Friday , 24 November 2017

Home » खबर खास » 15 दिन से मंडी में पड़ा है धान… नहीं कोई खरीददार

15 दिन से मंडी में पड़ा है धान… नहीं कोई खरीददार

October 12, 2016 10:03 pm by: Category: खबर खास, खेती खास Leave a comment A+ / A-

dhan-ki-khareed-2

धान की फसल लगभग सभी किस्में अब कटाई के लिये तैयार हैं लेकिन जिन किसानों ने अगेती फसल लगाई हुई थी वे अपनी फसल को मंडियों तक पंहुचा चुके हैं। लेकिन किसानों को अब डर सताने लगा है कि समय पर फसल की खरीद नहीं हुई तो क्या होगा? उनकी दिवाली कैसे मनेगी? दरअसल पिछले 15 दिनों से किसान मंडियों में बैठे हैं लेकिन कोई फसल खरीदने को तैयार ही नहीं है।

बस अब ओर सब्र नहीं होता………

अनाज मंडी में फसलों की खरीद न होने पर नम आंखों से किसानों ने कहा कि बस अब और सब्र नहीं होता। किसी दूसरी अनाज मंडी में जाकर धान बेचेंगे, क्योंकि अपना घर बार छोड़कर दिन रात खुले आसमान के नीचे धान बेचने के लिए बैठे है, लेकिन उनकी तरफ किसी की नजर ही नहीं पड़ रही है। अगर पड़ती है तो कम रेट पर फसलों को लूटने के लिए। साफ सूखी फसलों में कई प्रकार की कमियां गिनवाई जाती है। अगर जांच करने को कहते है तो आगे चल देते है। किसान पीछे-पीछे मिन्नतें करते रहते है, लेकिन कोई असर नहीं होता है। इसलिए अब मजबूरी में 15 दिनों के लंबे इंतजार के बाद दूसरी मंडियों में फसल बेचने के लिए जाना पड़ रहा है। किसानों का कहना है कि दोबारा फसलों को ट्रालियों में भरवाने पर किसानों पर बेवजह का बोझ बढ़ रहा है। भाजपा सरकार ने किसानों को अच्छे दिनों के सपने दिखाकर वोट ली थी, क्या यहीं है किसानों के अच्छे दिन, जहां उनकी फसलें नहीं बिक रही है।

dhan-ki-khareed

भाकियू ने जड़ा खाद्य आपूर्ति विभाग के कार्यालय पर ताला

ढांड मंडी में तो धान की बेकद्री पर धरतीपुत्रों व भाकियू के सब्र का बांध आखिरकार टूट ही गया। गुस्साए किसानों ने भारतीय किसान यूनियन के झंडे तले खाद्य आपूर्ति विभाग के कार्यालय के बाहर ताला जड़ दिया और धान की होली जलाई। किसानों ने चेतावनी दी है कि अगर अनाज मंडी में पड़ी धान की सभी ढेरियों को समर्थन मूल्य पर नहीं खरीदा गया तो भाकियू ढांड मार्किट कमेटी कार्यालय के बाहर अनिश्चितकालीन धरना देगी, जिसकी सारी जिम्मेवारी सरकार व प्रशासन की होगी।

किसान नेताओं ने कमेटी अधिकारियों व मिलरों की सांठगांठ का आरोप लगाते हुए कहा कि इनकी मिलीभगत से कम भाव पर फसल खरीद किसानों को सरेआम चूना लगाया जा रहा है। ढांड मंडी में कम मात्रा में धान खरीदकर कागजों में अधिक दिखाई जा रही है, जो कि बाहर की मंडियों से कम भाव पर धान खरीदकर सरकार को समर्थन मूल्य पर बेचा जा रहा है। सरकार का किसान विरोधी चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है।

krishan-parjapati

हरियाणा खास के लिये पूंडरी से कृष्ण प्रजापति की रिपोर्ट


खेती बाड़ी संबंधी अन्य लेख पढ़ें

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना – किसानों का नफा या नुक्सान

ढ़ाबी खुर्द में लगाया गया किसान प्रशिक्षण शिविर

 देश के विकास का रास्ता खेतों से होकर गुज़रता है

 

15 दिन से मंडी में पड़ा है धान… नहीं कोई खरीददार Reviewed by on . धान की फसल लगभग सभी किस्में अब कटाई के लिये तैयार हैं लेकिन जिन किसानों ने अगेती फसल लगाई हुई थी वे अपनी फसल को मंडियों तक पंहुचा चुके हैं। लेकिन किसानों को अब धान की फसल लगभग सभी किस्में अब कटाई के लिये तैयार हैं लेकिन जिन किसानों ने अगेती फसल लगाई हुई थी वे अपनी फसल को मंडियों तक पंहुचा चुके हैं। लेकिन किसानों को अब Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top