Sunday , 17 December 2017

Home » खबर खास » धार्मिक आंतकवाद लोगो को आदमखोर बनाता हुआ।

धार्मिक आंतकवाद लोगो को आदमखोर बनाता हुआ।

December 8, 2017 1:10 pm by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

 

भारत में ही नही पुरे विश्व मे जब भी मेहनतकश मानव मुक्ति के लिए एकजुट होना शुरू करता है तो सामंतवादी, पूंजीवादी लुटेरी मण्डली धर्म-जात-इलाका औऱ अंधराष्ट्रवाद के नाम पर लोगों को बांटने का काम करती है। अल्पसंख्यको, दलितो, आदिवासियों को दुश्मन के तौर पर बहुसंख्यक आबादी के सामने पेश करती है और अल्पसंख्यको, दलितो, आदिवासियों पर हमले करने के लिए बहुसंख्यक आबादी को तैयार करती है। पूरी दुनिया में साम्राज्यवादी सत्ताएँ पिछले दरवाजे से इनको संचालित करती है। तालिबान, अलक़ायदा, isisi, भारत मे हिंदुत्वादी आंतकवादी इन सब के पीछे साम्राज्यवादी खेमा मजबूती से खड़ा है। जो इनको फंडिंग करता है।

राजस्थान के राजसमंद में एक धार्मिक आंतकवादी ने जिस प्रकार से एक बुजर्ग मजदूर को धोखे से काम के लिए बुलाकर उसकी निर्ममता से हत्या की गई। उसकी पीठ पर वार किया गया। उसके अंगों को बड़ी बेहरमी से काटा गया फिर उसको जलाया गया। उसके बाद जिस निडरता से कातिल ने कत्ल करने के पिछे का राज बताया, हत्या को जायज ठहराने के लिए जिस प्रकार कातिल ने महाराणा प्रताप को कोट किया, जय मेवाड़, जय भारत, जय हिंद का नारा दिया। मन्दिर में वीडियो को बनाना औऱ भगवा रंग, ये सब उस धर्म के जहर का असर है जिसे धीरे-धीरे हिंदुत्व की सिरिंज से चढ़ाया गया है। ऐसे लोगो को आदमखोर जानवर धीरे-धीरे हिंदुत्ववादी आंतकवादियो ने बनाया है। कोई भी इन्सान या समाज आदमखोर एक दम नही बन जाता इसके लिए धार्मिक आंतकवादी बहुत लंबे समय से काम कर रहे होते है।

 

भारत की आजादी के आंदोलन में जहाँ बहुत बड़ा तबका देश को आजाद करवाने के लिएअंग्रेजो के खिलाफ मजबूती से लड़रहा था। शहीद भगत सिंह और उसके साथियों ने देश की ही नही, पूरी मानव जाति की आजादी के लिए 1928 में जहाँ हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन (HSRA) का गठन किया। जिसने मानव मुक्ती के लिए संघर्ष का आह्वान किया। वही दूसरी तरफ भारत में अंग्रेजो की मद्दत से आजादी के आन्दोलन और HSRA के खिलाफ मुस्लिम और हिंदुत्वादी संघठनो को मजबूत किया गया। जिनका मुख्य एजेंडा ही मानव मुक्ति के संघर्ष की बुनियाद मेहनतकश आवाम की एकता को तोड़ने के लिए भारतीय समाज में धर्म-जात-इलाका के नाम परलोगो को बांटना था। इस मुहिम में वो कामयाब भी रहे। गोड़से जिसको धर्म के जहर ने धीरे-धीरे आदमखोर जानवर बनाया। इस आदमखोर जानवर का सहारा लेकर इसके आकाओं ने महात्मा गांधी की हत्या करवाई। महात्मा गांधी की हत्या इसी हिंदुत्वादी आंतकवादी लाइन द्वारा की गई हत्या थी। बाबरी मस्जिद को तोड़ने की, बम्बई, गुजरात, गन्धमालके दंगे हो या प्रगतिशील बुद्विजीवियों, कलाकारो, छात्रों, मजदूर नेताओं, लेखकों, पत्रकारो की हत्याये ये सब धार्मिक आतंकवादियों द्वारा अपने आकाओं के इशारे पर की गयी कार्यवाईयाँ है।

