Monday , 20 November 2017

Home » खबर खास » Jio-sim-online – जियो के लालच में न बने घनचक्कर

Jio-sim-online – जियो के लालच में न बने घनचक्कर

September 13, 2016 11:43 pm by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

jio-sim

नाम तो जियो है पर लोग इसकी खातिर तिल-तिल मर रहे हैं। सोच मैं पड़ गये हैं सिम किसी को मिलेगा या नहीं। लोगों की इसी बेचैनी का फायदा डिजीटल मार्केटिंग के माहिर लोग उठाते हैं। फट से जियो सिम ऑनलाइन के नाम से वेबसाइट बना डाली और लग गये काम पर। इस संदेश में कहा जा रहा है कि जियो सिम ऑनलाइन मिलेगा। अपना आधार कार्ड तैयार रखिये। सिम मिलने के एक दिन बाद ही सिम चालू हो जायेगी।

क्या है माजरा

असल में जब हमने इसकी पड़ताल करनी चाही तो माजरा कुछ और ही नजर आया। हम यह पुख्ता तौर पर तो नहीं कह सकते कि इससे सिम नहीं मिलेगा लेकिन अगर सिम मिलेगा तो फ्री में आपको नहीं मिलेगा यह हम लिखकर दे सकते हैं। क्योंकि ऑनलाइन पोर्टल आपसे अपने प्रचार के 8 मैसेज शेयर करवायेगा। अपनी ढेरों ऐप्लीकेशन इंस्टॉल करवायेगा। इस प्रक्रिया से पड़ताल के दौरान हम भी गुजरे कैसे आपको बताते हैं ताकि आप जो भी कदम उठायें सोच समझकर उठायें।

14331091_1041567745941636_727841999_n

इसमें वट्स ऐप के जरिये लोगों को लिंक पर भेजा जा रहा है जहां से अपना नाम, पता व फोन नंबर आदि भरवा कर मैसेज को वट्स ग्रुप में सांझा करने के लिये कहा जाता है। तीन स्टेप हैं इसके पहला अपनी जानकारी देना, दूसरा 8 वट्स ऐप ग्रुप या फ्रेंड पर दिखाई दे रहे संदेश को प्रेषित करना और तीसरा चरण जिसे फाइनल स्टेप कहा गया है एक नये रास्ते पर आपको खड़ा कर देता है जिसे देखकर आप ठगा सा महसूस कर सकते हैं। यहां आपको 9 ऐप्लिकेशन अपने फोन में इंस्टॉल करने का निर्देश मिलता है। हम ने अपना सफर यहीं पर खत्म कर दिया यदि आप आगे जारी रखते हैं तो आपकी हिम्मत है। आपकी यात्रा जियोमय हो।

क्या है रिस्क

रिस्क यही है कि कहीं आपको घनचक्कर तो नहीं बनाया जा रहा। जियो के प्रति आपके बढ़ते लगाव और पैदा हुए प्यार के साथ खिलवाड़ तो नहीं किया जा रहा। क्योंकि डिजीटल मार्केटिंग के जरिये एक और जहां वेबसाइट मोबाइल ऐप्स इंस्टॉल करने को लेकर वेबसाइट को मोटी कमाई हो रही है वहीं आपकी जानकारियां भी उनके पास जा रही हैं विशेषकर फोन नंबर का डाटा उक्त वेबसाइट के पास पंहुच रहा है जिसका भविष्य में किसी भी प्रकार के संदेश प्रेषित करने के लिये कंपनी उन्हें इस्तेमाल कर सकती है। या अन्य एसएमएस कंपनियों को आपके नंबर उपलब्ध करवा सकती है जिससे आप अनैच्छिक जानकारियों और संदेशों से अपना सर पकड़ लेने पर मजबूर हो जायेंगें।

यह है जियो हासिल करने की असल प्रक्रिया

अभी तक सिम मिलने की प्रक्रिया ऐसी रही है जिसमें रिलायंस के सर्विस सेंटर और जियो सेंटर पर जाकर या फिर सिम प्रदाताओं से सीधे आप फ्री में सिम ले सकते हैं लेकिन उपभोक्ताओं की संख्या को देखते हुए सिम कम पड़ रहे हैं जिस कारण जियो के सिम के लिये यह मारा मारी हो रही है। सिम लेने के लिये आपको या तो रिलायंस द्वारा जियो के लिये दिया जा रहा विशेष फोन लेना होगा या फिर यदि आपके पास 4जी स्पोर्ट करने वाला मोबाइल है तो उसमें माय जियो नाम की मोबाइल ऐप्लिकेशन डाऊनलोड कर उसमें बार कोड हासिल करें। इस बार कोड को सिम प्रदाता के पास लेकर जायें। अपनी आधार कार्ड की आईडी पर इसे दर्ज करें। सिम आपको मिल जायेगी। आरंभ में यह सात दिन में एक्टिवेट होती थी लेकिन अब सिम प्रदाताओं के पास पंचिंग सिस्टम होने से सिम को हाथों हाथ एक्टिवेट किया जा रहा है।

Jio-sim-online – जियो के लालच में न बने घनचक्कर Reviewed by on . नाम तो जियो है पर लोग इसकी खातिर तिल-तिल मर रहे हैं। सोच मैं पड़ गये हैं सिम किसी को मिलेगा या नहीं। लोगों की इसी बेचैनी का फायदा डिजीटल मार्केटिंग के माहिर लोग नाम तो जियो है पर लोग इसकी खातिर तिल-तिल मर रहे हैं। सोच मैं पड़ गये हैं सिम किसी को मिलेगा या नहीं। लोगों की इसी बेचैनी का फायदा डिजीटल मार्केटिंग के माहिर लोग Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top