Friday , 24 November 2017

Home » खबर खास » हग डे – गले लगो मगर गले मत पड़ो

हग डे – गले लगो मगर गले मत पड़ो

February 12, 2017 10:55 pm by: Category: खबर खास, तीज तयोहार Leave a comment A+ / A-

हग डे यानि गले मिलने का दिन लेकिन गले तो किसी अपने के ही मिला जाता है और अपने पराये की पहचान कहते हैं जल्द नहीं होती बल्कि सटीक वक्त पर होती है। यानि जो जरूरत के समय पर आपके काम आये वही आप का अपना दोस्त सच्चा है, और जो समय पर पीठ फेर जाये ऐसे ऐसों को रस्ता नपाना ही अच्छा है। वैलेंटाइन वीक में हग डे की अपनी खास अहमियत है।

गले लगने और गले पड़ने में अंतर

वर्तमान में हग डे जैसे पर्व के कारण एक दिन के लिये गले लगने का चलन जरूर बढ़ जाता है लेकिन असल में गले लगने की अहमियत को हमें समझना चाहिये। गले लगने से क्या मिलता है। गले लगने से मिलता है सुकून। गले लगने से मिलता है वो अहसास कि हां इस दुनिया में मैं अकेला नहीं हूं। गले लगने से मिलती है हमें अपने साथी से एक सकारात्मक ऊर्जा। गले लगने से हमें मिलता है उत्साह। लेकिन यह सब तभी संभव है जब गले लगने वालों के भाव भी सच्चे हों जब इस भाव का अभाव होता है और गले लगने की औपचारिकताएं मात्र निभाई जाती हैं तो उस स्थिति में गले मिलना ना मिलना कोई मायने नहीं रखता। लेकिन एक स्थिति इससे भी बढ़कर होती है वह यह कि जब कोई आपसे पिछा छुटाना चाहता हो और आप जबरदस्ती उससे चिपकना चाहते हों तो यह स्थिति होती है गले पड़ने की।

वैलेंटाइन वीक में अक्सर ऐसे वाकियात भी सामने आते रहते हैं। कोई किसी के साथ हंस कर बात कर लेता है और सामने वाला हिंट समझ कि हंसी तो फंसी या फिर किसी से विशेष परिस्थिति में हमदर्दी जता दी तो यह भी एक हिंट हो जाता है कि सामने वाले ने समझ लिया यार बंदा या बंदी केयरिंग है। तुम्हारे साथ प्यार के अलावा इसका और क्या मतलब हो सकता है। इसी के चलते कोई बंदा या बंदी किसी के लिये आफत बन सकते हैं कह सकते हैं कि वह आपके गले पड़ सकता है। यदि आप भी कुछ ऐसा महसूस कर रहे हैं या फिर ऐसा करने वालों में से हैं तो अपने आपको पहचानिये और अपनी ही दुनिया से बाहर निकलिये और अपने साथी के नज़रिये से भी देखने की कोशिश करें। उसके दिल की बात समझने की कोशिश करें। कहीं वह आपके गले लगने को गले पड़ना तो नहीं समझता। होता है कई बार एक तरफा प्यार में ऐसा हो जाता है लेकिन गलती जितनी जल्दी सुधार ली जाये उतना अच्छा है। हग डे पर सिर्फ इतना ही कि गले लगें मगर किसी के गले न पड़ें।

हग डे – गले लगो मगर गले मत पड़ो Reviewed by on . हग डे यानि गले मिलने का दिन लेकिन गले तो किसी अपने के ही मिला जाता है और अपने पराये की पहचान कहते हैं जल्द नहीं होती बल्कि सटीक वक्त पर होती है। यानि जो जरूरत क हग डे यानि गले मिलने का दिन लेकिन गले तो किसी अपने के ही मिला जाता है और अपने पराये की पहचान कहते हैं जल्द नहीं होती बल्कि सटीक वक्त पर होती है। यानि जो जरूरत क Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top