एक आदमी जान-बूझकर, सोच-समझकर अपने हाथों से हत्या करता है और उसके चेहरे पर शिकन तक नहीं है। ये धार्मिक पागलपन हैऔऱ ये कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी यहाँ दलितो, मुश्लिमो, सिखों व आदिवासियों के नरसंहार हुए है। बस वीडियो अब बनने लगे है। हरियाणा के झज्झर जिले के दुलीना में 5 दलितो को इसलिए जिंदा जला दिया गया था क्योकि वो मरे हुए पशुओं को उठाकर उनकी खाल उतारने का काम करते थे। उस दिन भी वो मरी हुई गायों की खाल उतार कर अपने घर जा रहे थे। इस काम का उनके पास सरकारी मंजूरी भी थी लेकिन आदमखोरों ने उनको घेर लिया और धर्म के नाम पर जिंदा जला दिया। ऐसे ही मिर्चपुर में अंधे बुजर्ग ओर उसकी अपँग बेटी को भीड़ ने जला दिया था। दादरी के अखलाक, जुनैद औऱ अलवर के पास हुई किसान पहलू खान की इन आदमखोरों द्वारा हत्याये इसी धार्मिक जहर का असर है। लेकिन जब ये आदमखोर जानवर अपना शिकार करते है तो बाकी आवाम की चुप्पी ये साबित करती है कि आप भी इस धर्म के जहर के प्रभाव में वहसी दरिंदे बनने की तरफ बढ़ रहे हो। धार्मिक आंतकवादी इन सभी हत्यायों के बाद जश्न मनाते है हत्या के पक्ष में दलील देते है और हत्यारों को समान्नित करते है। आप ऐसे धार्मिक आतंकवादियों के समर्थन में जय जयकार करते हो या चुप रहते हो।आपकी जय जयकार या चुप्पी आपकी आने वाली नश्लो को आदमखोर जानवर बना देगी। फिर इंसानी बस्ती होने की बजाए आदमखोरों की बस्ती होगी। उस समय इंसानी मूल्य, सिंद्धान्त, मानवता सब खत्म हो जायेगें। इसलिए अभी भी समय है अगर हमे इंसानी सभ्यता को बचाना है तो खुद के धर्म के इन धार्मिक आंतकवादियो का नाश करना पड़ेगा। धर्म-जात-इलाका से ऊपर उठकर हमे मेहनतकश आवाम की एकता स्थापित करनी होगी। क्योकि लुटेरी मण्डली का ये सारा खेल ही इस एकता को तोड़ने के लिए है। भारत में ही नही पुरे विश्व मे जब भी मेहनतकश मानव मुक्ति के लिए एकजुट होना शुरू करता है तो सामंतवादी, पूंजीवादी लुटेरी मण्डली धर्म-जात-इलाका औऱ अंधराष्ट्रवाद के नाम पर लोगों को बांटने का काम करती है। अल्पसंख्यको, दलितो, आदिवासियों को दुश्मन के तौर पर बहुसंख्यक आबादी के सामने पेश करती है और अल्पसंख्यको, दलितो, आदिवासियों पर हमले करने के लिए बहुसंख्यक आबादी को तैयार करती है। पूरी दुनिया में साम्राज्यवादी सत्ताएँ पिछले दरवाजे से इनको संचालित करती है। तालिबान, अलक़ायदा, isisi, भारत मे हिंदुत्वादी आंतकवादी इन सब के पीछे साम्राज्यवादी खेमा मजबूती से खड़ा है। जो इनको फंडिंग करता है।

बहुत पहले हॉलीवुड की एक फ़िल्म रॉंग टर्न फ़िल्म देखी थी। रॉंग टर्न का मतलब होता है “गलत रास्ता”

