Tuesday , 24 October 2017

Home » साहित्य खास » नशा नाश की जड़

नशा नाश की जड़

हरियाणा कविता - जगदीप सिंह

June 3, 2016 9:51 am by: Category: साहित्य खास Leave a comment A+ / A-

images (1)

नशा नास की जड़ हो तू मतन्या लोवै लागै

बूरी नशे की लाग भगत क्यूं घर कूणबे नै त्यागै

 

कदे मोटी सामी होया करदा आज बाळक रुळ रे रेत मैं

कदे ट्रैक्टर चाल्या करदे आज बोर्ड गढ रे खेत मैं

कहूं सूं तेरे हेत मैं तू देखले पाछै आगै

बूरी नशे की लाग भगत क्यूं घर कूणबै नै त्यागै

 

जो मनै ज्यान तै प्यारी थी रै

उसकी टूम बेच दी सारी थी रै

घर म्हं इसी बुहारी दी रै क्यूकरे नी टोटा भागै

बूरी नशे की लाग भगत क्यूं घर कूणबै नै त्यागै

 

नशै नशै मैं चोरी जारी करता रह्या लूंगाड़्या गेल

खैर मनी ना ठ्याए पाड़ पै पड़ी काटणी सालां जेल

जाण ना इसनै खेल नशा ना इज्जतदार नै फाबै

बूरी नशे की लाग भगत क्यूं घर कूणबै नै त्यागै

sadhu-smoking-ganja

 

मैं तो चोळै पाच्छै आपणे कुकर्मां नै ढक रह्या हूं

करकै खाणा बसका ना था जिंदगी तै जमा थक रह्या हूं

जगदीप सिंह कह बक रह्या सूं पड़ै पार ज्यब जागै

 

नशा नाश की जड़ Reviewed by on . नशा नास की जड़ हो तू मतन्या लोवै लागै बूरी नशे की लाग भगत क्यूं घर कूणबे नै त्यागै   कदे मोटी सामी होया करदा आज बाळक रुळ रे रेत मैं कदे ट्रैक्टर चाल्या करद नशा नास की जड़ हो तू मतन्या लोवै लागै बूरी नशे की लाग भगत क्यूं घर कूणबे नै त्यागै   कदे मोटी सामी होया करदा आज बाळक रुळ रे रेत मैं कदे ट्रैक्टर चाल्या करद Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top