Sunday , 22 October 2017

Home » खबर खास » जन-धन के बाद जन-गण-मन

जन-धन के बाद जन-गण-मन

December 5, 2016 2:37 pm by: Category: खबर खास 1 Comment A+ / A-

national-anthem-before-movie

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो वर्ष पहले जन-धन खाते खुलवाए थे, जो अब जन-धन वालों के लिए कम और कालेधन के लिए ज्यादा काम आ रहे है्ं। जिनके पास खाते खुलवाने के लिए पैसे नहीं थे, उनके खातों में ज्यादा से ज्यादा पचास हजार तक का धन एकाएक आ गया। सरकार को चौकन्ना होना पड़ा और बार-बार टीवी पर बताना पड़ा कि दूसरे का धन अपने खाते में न डलवाएं। यह भी एक प्रकार से देश के प्रति आपका प्रेम ही होगा। मोदी का कहना है कि 70 वर्ष से जो देश में काला धन चला आ रहा था, उसे बदल रहे हैं। इसके चलते तकलीफ तो होगी और सहन भी करनी होगी। लोग टीवी पर यही कह रहे हैं कि तकलीफ हो रही है, सहने को भी तैयार हैं, पर बदलाव कितना आएगा? कतारों में तो वही मध्यम और निम्न वर्ष के लोग पिस रहे हैं। चूल्हा-चौका छोड़ कर, जीवन की सांध्य बेला में वही बुजुर्ग महिलाएं खड़ी हैं।

एक खबरिया चैनल पर बहस में कहा गया कि देश रसोई गैस लेने के लिए कतार में लगा रहा, टेलीफोन लगवाने के लिए कतार में लगा रहा, राशन लेने के लिए डिपो के सामने खड़ा रहा, तब हंगामा क्यों नहीं हुआ? तब संसद ठप क्यों नहीं हुई? अरे भई, तो देश के लिए बैंकों की कतार में खड़े होना पड़ा तब हंगामा क्यों? आप क्या सोचते हैं, जिन्होंने कतारें लगवाई, उन्हें आम आदमी ने सजा नहीं दी? पूरी सजा दी, गद्दी से उतार दिया। इसलिए आम आदमी को कतार से मुक्ति दिला दो, नहीं तो, पांच राज्यों के चुनाव आ रहे हैं और मायावती का कहना है कि उसमें जनता इस नोटबंदी का जवाब देगी।

खैर, इसी बीच राष्ट्रगान ‘जन-गण-मन’ पर सुप्रीम कोर्ट का एक फैसला आ गया। जिसके अनुसार अब थियेटर में फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान बजेगा और सब इसके सम्मान में खड़े होंगे जबकि थियेटर के दरवाजे बंद होंगे। इस पर 77 साल के श्याम नारायण चौकसे पिछले 14 साल से अदालतों में केस लड़ रहे थे।

वे केस क्यों लड़े राष्ट्रगान के सम्मान के लिए। उन्होंने बताया कि 14 वर्ष पूर्व वे फिल्म निर्माता-निर्देशक करण जौहर की फिल्म ‘कभी खुशी कभी गम’ देख रहे थे, जिसमें राष्ट्रगान बजने पर वे सम्मान में खड़े हो गए जबकि पीछे की सीटों पर बैठे लोगों ने हूटिंग कर दी। वे मैनेजर के पास शिकायत लेकर गए, जिसने शिकायत को अनसुना कर दिया। फिर जबलपुर हाईकोर्ट में अर्जी लगाई। इसमें फैसला तो हक में आया पर करण जौहर ने सुप्रीम कोर्ट में जाकर स्टे ले लिया। तीन महीने पहले ही सुप्रीम कोर्ट गए और पहली ही सुनवाई में धमाका हो गया। मजेदार बात यह है कि ये वही करण जौहर हैं, जिनकी फिल्म ए दिल है मुश्किल पाक कलाकार फवाद खान के कारण मुश्किल में फंस गई थी और वे एकाएक फिर से देशभक्ति का विश्वास दिलाते हुए, आर्मी वैलफेयर फंड में पांच करोड़ रुपए जमा करवाने को भी तैयार हो गए थे। तब रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने बयान दिया था कि जबरन वसूली वाला चंदा इस फंड के लिए स्वीकार नहीं करेंगे।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर कुछेक लोगों ने सोशल मीडिया पर जन-गण-मन पर कुछ व्यंग्य किया तो लोगों ने खूब खरी-खोटी सुनाई और कहा कि राष्ट्रगान पर कोई टिप्पणी न करें। आदेश में कहा गया है कि समय आ गया है कि लोग समझें कि यह उनकी मातृभूमि है और राष्ट्रगान के सम्मान में हर भारतीय को खड़ा होना होगा। विदेशों में रहते हुए हर बंदिश मानते हैं तो देश में रहते क्यों नहीं मानते?

एक पुराने गाने की पंक्तियां बहुत याद आ रही हैं:

हम लाए हैं तूफान से कश्ती निकाल के,

इस देश को रखना मेरे बच्चो संभाल के।

kamlesh-bhartiya

लेखक परिचय

लेखक कमलेश भारतीय हरियाणा ग्रंथ अकादमी के पूर्व उपाध्यक्ष रहे हैं। इससे पहले खटकड़ कलां में शहीद भगतसिंह की स्मृति में खोले सीनियर सेकेंडरी स्कूल में ग्यारह साल तक हिंदी अध्यापन एवं कार्यकारी प्राचार्य।  फिर चंडीगढ से प्रकाशित दैनिक ट्रिब्यून समाचारपत्र में उपसंपादक,  इसके बाद हिसार में प्रिंसिपल रिपोर्टर । उसके बाद नवगठित हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष बने। कथा समय मासिक पत्रिका का संपादन। मूल रूप से पंजाब के नवांशहर दोआबा से, लेकिन फिलहाल रिहाइस हिसार में। हिंदी में स्वतंत्र लेखन । दस संकलन प्रकाशित एवं एक संवाददाता की डायरी को प्रधानमंत्री पुरस्कार।

जन-धन के बाद जन-गण-मन Reviewed by on . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो वर्ष पहले जन-धन खाते खुलवाए थे, जो अब जन-धन वालों के लिए कम और कालेधन के लिए ज्यादा काम आ रहे है्ं। जिनके पास खाते खुलवाने के लि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो वर्ष पहले जन-धन खाते खुलवाए थे, जो अब जन-धन वालों के लिए कम और कालेधन के लिए ज्यादा काम आ रहे है्ं। जिनके पास खाते खुलवाने के लि Rating: 0

Comments (1)

  • Kamlesh bhartiya

    हरियाणा खास डाॅट काॅम दिन-प्रतिदिन नयी ऊंचाइयों को छू ले । यही कामना है ।

Leave a Comment

scroll to top