Friday , 21 September 2018

Home » खबर खास » ‘हशर तक याद आएंगे चांद-सितारों की तरह’

‘हशर तक याद आएंगे चांद-सितारों की तरह’

शहादत दिवस पर चंद्रशेखर आजाद को दी श्रद्धांजलि

February 28, 2018 1:35 am by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

फतेहाबाद के गांव पीली मंदोरी के युवाओं द्वारा क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद के शहादत दिवस पर उन्हें याद किया गया। इस मौके पर गांव के युवाओं नें पुष्पार्पित करके चंद्रशेखर आजाद को श्रद्धांजलि दी और क्रांतिकारियों द्वारा बताए रास्तों पर चलने की हुंकार भरी। इस दौरान तमाम युवाओं ने देश के मौजूदा हालातों पर चिंता भी जाहिर की और चंद्रशेखर आजाद के बलिदान दिवस को सद्भावनापरक संदेश देने के लिए वाजिब माना। कार्यक्रम में डीवाईएफआई प्रदेश सचिव शाहनवाज बतौर मुख्य वक्ता मौजूद रहे तो वहीं पीएमकेवीवाई संस्था के डायरेक्टर सतपाल सिंह नायक, समाजसेवी सतवीर गोदारा, सोनू लिखाला (पूर्व प्रधान डॉ. बी आर अंबेडकर संगठन, पीली मंदोरी) व गांव के युवा एस.एस.पंवार ने अपने विचार रखे।

इस दौरान डीवाईएफआई प्रदेश सचिव शाहनवाज ने क्रांतिकारी देशभक्त चंद्रशेखर आजाद के जीवन पर प्रकाश डालते हुए आज के युवाओं को उनके जीवन से सीख लेने की बात कही। उन्होनें कहा कि मौजूदा समय में युवाओं के लिए बेरोजगारी सबसे बड़ी समस्या उभरकर सामने आई है, जिसके लिए आजतक की सरकारों ने कोई खास ध्यान नहीं दिया। उन्होनें कहा कि हमें अपनी मांगे मनवाने के लिए संगठित होने की जरूरत है ताकि हम अपनी आवाज को और बुलंद कर सकें। इसके साथ-साथ उन्होनें देशभर के किसानों, विद्यार्थीयों, आंगनवाड़ी वर्करों, मजदूर और दलित वर्ग के साथ हो रहे भेदभाव को भी रेखांकित किया।

वहीं समाजसेवी सतवीर गोदारा ने शहीदों पर बोलते हुए उनके लिए एक शे’र से अपनी बात को प्रभावी बनाया। गोदारा ने कहा कि ‘हशर तक याद आएंगे चांद सितारों की तरह, कौन कहता है कि मर जाते हैं शहीदाने वतन’। इन पंक्तियों से अपनी बात को शहीदोन्मुख करते हुए उन्होनें कहा कि आज देश के लिए कुर्बान हुआ एक-एक देशभक्त हमारी रगों में जिंदा है और हमें उनके सपनों को पूरा करने के लिए तन-मन से जुट जाना चाहिए। गोदारा ने बोलते हुए क्रांतिकारों के जीवन पर प्रकाश डाला और कहा कि जिस तरह का ख्वाब हमारे देशभक्तों ने देखा था उसकी बजाय देश के मौजूदा हालात पूरी तरह से बिगड़ चुके हैं, हमें उन्हें पूरा करने के लिए जाति व धर्मों से ऊपर उठकर मिल-जुलकर काम करना चाहिए।

इस दौरान कई सांगठनिक गतिविधियों से जुड़े सतपाल सिंह नायक ने अपने स्वतंत्र विद्यार्थी केंद्रित विचार रखते हुए कहा कि आज का युवा किसी भी तरह के प्रशासनिक कार्यों को करवानें संबंधि मूलभूत जानकारियों से भी वाकिफ नहीं है। उन्होंने विद्यार्थियों को वास्तविक ज्ञान की ओर उन्मुख करते हुए सही दिशा में जाने का आह्वान किया। सतपाल सिंह ने युवाओं से कहा कि आज उन्हें काबिल बनने की जरूरत है, अगर उनके पास किसी भी व्यावसायिक या शैक्षणिक कार्यों की दक्षता है तो उन्हें भटकने की जरूरत नहीं है।

वहीं डॉ. बीआर अंबेडकर संगठन के पूर्व अध्यक्ष सोनू लिखाला ने इस कार्यक्रम में अपनी अपेक्षा से कम उपस्थिति पर चिंता जताते हुए कहा कि ऐसे मौकों पर युवाओं की सबसे ज्यादा उपस्थिति दर्ज होनी चाहिए। तो वहीं उन्होनें आडम्बर और थोथी आस्थाओं से परे एक सच्चे समाज की कल्पना पर जोर दिया। युवा एस.एस.पंवार ने क्रांतिकारियों को याद करते हुए जीवन जीने के लिए एक वैज्ञानिक रास्ता अपनाने की बात पर जोर दिया। विज्ञान दिवस की इस पूर्व बेला पर हुए कार्यक्रम में उन्होने विज्ञान और तर्क की बातों से विद्यार्थियों को वाकिफ करवाया। पंवार ने कहा कि अगर हम अपने जीवन में सोचने का वैज्ञानिक तरीका इजाद करते हैं तो हमें कहीं भी आलोचना का सामना करने की जरूरत नहीं है। उन्होने कहा कि विज्ञान हमेंशा प्रमाणित बात कहता है, इसलिए हमारी बातों का आधार मजबूत होना चाहिए।

इस मौके पर शिव पब्लिक स्कूल के प्राचार्य सुनील लीलड़, पंच सुरेश कूकणा, सुभाष फौजी, मांगे राम जाखड़, सुमेर ज्याणी, दर्शन लीलड़, पवन गोदारा, सुभाष शास्त्री, मोहन लाल कटारिया, विनोद कुमार बारूपाल, अशोक बारूपाल, विकास कुमार, पंकज लिखाला, राकेश सोनी, नरेश बारूपाल, प्रवीण डूडी, राकेश जाखड़, रजनीश कटारिया, शिव जीत सिंह व पंकज लीलड़ समेत कई युवा मौजूद रहे।

‘हशर तक याद आएंगे चांद-सितारों की तरह’ Reviewed by on . फतेहाबाद के गांव पीली मंदोरी के युवाओं द्वारा क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद के शहादत दिवस पर उन्हें याद किया गया। इस मौके पर गांव के युवाओं नें पुष्पार्पित करके चं फतेहाबाद के गांव पीली मंदोरी के युवाओं द्वारा क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद के शहादत दिवस पर उन्हें याद किया गया। इस मौके पर गांव के युवाओं नें पुष्पार्पित करके चं Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top