Sunday , 22 October 2017

Home » खबर खास » HIFF 2016 – ‘लाडो’ से शानदार आगाज

HIFF 2016 – ‘लाडो’ से शानदार आगाज

September 8, 2016 9:55 pm by: Category: खबर खास, मनोरंजन खास Leave a comment A+ / A-

hiff-2016

फेस्टीवल कभी मनों का मिलन होते हैं तो कभी-कभी अदब, तहजीब या संस्कृति का भी मेल करा देते हैं, किसी पुराने सिरे से चलकर संस्कृति जब आधुनिक बिंदु पर आती है, तो आते-आते उसका स्वरूप कुछ हद तक बदल जाता है। सालों का अंतर जियादा होगा तो बदलाव में भी एक बड़ा फासला नजर आएगा और समय का अंतराल अगर कम हुआ तो समाज जियादा नहीं बदलता। कुछ ऐसे ही बदले-ठहरे बिंदुओं का आभास कराते हैं मेले, प्रदर्शनियां, लोक कलाओं का बदलता स्वरूप और साहित्य। फिल्मी दुनियां भी इन्हीं में से एक है। फिल्में जब समाज का आईना है तो जाहिर है कि इस आईने में नए पुराने का दर्शन होता रहता है, इन्हीं का मंथन कराते हैं हमारे फिल्म फेस्टीवल।

दरअसल गुरूवार को हरियाणा की सरजमीं पर पहली बार अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टीवल की शुरूआत हुई। हरियाणा की सरजमीं पर पहली बार गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल की शुरुआत गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार के चौ. रणबीर सिंह सभागार में हरियाणा की पहली नेशनल अवार्ड विजेता फिल्म लाडो से हुई। संस्कृति सोसायटी फॉर आर्ट एंड कल्चरल डेवलेपमेंट के बैनर रैंकर्स लीग इन्टरनेशनल फिल्म फेस्टिवल की शुरुआत मुख्य अतिथि के तौर पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. टंकेश्वर कुमार ने दीप प्रज्ज्वलित करके की।

कई चर्चित चेहरों का फेस्टीवल

आपको बता दें कि फेस्टिवल के शुभारंभ कार्यक्रम की अध्यक्षता हिसार रेंज के आईजी ओ.पी. सिंह ने की, तो   वहीं विशिष्ट अतिथि के तौर पर फिल्म लाडो के निर्देशक, नेशनल अवार्ड विजेता व इंडियन फिल्म प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन के सचिव अश्वनी चौधरी, लुवास के वीसी मेजर जनरल श्रीकांत शर्मा, प्रोड्यूसर व डायरेक्टर, सुभाष कुंद्रा, बॉलीवुड कलाकार यशपाल शर्मा, नेशनल अवार्ड विजेता फिल्म पगड़ी के निर्देशक राजीव भाटिया, हरियाणवी फिल्मों की अभिनेत्री सुमित्रा पडनेकर, राजू मान, रवि चौहान व जनार्धन शर्मा प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।वहीं इस फेस्टिवल की शुरुआत में रियाज अकेडमी की तरफ से राष्ट्रीय स्तर की कत्थक नृत्यांगना राखी दूबे जोशी ने अपनी टीम के साथ गणेश वंदना प्रस्तुत करके इसे और भी लुभावना बना दिया। की। इसके बाद हरियाणा युवा सांस्कृति मंच के कलाकारों ने हरियाणा नृत्य की प्रस्तुति दी।

अभिनेता यशपाल शर्मा का आह्वान

यहां उपस्थित फिल्म अभिनेता यशपाल शर्मा ने कहा की पुरे हरियाणा के कलाकार एक साथ मंच पर आयें। उन्होंने कहा कि प्रदेश के लोगों का साथ यूं ही मिलता रहा तो ये आयोजन हर साल इससे भी बड़े स्तर पर किया जायेगा और फिल्मी दुनिया के बड़े-बड़े कलाकारों को इस आयोजन में बुलाया जायेगा। अभिनेता यशपाल ने कलाकारों से हरियाणवी सिनेमा के विकास के लिए काम करने का आह्वान किया। उन्होनें कहा कि कलाकार हरियाणा की संस्कृति, विकास व बोली के लिए काम करें। उन्होनें कहा कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को हरियाणवी फिल्में देखनी चाहिएं ताकि हम अच्छे दर्शकों का विकास कर सकें। वहीं उन्होनें पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा की अभी तो ये हमारा पहला प्रोग्राम है। आगे आने वाले दिनों में इस से भी बड़े-बड़े प्रोग्राम, एक्टर व उम्दा फिल्में लेकर आएंगे, सलमान खान, शहारूख खान, अमिताभ बच्चन सब यहाँ पर होंगे। हमारा मकसद है कि हरियाणा में भी शारुखान पैदा हों अमिताभ बच्चन पैदा हों।

क्या बोले विश्वविद्यालय के वीसी

वहीं गुजवि प्रौ.वि. के वीसी प्रो. टंकेश्वर कुमार ने कहा कि हरियाणा के पहले अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल के आयोजन के लिए इस विश्वविद्यालय को चुना गया है। यह काफी सराहनीय है। इससे न सिर्फ विश्वविद्यालय के युवाओं को विभिन्न फिल्मी संस्कृतियों को जानने का मौका मिलेगा बल्कि उन्हें फिल्मी दुनिया में आगे बढऩे का जरिया भी मिलेगा। इस तरह के फिल्म फेस्टिवल का आयोजन होते रहना चाहिए क्योंकि इस तरह के आयोजन स्थानीय संस्कृति को बढ़ावा देने में मील का पत्थर साबित होंते हैं।

हरियाणा के सिनेमा की वर्तमान स्थिति को अगर देखा जाए तो यहां पर पहले फिल्म फेस्टिवल का आयोजन होना काफी अहम भी है। यह प्रदेश की फिल्म संस्कृति को आगे लेकर जाने वाला है और लोगों में नई जागरुकता बढ़ाने का जुनून है यहां के कलाकारों में। प्रदेश की कोई फिल्म पॉलिसी नहीं होने के कारण पहली बात तो हरियाणा में फिल्में बहुत कम बनती हैं। बनती भी हैं तो लोग उसे देखने नहीं जाते। हरियाणवी सिनेमा के माध्यम से कला संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए सरकार को भी इसे गंभीरता से लेना चाहिए।

HIFF 2016 – ‘लाडो’ से शानदार आगाज Reviewed by on . फेस्टीवल कभी मनों का मिलन होते हैं तो कभी-कभी अदब, तहजीब या संस्कृति का भी मेल करा देते हैं, किसी पुराने सिरे से चलकर संस्कृति जब आधुनिक बिंदु पर आती है, तो आते फेस्टीवल कभी मनों का मिलन होते हैं तो कभी-कभी अदब, तहजीब या संस्कृति का भी मेल करा देते हैं, किसी पुराने सिरे से चलकर संस्कृति जब आधुनिक बिंदु पर आती है, तो आते Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top