Tuesday , 26 September 2017

Home » खबर खास » आवारा पशुओं की तरह बढ़ रहा है आरएसएसः अभय चौटाला

आवारा पशुओं की तरह बढ़ रहा है आरएसएसः अभय चौटाला

September 7, 2016 2:15 pm by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-
????????????????????????????????????

????????????????????????????????????

राजनीति में पार्टीयों द्वारा एक-दूसरे पर कीचड़ उछालने का खेल कोई नया खेल नहीं है। कभी कांग्रेस द्वारा इनेलो को बीजेपी की बी टीम बता दिया जाता है तो कभी इनेलो द्वारा कांग्रेस को बीजेपी के इशारों पर चलने वाली पार्टी कह दिया जाता है। पिछले दिनों राज्यसभा चुनावों में इनेलो समर्थित उम्मीद्वार आर के आनंद की हार के बाद इनेलो ने दोनों ही पार्टीयों को क्या-क्या न कहा होगा; ये किसी से छुपा नहीं है। लेकिन हाल ही का वाकया और भी चौंकाने वाला है। दरअसल इनेलो के वरिष्ठ नेता अभय सिंह चौटाला ने आरएसएस की तुलना आवारा पशुओं से की है।

इतना ही नहीं, अभय सिंह चौटाला ने तो यहां तक कह दिया है कि आवारा पशुओं की तरह ही आरएसएस के लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। अभय सिंह ने ये बयान हरियाणा के फतेहाबाद में अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए एक सम्मेलन में दिया है। चौटाला यहीं नहीं रूके, उन्होंने प्रदेश की सड़कों पर बढ़ रहे आवारा पशुओं की समस्या के पीछे केंद्र की मोदी सरकार और प्रदेश की मनोहर लाल खट्टर की सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। ये देखना दिलचस्प हुआ कि इससे ठीक पहले हुड्डा के ठिकानों पर हुई छापेमारी को सही बताने वाले अभय आज बीजेपी पर ही बरस पड़े।

हालांकि माना ये जाता रहा है कि इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला बीजेपी के प्रति सॉफ्ट कॉर्नर रखते हैं, लेकिन मंगलवार को जिस बेबाकी से उन्होनें आरएसएस को लपेटा, उससे ये तो जाहिर होता है कि अभय सिंह को अब किसी भी विपक्षी पार्टी से किसी तरह का डर नहीं है। आपको बता दें कि इससे पहले भी बोलने के मामले में अभय सिंह की ये बेबाकी वक्त-बेवक्त नजर आती रही है। इससे ठीक पहले दिन उन्होनें हिसार में बीजेपी को नसीहत दी थी कि विकास की रैलियां करने की बजाय बीजेपी को अपने चुनावी घोषणा-पत्र में किए वादे पूरे करने चाहिए।

वहीं उन्होनें बीजेपी को कांग्रेस का उदाहरण देते हुए फूट डालो और राज करो जैसी नीति अपनाने वाली पार्टी बताया था। उन्होनें कहा था कि आज प्रदेश का किसान, मजदूर, छोटा दुकानदार व्यापारी, कर्मचारी व युवा बेरोजगार सभी सरकार से निराश हो चुके है। उन्होंने कांग्रेस को आड़े हाथो लेते हुए कहा था कि कांग्रेस भी केवल दलित व पिछड़ा हितैषी होने का ढोंग करती आई है। आजादी के बाद 43 सालों तक भारत रत्न के असली हकदार डॉ भीम राव अम्बेडकर को इससे वंचित रखा। उन्होनें कहा कि चौधरी देवी लाल इस देश के उप प्रधानमंत्री बने तो बाबा साहब को भारत रत्न देकर देश के समूचे दलित व पिछड़ों सहित कमेरे वर्ग को गौरवान्वित किया।

हिसार में अभय सिंह चौटाला द्वारा ये भी कहा गया था आने वाली 25 सितंबर को करनाल में वे स्व. चौ. देवी लाल के साथ-साथ भारत रत्न डॉ. बी आर अंबेडकर का भी 125वां जयंती वर्ष मनाएंगे। विदित हो कि इस कार्यक्रम में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्र बाबू नायडू, बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार और बसपा सुप्रीमों मायावती के आने की भी बात भी उन्होनें कही थी। वहीं कुछ राजनीति के जानकारों के मुताबिक अभय सिंह चौटाला द्वारा इसे दलित वोट बैंक को लुभाने की कोशिश के रूप में भी देखा जा रहा है। अभय चौटाला द्वारा बीते दिनों अलग-अलग गांव में डॉ. बी. आर. अंबेडकर जयंती वर्ष बनाने की बात को लेकर भी कुछ ऐसे ही मायने निकाले जाते रहे हैं।

भले ही इंडियन नेशनल लोकदल 25 सितंबर को स्व. चौ. देवीलाल को श्रद्धाजंलि देने जा रही है। लेकिन इस बहाने ही सही; सीएम सीटी करनाल में इसका आयोजन किया जाना, बीएसपी सुप्रीमों को आमंत्रित करना, डॉ. बी आर अंबेडकर को श्रद्धांजलि देना, आरएसएस पर तंज कसना और अपनी पार्टी को कमेरे वर्ग की पार्टी बताने वाली इनेलो क्या सच में कोई राजनैतिक खेल तो नहीं खेल रही? क्या इनेलो का उद्देश्य अपनी सरकार के दौरान भी ( चूंकि सबसे अधिक बार हरियाणा के मुख्यमंत्री बनने वाले नेता औम प्रकाश चौटाला ही रहे हैं ) सच में कमेरे वर्ग का हित करना ही रहा है ? क्या इनेलो सरकार के दौरान कोई घपला घोटाला या भ्रष्टाचार नहीं देखा गया ? ये तमाम सोचने वाली बाते हैं।

भले ही इनेलो वरिष्ठ नेता चौ. अभय सिंह चौटाला द्वारा इससे पूर्व कुछ भी कहा जाता रहा हो। मगर क्या आरएसएस पर दिए बयान से अभय सिंह की मुश्किलें कहीं बढ़ तो नहीं जाएगी। सीबीआई छापों का सामना कर रहे सूबे के पूर्व मुखिया भूपेंद्र सिंह हुड्डा को दाऊद इब्राहिम जैसा शातिर बताने वाले अभय भले ही आजकल बेखौफ अपने विचार रख रहे हैं मगर क्या ये विवादित बयान उनके आय से अधिक संपति के मामले में चल रहे केस के लिए कहीं गले की फांस तो नहीं बन जाएगा ? यूं तो राजनीति में किसी भी तरह की बयानबाजियां चलती रहती हैं मगर बदले की भावनाएं जरूर अभय सिंह के लिए कोई मुश्किल पैदा कर सकती हैं।

– एस.एस.पंवार, कंटेंट एडिटर, हरियाणा खास

आवारा पशुओं की तरह बढ़ रहा है आरएसएसः अभय चौटाला Reviewed by on . [caption id="attachment_797" align="aligncenter" width="630"] ????????????????????????????????????[/caption] राजनीति में पार्टीयों द्वारा एक-दूसरे पर कीचड़ उछाल [caption id="attachment_797" align="aligncenter" width="630"] ????????????????????????????????????[/caption] राजनीति में पार्टीयों द्वारा एक-दूसरे पर कीचड़ उछाल Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top