को एक सड़क दुर्घटना ने हमसे एक लोकप्रिय साथी को ...

Read More »
ओमपुरी – नहीं रहा आम आदमी का खास हीरो

ओमपुरी – नहीं रहा आम आदमी का खास हीरो

वे कुछ ही दिन पहले किसी कार्यक्रम में कह रहे थे कि अमिताभ बच्चन अगर काम से छुट्टी ले लें तो सबसे ज्यादा फायदा मुझे होगा। जी हां ये हसरत रखने वाले ओमपुरी इस हसरत को अपने में समेट क ...

Read More »
चौधरी चरण सिंह जयंती – जानें चौधरी चरण सिंह का हरियाणा कनेक्शन

चौधरी चरण सिंह जयंती – जानें चौधरी चरण सिंह का हरियाणा कनेक्शन

  आज पूरा देश किसान दिवस मना रहा है। यह अलग बात है कि किसानों की दुर्दशा आज किसी से छुपी नहीं है। लेकिन ऐसे विकट समय में ही आज के नेता चौधरी छोटूराम व चौधरी चरण सिंह जैसे नेताओं स ...

Read More »
क्या अम्बेडकर बुतों, तस्वीरों और गले में पड़े ताविजो में है?

क्या अम्बेडकर बुतों, तस्वीरों और गले में पड़े ताविजो में है?

-उदय चे 6 दिसम्बर 1956 को देश के मजदूर, किसान, दलित, पिछड़े, महिला और उपेक्षित आवाम के लिए लड़ने वाले योद्धा "डॉ भीम राव अम्बेडकर" न चाहते हुए भी लड़ाई को अंतिम समय तक लड़ते हुए पीड़ित ...

Read More »
पंडित मांगे राम – आज ही मिले थे गंगा जी के खेत में

पंडित मांगे राम – आज ही मिले थे गंगा जी के खेत में

हरियाणा सिर्फ एग्रीकल्चर ही नहीं बल्कि कल्चर की भी महान विरासत को संजोए हुए है... हरियाणवी संस्कृति की इस महान विरासत का हिस्सा हैं हमारे लोकनाट्य..... यानि सांग और सांगों से जुड़ ...

Read More »
रामायण के रचयिता ब्राह्मण या भील

रामायण के रचयिता ब्राह्मण या भील

महर्षि वाल्मीकि जी की जयंती के नजदीक आते ही तमाम नेता उन्हें याद करने लगते हैं... जयंती के दिन अखबारों में बड़े-बड़े विज्ञापन प्रकाशित किये जाते हैं। समारोह का आयोजन किया जाता है. ...

Read More »
हम भी आराम उठा सकते थे घर पर रह कर

हम भी आराम उठा सकते थे घर पर रह कर

यह पंक्तियां शहीद भगतसिंह को बहुत प्रिय थीं और वे अक्सर इनको गुनगुनाया करते थे ‘हमको भी मां बाप ने पाला था दुख सह सह कर हम भी आराम उठा सकते थे घर पर रह कर वक्ते रुखसत इतना भी न आए ...

Read More »
scroll to top