Saturday , 21 October 2017

Home » खबर खास » जन्माष्टमी – 5000 वर्ष बाद बना जन्माष्टमी पर यह संयोग

जन्माष्टमी – 5000 वर्ष बाद बना जन्माष्टमी पर यह संयोग

August 26, 2016 10:04 am by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

Janmashtami

 

देश भर के साथ प्रदेश में भी श्री कृष्ण जन्माष्टमी की काफी धूम रही, कृष्ण मंदिरों में देर रात तक श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। इस अवसर पर गांव टीक और आसपास के सभी  गाँवो में भी जन्माष्टमी पर्व धूमधाम से मनाया गया।

दरअसल इस बार कृष्ण जन्माष्टमी पर एक बार फिर वही संयोग बना जो लगभग 5000 वर्ष पूर्व भगवान कृष्ण के जन्म पर बना था। इस बार जन्माष्टमी पर अष्टमी उदया तिथि तथा मध्य रात्रि जन्मोत्सव के समय रोहिणी नक्षत्र का संयोग बना। मान्यता है कि श्री कृष्ण ने भी इन्हीं ग्रह नक्षत्रों के दौरान जन्म लिया था।

श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि, बुधवार, रोहिणी नक्षत्र और वृषभ के चंद्रमा की स्थिति में हुआ था। ऐसा योग आज से 58 साल पहले 1958 में भी बना था। 58 साल बाद ऐसा संयोग दोबारा बना है। ज्योतिषियाचार्यों के अनुसार कृतिका नक्षत्र का काल क्रम 9 घंटे 32 मिनट का होता है। मान्यता है कि भगवान कृष्ण का जन्म अष्टमी की रात्रि रोहिणी नक्षत्र के आरंभ काल के संयोग में हुआ। केवल रोहिणी नक्षत्र की स्थिति में मामूली अंतर भर आया। इसी संयोग के चलते यह जन्माष्टमी कृष्ण भक्तों के लिये खास भी रही।

ढांढ-पूंडरी से कृष्ण प्रजापति की रिपोर्ट

#happyjanmashtmi #janmastmikidoom #shrikrishna #krishnmandir

जन्माष्टमी – 5000 वर्ष बाद बना जन्माष्टमी पर यह संयोग Reviewed by on .   देश भर के साथ प्रदेश में भी श्री कृष्ण जन्माष्टमी की काफी धूम रही, कृष्ण मंदिरों में देर रात तक श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। इस अवसर पर गांव टीक और आसपा   देश भर के साथ प्रदेश में भी श्री कृष्ण जन्माष्टमी की काफी धूम रही, कृष्ण मंदिरों में देर रात तक श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। इस अवसर पर गांव टीक और आसपा Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top