Sunday , 22 October 2017

Home » खबर खास » गुरमेहर कौर – मैं अकेला ही दिया हूं मत बुझाओ, जब मिलेगी रोशनी मुझसे ही मिलेगी

गुरमेहर कौर – मैं अकेला ही दिया हूं मत बुझाओ, जब मिलेगी रोशनी मुझसे ही मिलेगी

March 1, 2017 2:45 pm by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

सोशल मीडिया और खबरिया चनलों पर गुरमेहर कौर पर लम्बी चौड़ी बहस छिड़ी है यंहां तक कि बड़े बड़े नेताओं किरिन रिजीजू ,राजनाथ सिंह , वेंकैया नायडू , राहुल गाँधी , अरविन्द केजरीवाल , स्वाति मालीवाल ,क्रिकेटर वीरेंदर सहवाग और एक्टर रणदीप हुडा तक ने अलग-अलग तरह से गुरमेहर को ताने कसे या समर्थन दिया आखिर गुरमेहर ने ऐसा क्या कर डाला कि वह रातों-रात पूरे देश में चर्चित हो गई ?

मामला ये है कि डी यू के रामजस कॉलेज में होने वाली एक गोष्ठी में जे एन यु के छात्र उमर खालिद को आमंत्रित किया था| अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् ने जानकारी मिलते ही इसका जमकर विरोध किया , इस तरह छात्र संगठनों में झड़प हुई |

पुलिस ने छात्रों पर लाठी चार्ज किया , गुरमेहर ने इसका विरोध करते हुए यह कह दिया कि वह सिर्फ छत्रों कि आवाज उठा रही हैं उनके अपने मित्र भी इसमें घायल हुए हैं |

गुरमेहर ने फेसबुक पर लिखा – मैं डी यू कि स्टूडेंट हूँ | मैं एबीवीपी से नहीं डरती मैं अकेली नहीं हूँ, देश का हर छात्र मेरे साथ है |

   बस , इसके बाद गुरमेहर को राष्ट्रविरोधी करार दिया गया सोशल मीडिया पर उसको रेप करने व जान से मारने तक कि धमकियाँ मिलनी शुरु हो गई | केन्द्रीय मंत्री किरण रिजीजू ने कहा कि इस युवा छात्रा का दिमाग कौन खराब कर रहा है ? गुरमेहर कारगिल के शहीद कैप्टन मंदीप सिंह कि बेटी है और उस समय केवल दो वर्ष की थी जब उसके पिता शहीद हूए, उसने अपने विडीओ में पोस्टर के मध्यम से कहा कि उसके पिता को पाकिस्तान ने नहीं बल्कि जंग ने मारा | इसके साथ ही उसने भारत पाक के बिच शान्ति कि अपील भी की इसी विडीओ पर क्रिकेटर वीरेंदर सहवाग ने मजाक उड़ाते हुए कहा कि मैंने तिहरे शतक नहीं लगाए मेरे बल्ले ने लगाए हैं ! रविशंकर प्रसाद ने कहा कि बोलने कि आजादी से राष्ट्र विरोधी होने का सर्टिफिकेट नहीं मिल जाता | इस तरह फिर से बोलने कि आज़ादी और असहिष्णुता पर बहस छिड गई है | राहुल गाँधी ,केजरीवाल , गीता फोगाट जैसे कितने ही लोग गुरमेहर के साथ खड़े दिखे |

     इससे पहले जम्मू कश्मीर कि अभिनेत्री जायरा वाशिम को भी धमकी मिली थी और उसे दबाव में फेसबुक पर ये बात लिखनी पड़ी थी कि उसे रोल मोडल न माने | वह रोल मोडल बनने लायक नहीं है , ना ही उसने ऐसा कुछ किया है | याद रहे जायरा वासिम ने दंगल में गीता फोगत के बचपन कि भूमिका निभाई थी और दसवीं कि परीक्षा में 92 प्रतिशत अंक लिए थे मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने उसे अपने आवास पर बुला कर शाबासी दी थी बस, इससे खफा लोगों ने जायरा को धमकियां दी, बाद में आमिर खान व अनेक लोग उसके समर्थन में आये, आमिर ने यहाँ तक कहा कि जायरा उसकी रोल मॉडल है |

     गुरमेहर के साथ तो इससे भी ज्यादा बदसलूकी हो रही है भाजपा नेता प्रताप ने उसकी तुलना दाउद से कर दी गुरमेहर ने इतनी आलोचना के बाद फेसबुक पर कहा – मुझे अकेला छोड़ दो | अरे , वही गुरमेहर जो कह रही थी कि देश का हर छात्र मेरे साथ है | अब क्यों कह रही है कि मुझे अकेला छोड़ मैं इस कैम्पेन का हिस्सा नहीं हु | अ भा वि प ने तिरंगा मार्च किया तो वामपंथी छात्रों ने भी इसके विरोध में मार्च निकला | एन एस यू आई के छात्रों ने गुरमेहर के समर्थन में भूख हड़ताल की | गुरमेहर ने वीरेंद्र सहवाग पर नाम लिए बिना जवाब दिया – जिन खिलाडियों के लिए हम जोश में भर कर चिल्लाते हैं और हौंसला बढ़ाते हैं वही ऐसा मज़ाक करते हैं| रिजीजू को भी जबाब दिया कि मेरा दिमाग ठीक है और मैं किसी के कहने पर कुछ नहीं कर रही, मैं एक देश भक्त ,शहीद पिता कि बेटी हूँ और पिता कि तरह सिने पर गोली खा सकती हु | फिर वही गुरमेहर क्यों कह रही है – मुझे अकेला छोड़ दो | मैं कैम्पेन का हिस्सा नहीं हूं |

शायद गुरमेहर एक कवि कि पंक्तियों कि तरह कह रही है

इस सदन में मैं अकेला ही दिया हूं मत बुझाओ , जब मिलेगी रिशनी मुझसे ही मिलेगी

 कमलेश भारतीय

गुरमेहर कौर – मैं अकेला ही दिया हूं मत बुझाओ, जब मिलेगी रोशनी मुझसे ही मिलेगी Reviewed by on . सोशल मीडिया और खबरिया चनलों पर गुरमेहर कौर पर लम्बी चौड़ी बहस छिड़ी है यंहां तक कि बड़े बड़े नेताओं किरिन रिजीजू ,राजनाथ सिंह , वेंकैया नायडू , राहुल गाँधी , अरविन् सोशल मीडिया और खबरिया चनलों पर गुरमेहर कौर पर लम्बी चौड़ी बहस छिड़ी है यंहां तक कि बड़े बड़े नेताओं किरिन रिजीजू ,राजनाथ सिंह , वेंकैया नायडू , राहुल गाँधी , अरविन् Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top