Tuesday , 16 January 2018

Home » खबर खास » नन्ही परी

नन्ही परी

December 18, 2017 10:29 am by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

 

नन्ही परी

माँ के गर्भ में ही उसे क़्यू मार देते हो
दुनिया मे आने से पहले ही क़्यू उसकी जान लेते हो

नही चाहिए बेटी माँ बहना तो दूल्हे के लिये फिर क़्यु दुल्हन ढूढ़ते हो
वैसे भी तो वो इस समाज मे सुरक्षित नही है

हर गली में उसके दुश्मन है
आंखों से करे जो वो दुष्कर्म है

समाज को आती नही फिर भी कोई शर्म है
बाते बराबरी की करते हो
तो फिर काम मक़्कारी वाले क़्यू करते हो

नन्ही परी की जान तुम कैसे लेते हो
इंसान होकर भी तुम शैतानो जैसे काम करते हो

बोझ समझ कर तुम तिरस्कार उसका करते हो
फिर भी सहारा तो वही देती है
न जाने कैसे इतने अपमान सहकर भी वो जिंदगी जी लेती है

 

सोचने की बात है
बेटीयो से नफरत करने वालो की क्या औकात है
जो लिये है नन्ही परी की जान
वो लोग हरामखोर
साथ देने वाला वो डॉक्टर भी 420 साला चोर

नन्ही परी की वो हँसी
नन्ही परी की वो मासूमियत
ना दिखती कुछ लोगो को

पैदा होने के बाद कचरा समज सड़क पे फेंक देते है
जिंदा लड़की को लाश समज नदी नाले में फेक देते है
बेटियों की नही करता ये समाज ज्यादा इज़्ज़त
इस बात से ही होती है मुझे ज्यादा दिक्कत

सभी लोगो से करता हु में एक अपील
बदल जाओ तुम अगर जिंदा है तुम्हारा जमीर
नन्ही परी के साथ तुमने किया है गलत इस गलती को मान लो
ना करेगी वो तुम्हे कभी माफ इस बात को जान लो

Maddy King

 

Maddy king College Student है पुणे जो  में रहते है। अंधश्रद्धा निर्मुलन समिती महाराष्ट्र पुणे  के सदस्य है। सामाजिक व राजनितिक कामों में सक्रिय रहते है।

नोट:- प्रस्तुत Poem में दिये गये विचार या जानकारियों की पुष्टि हरियाणा खास नहीं करता है। यह लेखक के अपने विचार हैं जिन्हें यहां ज्यों का त्यों प्रस्तुत किया गया है। Poem के किसी भी अंश के लिये हरियाणा खास उत्तरदायी नहीं है।

नन्ही परी Reviewed by on .   नन्ही परी माँ के गर्भ में ही उसे क़्यू मार देते हो दुनिया मे आने से पहले ही क़्यू उसकी जान लेते हो नही चाहिए बेटी माँ बहना तो दूल्हे के लिये फिर क़्यु दुल्ह   नन्ही परी माँ के गर्भ में ही उसे क़्यू मार देते हो दुनिया मे आने से पहले ही क़्यू उसकी जान लेते हो नही चाहिए बेटी माँ बहना तो दूल्हे के लिये फिर क़्यु दुल्ह Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top