Saturday , 21 October 2017

Home » खबर खास » JIO फ्री जी – फोर जी को जीने नहीं देगा

JIO फ्री जी – फोर जी को जीने नहीं देगा

February 15, 2017 11:24 pm by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

JIO जब से पैदा हुआ है इससे पहले की पीढ़ी के लगभग सारे नेटवर्क समय से पहले बुढ़ा गये हैं। कुछ के तो पैर कब्र में लटक रहे हैं। लगता है जियो के फादर रिलायंस ने इसको जन्म ही इसलिये दिया है ताकि बाकि दम तोड़ दें।

दरअसल जियो सिम की फ्री सुविधाओं ने मोबाइल कंपनियों के लिये आफत खड़ी कर दी है। आइडिया एयरटेल जैसी प्रतिद्वंदी कंपनियां भले ही अपने एड कंपेन में अच्छे नेटवर्क का दावा कर स्लो नेटवर्क के नाम पर जियो की आलोचना कर फ्री जी से फोर जी की दुहाई देती हों लेकिन हकीकत कंपनियों को भारी नुक्सान के रूप में सामने आ रही हैं। सिर्फ आइडिया को ही इस तिमाही में लगभग 400 करोड़ की चपत लग चुकी है। एयरटेल को भी अपने प्लान काफी सस्ते करने पड़े हैं।

आईडिया वोडाफोन साथ साथ

एन आइडिया कैन चेंज यूअर लाइफ यह आइडिया की ही कैच लाइन हुआ करती थी पर जियो की फ्री मार से आइडिया के सारे आइडियाज़ कहीं गुम गये हैं। वहीं हच से वोडाफोन बनकर जूजूओं के दम पर अपना प्रसार करने वाली वोडाफोन के जूजू भी आजकल उसमें जान नहीं फूंक पा रहे हैं। सुनने में आ रहा है कि आईडिया और वोडाफोन अब मिलकर जियो जनित आपदा का सामना करेंगे। उससे कुछ नया होता है या नहीं देखना होगा।

मोबाइल कंपनियों में कार्यरत कर्मचारियों पर गिर सकती है गाज

जियो के कारण सभी मोबाइल सिम प्रदाता कंपनियों का कारोबार प्रभावित हुआ है जिसका सीधा असर रोजगार पर भी पड़ने के आसार हैं। एक अनुमान के मुताबिक इन कंपनियों में कार्यरत कर्मचारियों की छंटनी कभी भी हो सकती है। लगभग 25000 कर्मचारियों की नौकरी प्रत्यक्ष रूप से खतरे में है तो अप्रत्यक्ष रूप से इससे लगभग एक लाख लोगों का रोजगार छिनने का खतरा सर पर मंडरा रहा है। मतलब साफ है कि जियो जीने नहीं देगा।

जियो डिजीटल लाइफ – काहे की लाइफ जब नेटवर्क ही न हो

जियो ने डिजिटल इंडिया के नारे को अपने व्यावसायिक लाभ के लिये काफी अच्छे से भुनाया है। प्रधानमंत्री तक जियो के प्रचार से सुर्खियों में आ चुके हैं। लेकिन एक तस्वीर और भी है। इसमें कोई दो राय नहीं की जियो बतौर सिम उपलब्ध करवाकर कॉलिंग से लेकर इंटरनेट यूज करने तक की सुविधाएं शुरूआती तौर पर निशुल्क दे रहा है लेकिन अभी भी जियो का नेटवर्क अच्छे से काम नहीं करता है। अधिकतर इलाकों में तो जियो का नेटवर्क 2जी से भी धीमी गति से चलता है। विडियो कॉल तो दूर की बात कुछ नेटवर्क पर तो वॉयस कॉल भी कई बार सर पटकने पर होती है। भारत संचार निगम लिमिटिड के साथ तो जियो का विशेष प्रेम झलकता है। पक्के तौर पर तो नहीं कहा जा सकता लेकिन हो सकता है यह सरकारी संचार व्यवस्था को ठप्प करने की सोची समझी साजिश भी हो। दूसरी कंपनी जो कि अभी तक अपनी सुविधाओं से नंबर वन का खिताब पाने में कामयाब रही है वह है एयरटेल। इस कंपनी के नंबरों पर बात करना भी जंग जितने से कम नहीं है। कई बार तो आप जियो को खून पियो भी कह सकते हैं।

फिर भी जियो में भले ही नेटवर्क संबंधि लाख दिक्कतें हों लेकिन नेट व कॉल के भारी भरकम खर्च इसकी बदौलत कम हुए हैं। जब भी जियो का सिम चलता है एक फ्री का सुकून भी मिलता है लेकिन सामाजिक प्राणी होने के नाते जियो के चलते जिन घरों में मायूसी छाने वाली है उनके बारे में सोचकर थोड़ी सहानुभूति भी होने लगती है। वहीं सवाल भी जहन में उठता है जब बाज़ार में जियो के प्रतिद्वंदी नहीं रहेंगें और जियो अपना एकाधिकार इस क्षेत्र में जमा लेगा तो उसके क्या परिणाम हो सकते हैं? फिलहाल फ्री में फ्री जी की सेवाओं का लाभ उठायें बाकि जब होगा तब देखेंगे। जियो अपने अंबानी की तो है कौनसा इंग्लैंड की ईस्ट इंडिया लौट आयी है।

JIO फ्री जी – फोर जी को जीने नहीं देगा Reviewed by on . JIO जब से पैदा हुआ है इससे पहले की पीढ़ी के लगभग सारे नेटवर्क समय से पहले बुढ़ा गये हैं। कुछ के तो पैर कब्र में लटक रहे हैं। लगता है जियो के फादर रिलायंस ने इसक JIO जब से पैदा हुआ है इससे पहले की पीढ़ी के लगभग सारे नेटवर्क समय से पहले बुढ़ा गये हैं। कुछ के तो पैर कब्र में लटक रहे हैं। लगता है जियो के फादर रिलायंस ने इसक Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top