Saturday , 21 October 2017

Home » तीज तयोहार » फल्गुतीर्थ उत्सव के रंग में डूबा फरल

फल्गुतीर्थ उत्सव के रंग में डूबा फरल

September 19, 2016 1:40 am by: Category: तीज तयोहार Leave a comment A+ / A-

faral

तीज-त्योंहार हो, मेले हो, या फिर कोई उत्सव… हरियाणा की कला का रंग हर कला-प्रेमी की अपने में यूं समेट लेता है जैसे दूध में घुली मिशरी हो… जी हां, कुछ ऐसा ही मनमोहक और मिठास भरा नजारा दिखाई दिया फरल में आयोजित फल्गुतीर्थ उत्सव में…  बता दें कि फरल में स्थित फल्गुतीर्थ पर श्राद्ध पक्ष में होने वाले स्नान, पिंडदान और इसकी पौराणिक प्रसिद्धी को देखते हुए फल्गु उत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसका शुभारंभ शनिवार को सुबह यज्ञ के साथ किया गया।

इस कार्यक्रम में मुख्य यजमान के रूप में फल्गु मंदिर व धर्मशाला के संरक्षक सुभाष गर्ग एवं अजय गर्ग ने भाग लिया, जिसके दौरान शाम 7 बजे आरती व सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया। जिसमें हिसार व रोहतक से कलाकारों ने भाग लिया। हरियाणा कला परिषद द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में कलाकारों द्वारा दर्शकों को गीत, संगीत व नृत्य के माध्यम से जहां हरियाणवीं संस्कृति से परिचित करवाया गया तो वहीं रोहतक से देवेंद्र वर्मा व आशिष कौशिक ने भजनों किर्तन के माध्यम से माहौल को भक्तिमय बना दिया।

शनिवार की सुहानी संध्या में मुख्य रूप से सरपंच प्रतिनिधि बलदेव सिंह एवं डा. खुशबीर कौशिक ने शिरकत की तो वहीं हरियाणा कला परिषद के निदेशक अजय कुमार सिंघल ने हरियाणा की संस्कृति से लोगों को परिचित करवाया और प्राचीन परंपराओं से अवगत करवाया। इस अवसर पर स्वामी रविगिरी जी महाराज भी मौजूद थे। कार्यक्रम के दौरान तीर्थ के पुरोहित जयगोपाल शर्मा ने बताया कि श्राद्ध पक्ष के दौरान तीर्थ का महत्व बढ़ाने के लिए हर साल इस प्रकार के आयोजन करवाए जाऐंगे।

-पूंडरी से पत्रकार कृष्ण प्रजापति की खास रिपोर्ट

फल्गुतीर्थ उत्सव के रंग में डूबा फरल Reviewed by on . तीज-त्योंहार हो, मेले हो, या फिर कोई उत्सव... हरियाणा की कला का रंग हर कला-प्रेमी की अपने में यूं समेट लेता है जैसे दूध में घुली मिशरी हो... जी हां, कुछ ऐसा ही तीज-त्योंहार हो, मेले हो, या फिर कोई उत्सव... हरियाणा की कला का रंग हर कला-प्रेमी की अपने में यूं समेट लेता है जैसे दूध में घुली मिशरी हो... जी हां, कुछ ऐसा ही Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top