Tuesday , 26 September 2017

Home » खबर खास » कानून की एक धारा पर बिछी राजनीति की बिसात 

कानून की एक धारा पर बिछी राजनीति की बिसात 

October 25, 2016 10:04 am by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-
saini-dushyant
हरियाणा में कुरुक्षेत्र से सांसद राजकुमार सैनी पर कुछ दिन पहले चार-पांच युवकों ने कुरुक्षेत्र की एक धर्मशाला में कार्यक्रम समाप्त होने के बाद सेल्फी लेने का बहाना करके, सुरक्षाकर्मियों को धत्ता दिखाकर न केवल उन पर स्याही फेंकी बल्कि धक्का-मुक्की कर उन्हें नीचे गिरा दिया। चार युवक मौके पर  पकड़े गए और सैनी ने उनके विरुद्ध जान से मारने की कोशिश के तहत धारा 307 भी लगवा दी। इस पर खूब हंगामा हुआ। जहां तक कि इस्पात मंत्री बीरेंद्र सिंह की धर्मपत्नी व उचाना से विधायक प्रेमलता ने तो कह दिया कि ये युवक जान से मारने की नीयत से नहीं आए थे। यदि उनकी नीयत ऐसी होती तो वे स्याही की बजाय तेजाब भी तो फेंक सकते थे। हुड्डा व केजरीवाल के उदाहरण भी दिए और कहा कि जब उन आरोपियों पर धारा 307 नहीं लगी तो राजकुमार सैनी के आरोपियों पर ही क्यों? उदाहरण तो ठीक है पर तेजाब फेंकने की बात रहस्यमयी है। ऐसे संकेत देने भी बहुत खतरनाक हैं। सांसद सैनी ने भी कह दिया था कि वे किसे माफ करें, कोई माफी मांगने आए तो सही। इसी बीच पुलिस प्रशासन ने धारा 307 हटा दी। अब माफी मांगने आएगा भी कौन और क्यों?
दूसरी तरफ सांसद सैनी ने फिर दोहराया है कि यह सिर्फ स्याही कांड ही नहीं था, आरोपियों ने उन पर जानलेवा हमला किया था। आरोपियों पर से धारा 307 हटाए जाने पर वे कोर्ट में याचिका डालेंगे और चैलेंज करेंगे। सैनी ने कहा कि माहौल खराब करने का आरोप लगाने वाले युवकों को सम्मानित करने की बात कही जा रही है। सैनी ने इन युवकों को इनेलो समर्थक बताया तो सांसद दुष्यंत चौटाला भी चुनौती पेश करने लगे कि या तो सांसद सैनी साबित करें, नहीं तो वे मानहानि की याचिका दायर करेंगे। सैनी कहते हैं कि हिसार से ही युवक मेरे पीछे लगे। वहां सफल नहीं हुए।
सांसद सैनी पर भाजपा की अनुशासन समिति के अध्यक्ष व पूर्व मंत्री गणेशीलाल अग्रोहा धाम मेले से ही 48 घंटे में मामला सुलझ जाने का दावा कर रहे हैं लेकिन मामला तो कई घंटे आगे निकल गया है। मेला भी खत्म और हमले की चर्चा भी खत्म। अब चरखी दादरी में सैनी को रैली रद्द करनी पड़ी। उन्होंने इसे दादागिरी बताया, शुक्र है दबंगई नहीं कहा। मामला और बिगड़ जाता। महेंद्रगढ़ में जाकर रैली की और दिल का दर्द बयां किया।
पहले हरियाणा में नेता विरोध करने पर, सच-झूठ पर राजनीति से संन्यास लेने की बात करते थे। अब सब कोर्ट में देख लूंगा की बात कहने लगे हैं। इसलिए हिसार में जहां आरोपी युवकों पर धारा 307 हटाई जाने के बाद अब खापों ने सांसद सैनी पर एफआईआर दर्ज करवाने की मांग उठाई है तो वहीं झज्जर में सांसद के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग को लेकर जाटों की बैठक हुई और भिवानी में भी जाट नेता हवा सिंह सांगवान का कहना है कि धारा 307 हटने के बाद सांसद सैनी की पोल खुल गई है। उन्होंने भी सैनी व उनके समर्थकों पर केस दर्ज करने की मांग की है।
इस तरह धारा 307 लगना और हटाई जाना दोनों पर राजनीति गर्म है। एक-दूसरे को कोर्ट में खींचने की बयानबाजी है। भाजपा की सांसद सैनी की गतिविधियों व बयानबाजी पर नजर है और सांसद सैनी की 2019 के विधानसभा चुनावों पर नजर है। सब एक-दूसरे पर नजरें जमाए हुए हैं। सांसद सैनी तो टीवी इंटरव्यू में भी कह रहे हैं कि लोकतंत्र में सपना देखने पर तो कोई पाबंदी नहीं। पर आरक्षण की आंच पर धीरे-धीरे कुछ मत पकाओ। इसे जितनी जल्दी बुझा सकें, उतना ही अच्छा है। महात्मा गांधी कहते थे कि साधन ही नहीं, साध्य भी उतना ही पावन होना चाहिए। सांसद सैनी ने कहा भी है कि अपने हितों के लिए दूसरों की बलि चढ़ाने वालों में से नहीं हैं। उन्होंने तो कहा कि अधिकांश नेताओं को टिकट कटने व वोट बैंक टूटने का डर सताता रहता है। मगर मैंने इस बात को तवज्जो नहीं दी। बड़ी मुश्किल से फरवरी के आंदोलन के बाद हरियाणा पटरी पर लौटा है। सैनी और दुष्यंत एक दूसरे को देख लेने की नहीं बल्कि विकास कार्य का आइना दिखाने की बात करें, जो हरियाणावासियों के हित में होगा। कोर्ट में नहीं विकास में मुकाबला करो। हम तो इतना ही कह सकते हैं:-
ऐ जाते हुए लम्हों, जरा सोचो, जरा संभलो…
कहीं ऐसा न हो कि…
लम्हों ने खता की थी, सदियों ने सजा पाई