इस फ़िल्म कि कई सीरीज मार्किट में आई। ये सभी सीरीज इतनी डरावनी औऱ हॉरर थी कि अकेलाआदमी सायद न देख सके। फ़िल्म में कहानी ये है कि कुछ वज्ञानिक गरीब लोगों पर बिना सरकार कीइजाजत लिए दवाइयों का प्रयोग करते है। ऐसी दवाइयों का प्रयोग जो मानव हित मे न होकर मानव की बर्बादी की तरफ जाता है। जिन इंसानो ओर ये प्रयोग किये जाते है वो सब उन दवाइयों के कारण विकृत हालात ने चले जाते है वो आदमखोर बन जाते है। वो उस प्रयोगशाला से इन सभी को मार कर भाग जाते है। अब वो आदमखोर जहां भी जाते है। वहाँ-वहाँ वो मानव जाति का सर्वनाश करते है उनको खा जाते है। अब वो जंगल मे रहते है जहाँ रहते है वहाँ आस-पास वो मानव जाति को खत्म कर देते है। अब कोई भी शख्स गलती से रास्ता भूल कर उनकी बस्ती की तरफ चल जाता है तो उस इंसान का खात्मा वो बड़ी बेहरमी से कर देते है जैसे कुल्हाड़ी, दरातसे काट देना जैसे लकड़ी को काटा हो। उस फिल्म को देख कर जो मेरी समीक्षा बनी वो ये थी की वो सभी आदमखोर मानवता के लिए इतना बड़ा खतरा नही है न वो बड़े दोषी है। लेकिन वो आदमखोर बन चुके है तो उनका इलाजजरूरी है। लेकिनसबसे बड़ा खतरा वो डॉ या वज्ञानिक है जिन्होंने अपने फायदे के लिए साधारण इंसानो को आदमखोर बनाया। उनका खात्मा सबसे ज्यादा जरूरी है ताकि नए आदमखोर पैदा होने से समाज को बचाजा सके। हमें इन्हें देखकर निराश नहीं होना है। उम्मीद अब भी बची हुई है, हम ये सब रोक सकते हैं। वक्त रहते कुछ लिख-पढ़ लें, अपनी सोच का दायरा बढ़ा लें, लोगों से बात करें, तोइस पागलपन को हम आसानी से रोक देंगे। 

राजसमंद की इस घटना को टाला जा सकता था अगर समय रहते ऐसे आदमखोर की पहचान हो जाती तो उसका समय पर इलाज करवाया जा सकता था। इसलिए आज आप अपने आस-पास ऐसे धार्मिक आंतकवादियो की पहचान कीजिये जो साधारण इंसानो को धर्म के नाम पर वहसी जानवर बना रहे है, मानव बम बना रहे है। ऐसे आतंकवादियों को जितना जल्दी खदेड़ दोगे आप खुद को और मानव जाति के वर्तमान व भविष्य को सुरक्षित बना पाओगे। मानवता के लिए आज सबसे बड़ा दुश्मन साम्रज्यवाद, उसके दलाल धार्मिक आंतकवादी औरये आदमखोर जानवर है। मानव सभ्यता बचाने औऱ मानव मुक्ति के लिए मेहनतकश आवाम का पहला काम इन तीनों ताकतों का सफाया करना जरूरी है।

UDay Che

 

 

लेखक परिचय
उदय चे स्वतंत्र लेखक हैं एवं सक्रिय सामाजिक कार्यकर्ता हैं। दलित एवं पीड़ितों के हक की आवाज़ के लिये अपने संगठन के माध्यम से उठाते रहते हैं। उदय चे हिसार के हांसी में रहते हैं।

नोट:- प्रस्तुत लेख में दिये गये विचार या जानकारियों की पुष्टि हरियाणा खास नहीं करता है। यह लेखक के अपने विचार हैं जिन्हें यहां ज्यों का त्यों प्रस्तुत किया गया है। लेख के किसी भी अंश के लिये हरियाणा खास उत्तरदायी नहीं है।

 

धार्मिक आंतकवाद लोगो को आदमखोर बनाता हुआ। Reviewed by on .   भारत में ही नही पुरे विश्व मे जब भी मेहनतकश मानव मुक्ति के लिए एकजुट होना शुरू करता है तो सामंतवादी, पूंजीवादी लुटेरी मण्डली धर्म-जात-इलाका औऱ अंधराष्ट्र   भारत में ही नही पुरे विश्व मे जब भी मेहनतकश मानव मुक्ति के लिए एकजुट होना शुरू करता है तो सामंतवादी, पूंजीवादी लुटेरी मण्डली धर्म-जात-इलाका औऱ अंधराष्ट्र Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top