Sunday , 22 October 2017

Home » खबर खास » यह दिल तोड़ने वाली हार है, मुझे काफी बुरा लग रहा हैः साइना

यह दिल तोड़ने वाली हार है, मुझे काफी बुरा लग रहा हैः साइना

August 14, 2016 9:38 pm by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

कुछ जख्म जैसे छोटे होते हैं, तो कुछ हार भी छोटी होती है वहीं कुछ जख्म गहरा जाते हैं, ठीक वैसे कोई हार की चोट भी दिल तोड़ने वाली हो सकती है… और जाहिर तौर पर वो हार जरूर दिल तोड़ सकती जो पूरे देश की उम्मीदों पर पानी फेर दे। रियो ओलिंपिक में भारत की टॉप वुमन शटलर साइना नेहवाल के साथ भी आज 9वें दिन ऐसा ही हुआ। 5वीं रैंक की साइना को ग्रुप-जी के मुकाबले में यूक्रेन की 61वीं वर्ल्ड रैंक की मारिया यूलितिना ने रोमांचक मुकाबले में 21-18, 21-19 से हराकर बाहर कर दिया। इस पर साइना नेहवाल का कहना है कि उसके घुटने में दर्द था और उस दर्द की वजह से वो अपना बेस्ट परफॉर्मेंस नहीं दे पाई।

saina nehwal

बता दें कि साइना के पैर पर काफी पट्टी भी बंधी थी। उन्होनें बताया कि इन पट्टियों की वजह से उन्हें मूवमेंट करने में काफी दिक्कत हो रही थी और दर्द भी हो रहा था। बाहर होने के बाद साइना ने कहा कि ‘यह दिल तोड़ने वाली हार है। मुझे काफी बुरा लग रहा है। यह चोट ओलिंपिक से ठीक पहले लगी थी।‘ गौरतलब है कि शुरुआती बढ़त के बाद साइना को हार मिली है। यूक्रेन की खिलाड़ी ने जल्द वापसी करते हुए 8-8 से बराबरी कर ली थी वहीं साइना ने एक बार फिर 11-9 से बढ़त हासिल की। वहीं मारिया ने कड़े इवेंट में स्कोर फिर से 13-13 की बराबरी पर ला दिया। ये सेट यूक्रेन की खिलाड़ी ने 21-18 से अपने नाम किया। मारिया ने दूसरे गेम की अच्छी शुरुआत की। पहला प्वाइंट हासिल किया। लेकिन साइना ने पलटवार करते हुए लगातार 4 प्वाइंट हासिल किए।

यह दिल तोड़ने वाली हार है, मुझे काफी बुरा लग रहा हैः साइना Reviewed by on . कुछ जख्म जैसे छोटे होते हैं, तो कुछ हार भी छोटी होती है वहीं कुछ जख्म गहरा जाते हैं, ठीक वैसे कोई हार की चोट भी दिल तोड़ने वाली हो सकती है... और जाहिर तौर पर वो कुछ जख्म जैसे छोटे होते हैं, तो कुछ हार भी छोटी होती है वहीं कुछ जख्म गहरा जाते हैं, ठीक वैसे कोई हार की चोट भी दिल तोड़ने वाली हो सकती है... और जाहिर तौर पर वो Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top