लेखक परिचय

kamlesh-bhartiya

लेखक कमलेश भारतीय हरियाणा ग्रंथ अकादमी के पूर्व उपाध्यक्ष रहे हैं। इससे पहले खटकड़ कलां में शहीद भगतसिंह की स्मृति में खोले सीनियर सेकेंडरी स्कूल में ग्यारह साल तक हिंदी अध्यापन एवं कार्यकारी प्राचार्य।  फिर चंडीगढ से प्रकाशित दैनिक ट्रिब्यून समाचारपत्र में उपसंपादक,  इसके बाद हिसार में प्रिंसिपल रिपोर्टर ।

उसके बाद नवगठित हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष बने। कथा समय मासिक पत्रिका का संपादन। मूल रूप से पंजाब के नवांशहर दोआबा से, लेकिन फिलहाल रिहायस हिसार में। हिंदी में स्वतंत्र लेखन । दस संकलन प्रकाशित एवं एक संवाददाता की डायरी को प्रधानमंत्री पुरस्कार।

कानून की एक धारा पर बिछी राजनीति की बिसात  Reviewed by on . हरियाणा में कुरुक्षेत्र से सांसद राजकुमार सैनी पर कुछ दिन पहले चार-पांच युवकों ने कुरुक्षेत्र की एक धर्मशाला में कार्यक्रम समाप्त होने के बाद सेल्फी लेने का बहा हरियाणा में कुरुक्षेत्र से सांसद राजकुमार सैनी पर कुछ दिन पहले चार-पांच युवकों ने कुरुक्षेत्र की एक धर्मशाला में कार्यक्रम समाप्त होने के बाद सेल्फी लेने का बहा Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top