Sunday , 22 October 2017

Home » खबर खास » काले झंड्यां का संकट

काले झंड्यां का संकट

September 13, 2016 12:45 am by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

kale-jhande-jind

प्रदेश कै 12 हजार 731 नवचयनित जेबीटी टीचरां पै नौकरी का संकट खड़या हो सकै है… असल मैं परदेश भर मैं निकाळी गई पदयात्रा अर करनाल रैली पाच्छै इब भाजपा अध्यक्ष ताईं दिखाए गए काळे झंडे इन खातर आफत बण सकै है। प्रदेश सरकार जितणी जल्दी तै हाइकोर्ट मैं जेबीटी टीचरां की पैरवी करण मैं जुट री थी उतणी ए उनमैं कमी भी आ सकै है इब।

आपनै बताद्यां कै जुणसे लोगां नै 2010 या 2011 मैं जेबीटी की पढाई करी, 2011 मैं पात्रता पास करी अर फेर 2012 मैं नोकरी लागण खातर इंटरव्यू दिया वे इब लग उलझै हैं आकै वे सरकारी नौकरी कर पावैंगे आक नी। आखिर वैं करै के? उड़ए14 अगस्त 2014 नै यानि आज तै 2 साल पैहल्यां फाइनल  रजल्ट आयां पाच्छै 9455 युवा लोगां तै बता दिया आक थ्हाम इब सरकारी स्कूल मैं पढाओगे। पर आज 5 साल होयां पाच्छै इब लग भर्ती ए पूरी ना होई।

इतणा कुछ होयां पाछै सवाल यो सै आकै सरकार कै इस ढीलै रवैये का के हौवेगा। आपनै बताद्या आकै हरियाणे मैं हजारां की संख्या म्हं जेबीटी टीचर नियुक्ति पत्र की बाट देखरये हैं। इन टीचरां के दो गुट बणे होए हैं। जिनमैं तै एक तो राजेंद्र शर्मा कै नेतृत्व मैं पात्र अध्यापक संघ कै बेनर तळै शांतिपूर्वक अपणी गतिविधियां चलारया है तो  दूसरा गुट CJSS गुट है जो राज्य मैं पैदल  मार्च तै लेकै अर सीएम सीटी करनाल मैं रेली तक आयोजन करवा चुक्या है। अर उसी गुट आळै टीचरां ने अमित शाह तै काळे झंडे दिखाए थे पर इसका खामियाजा दूसरां तै भी भुगतणा पड़ सकै है जो पिछलै कई दिनां तै पंचकूला धरणै पै बैठे हुए हैं। पर मुख्यमंत्री अर कई मंत्री इब भी नहीं चाह रय़े आकै शाह तै काले झंडे दिखाण आले जेबीटी टीचरां की अब सिंगल बेंच पाच्छै डबल म्हं भी दमदार पैरवी करी जावै।

सीएम के ओएसडी जवाहर यादव ने कहया है आकै सारे जेबीटी टीचरां की भर्ती पिछली हुड्डा सरकार की है। अर म्हारी सरकार इन सारां तै जॉइनिंग कराण की दिशा मैं ब्होत तेजी तै कदम बढा री है। हाइकोर्ट की सिंगल बेंच मैं एडवोकेट जनरल ऑफिसर नै दमदार पैरवी करी है। अब डबल मैं भी मजबूत पैरवी चाल रही है पर पार्टी अध्यक्ष कै आयोजन में काळे झंडे दिखाण की प्रक्रिया तै नजरअंदाज नहीं करया जावैगा। यो पूरी तरीयां गलत है। सीएम अर शिक्षामत्री इन तै लेकै गंभीर है पर इनकै आरचण म्हं सुधार की जरूरत है। भले ही इन जेबीटी टीचरां नै बिलकुल मजबूर होकै इसा कदम उठाया हो इस कदम नै उनकी लाचारी भी कयी जा सकै है पर सरकार ओड़ तै इस तरीयां पेश आण का इशारा काफी हद तक गलत संकेत देरया है।

काले झंड्यां का संकट Reviewed by on . प्रदेश कै 12 हजार 731 नवचयनित जेबीटी टीचरां पै नौकरी का संकट खड़या हो सकै है... असल मैं परदेश भर मैं निकाळी गई पदयात्रा अर करनाल रैली पाच्छै इब भाजपा अध्यक्ष ता प्रदेश कै 12 हजार 731 नवचयनित जेबीटी टीचरां पै नौकरी का संकट खड़या हो सकै है... असल मैं परदेश भर मैं निकाळी गई पदयात्रा अर करनाल रैली पाच्छै इब भाजपा अध्यक्ष ता Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top