Wednesday , 22 November 2017

Home » खबर खास » पाई के युवाओं की प्रेरणादायी पहल

पाई के युवाओं की प्रेरणादायी पहल

एक लाख पौधे लगाने की खाई कसम

July 13, 2016 5:27 pm by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

pundri podharopan

 

पर्यावरण वर्तमान अंतर्राष्ट्रीय स्तर का मुद्दा बना हुआ है लेकिन इसका समाधान तभी होगा जब इसकी पहल ग्रामीण स्तर पर होगी क्योंकि भारत ही नहीं पूरी दुनिया गांवों में बसती है। विकास के नाम पर हर क्षण प्रकृति का दोहन हो रहा है। सबसे ज्यादा गाज पेड़-पौधों पर गिरती है। शहरों में खराब हालात हो ही गये हैं बचे अब गांव भी नहीं हैं लेकिन हरियाणा के दूसरे सबसे बड़े गांव पाई में जिसकी आबादी तीस हजार के करीब है, युवाओं ने एक अच्छी पहल की है यहां युवाओं ने सर्व मंगलम् ट्रस्ट का गठन कर उसके बैनर तले एक लाख पौधे लगाने की शपथ ली है।

सफाई अभियान से हुई शुरूआत
संगठन के वरिष्ठ सदस्य कृष्ण कुमार ने बताया कि आज के दिन गांव में गंदगी और युवाओं में नशे का सफाया होना जरुरी है हमने इसके लिये कदम उठाए हैं। शुरुआत सफाई अभियान से की इसके साथ ही युवाओं को अपने साथ जोड़ा और नशे की रोकथाम के लिये जागरुकता अभियान भी चलाया गया इसके सकारात्मक परिणाम भी गांव में देखने को मिले हैं।

महाराणा प्रताप की जयंती पर ली एक लाख पौधे लगाने की शपथ

ट्रस्ट के प्रधान का कहना है कि हमारी गतिविधियों से ग्रामीणों में उत्साह है अब सभी संगठन के कार्यों में रुचि लेने लगे हैं। महाराणा प्रताप की जयंती के अवसर पर हमने एक लाख पौधे लगाने की शपथ ली थी जिसमें से अब तक हम दस हजार पौधे लगा चुके हैं। उम्मीद है इस सावन के बाद गांव के हर और हरियाली छाने लगेगी।

पाई में युवाओं द्वारा उठाया जा रहा यह कदम सराहनीय है हरियाणा के हर गांव में अगर युवा इस तरह के सकारात्मक कार्यों में हिस्सेदारी करें तो एक बेहतर भविष्य की कल्पना कर सकते हैं। आस-पास के गांव भाणा, करोड़ा, सिसमौर, सेरहदा, रणाणा आदि गांव में तो इसका असर भी देखने को मिल रहा है।

पाई के युवाओं की प्रेरणादायी पहल Reviewed by on .   पर्यावरण वर्तमान अंतर्राष्ट्रीय स्तर का मुद्दा बना हुआ है लेकिन इसका समाधान तभी होगा जब इसकी पहल ग्रामीण स्तर पर होगी क्योंकि भारत ही नहीं पूरी दुनिया गा   पर्यावरण वर्तमान अंतर्राष्ट्रीय स्तर का मुद्दा बना हुआ है लेकिन इसका समाधान तभी होगा जब इसकी पहल ग्रामीण स्तर पर होगी क्योंकि भारत ही नहीं पूरी दुनिया गा Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top