Friday , 22 September 2017

Home » खबर खास » सपना की अपील: मुझसे पहले कई लोग गा चुके हैं रागनी मुझ पर ही केस क्यों?

सपना की अपील: मुझसे पहले कई लोग गा चुके हैं रागनी मुझ पर ही केस क्यों?

September 2, 2016 3:34 pm by: Category: खबर खास 2 Comments A+ / A-

जगदीश चंद्र द्वारा लिखी एक रागनी गाये जाने पर विवादों में उलझी हरियाणवी डांसर और गायिका सपना चौधरी को ने आखिरकार सोशल मीडिया के जरिये अपना रखा है। सपना ने अपने समर्थकों से उसका साथ देने की अपील की है। अपने फेसबुक अकाउंट पर सपना एक पत्रनुमा अंदाज में लिखती हैं…

sapna

क्या लिखा सपना चौधरी ने…

मैं सपना चौधरी हरियाणवी रागिनी गायक आप सभी से निवेदन करती हूं कि मेरे द्वारा गाई गई रागिनी ‘जात-पात का सांग बिगड़ग्या’ 18 फरवरी को चक्करपुर में लोगों की डिंमांड पर गाई थी जिस पर नवाब सतपाल तंवर ने सेक्टर-29 गुड़गांव के थाने में एफआईआर दर्ज करवा दी थी 14-07-16 को। अब आप लोग ही बताएं कि ये रागिनी मेरे से पहले कई लोगों ने गा रखी है और ये रागिनी 40 साल पहले पंडित जगदीश चंद्र जी ने लिखी थी। अब आप लोग ही बताएं मेरे उपर केस क्यों किया।

और मेरे मित्रों, मैं आप लोगों को बता दूं कि नवाब सतपाल तंवर जी ने मेरे खिलाफ बहुत ही आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग कर रखा है। आप लोगों से निवेदन है कि सभी मेरा इस मुश्किल घड़ी में मेरा साथ दें।

                                                                                                                                                                                                 धन्यवाद

                                                                                                                                                                                           सपना चौधरी

सपना डांसर रागनी विवाद क्या है पूरा मामला

बता दें कि सपना ने जगदीश चंद्र वत्स की रागनी से छेड़छाड़ कर उसके शब्दों में फेरबदल कर उसे मंच पर गाया। इस रागनी में जो बोल इस्तेमाल किये गये उनसे दलित एवं पिछड़ी वर्ग की भावनाओं को ठेस पंहुची और देखते ही देखते सपना पर एक के बाद एक केस दर्ज हो गये। दलितों के एक संगठन बहुजन आजाद मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष संजय चौहान ने इसे एक जाति के अपमान का मामला मानते हुए हिसार के डोगरान मुहल्ला पुलिस चौकी में सपना चौधरी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी।

इस मामले में पुलिस छानबीन कर ही रही थी कि 14 जुलाई को गुड़गांव में नवाब सतपाल तंवर ने एफआईआर दर्ज करवा दी। बात सिर्फ यहां नहीं थमीं। इसके बाद सतपाल की और से लोगों को अपने पक्ष में करने के लिये सोशल मीडिया पर ही एक अपील की गई। हालांकि हम इसकी पुष्टि नहीं करते की यह संदेश नवाब सतपाल की ओर से ही भेजा गया लेकिन उनके नाम से जरुर इसे भेजा गया। इस अपील में उन्होंनें वाकई सपना चौधरी के लिये आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया। उन्होंनें लिखा है कि मेरी जान को खतरा है सपना चौधरी ने गुंडों के जरिये मामला वापस लेने का दबाव बना रही है। इतना ही नहीं उन्होंने दावा किया कि सपना ने 50 लाख की सुपारी भी गुंडों को दी है। साथ ही उन्होंनें कहा कि सपना चौधरी मामला वापस लेने के बदले करोड़ों रूपये और साथ में वह जो भी चाहे (……….) उसे देने के लिये तैयार आदि आदि।

कुल मिलाकर मामला अब सपना की दलित विरोधी टिप्पणी का कम बल्कि सपना को बदनाम करने की साजिश के तौर पर ज्यादा देखा जा रहा है। ऐसे में सपना की ओर से इस अपील का आना हालांकि हम यह दावा भी नहीं कर रहे कि सपना की यह भावनात्मक अपील स्वयं उन्होंने की है। असल में सपना के नाम से फेसबुक पर कई अकाऊंट चल रहे हैं जिसमें से कुछ फर्जी भी हो सकते हैं लेकिन हमें यह संदेश लोक कलाकारों की वाल से मिला है जिसे विश्वसनीय माना जा सकता है। इसलिये इसे बतौर सपना प्रेषित कर रहे हैं।

इसके साथ ही एक और खबरनुमा संदेश सपना संबंधित पोस्टों में चस्पाया जा रहा है जिसमें सपना चौधरी के हवाले से आपत्तिजनक शब्दों में लिखा है कि अगर उन पर कोई कार्रवाई हुई तो वे मंत्री और प्रशासनिक अधिकारियों का पर्दाफाश कर देंगी (यह संदेश सपना की फेसबुक अकाऊंट पर नहीं है बल्कि फर्जी तौर पर ही फैलाया जा रहा है। इसका कारण यह भी हो सकता है सपना सोशल मीडिया में काफी ट्रैंड कर रही हैं जिसके कारण ज्यादा से ज्यादा हिंट जुटाने और अपनी पोस्ट पर तव्वज्जो पाने के चक्कर में ऐसे भ्रामक और अशोभनीय पोस्ट इस्तेमाल किये जा रहे हैं।

हरियाणा खास सपना चौधरी की जाति विरोधी रागनी का समर्थन नहीं करता बल्कि हमने सबसे पहले उक्त रागनी जो कि सिर्फ बीच की पंक्तियों के आधार पर फैल रही थी को उजागर किया और बताया कि सपना ने मूल रागनी से छेड़छाड़ की है। इस पर कार्रवाई जरुर होनी चाहिये। लेकिन इस मामले में अकेली सपना दोषी नहीं हैं। सिर्फ सपना को टारगेट करना गलत है बल्कि जो लोक साहित्य इस तरह के विवाद पैदा करता है उसकी समीक्षा भी होनी चाहिये और जो कलाकार इस तरह के विवादित गीत रागनियों को क्षणिक लोकप्रियता और एक विशेष वर्ग की तुष्टि के लिये गाते हैं उन पर भी लगाम लगनी चाहिये।

सपना की अपील: मुझसे पहले कई लोग गा चुके हैं रागनी मुझ पर ही केस क्यों? Reviewed by on . जगदीश चंद्र द्वारा लिखी एक रागनी गाये जाने पर विवादों में उलझी हरियाणवी डांसर और गायिका सपना चौधरी को ने आखिरकार सोशल मीडिया के जरिये अपना रखा है। सपना ने अपने जगदीश चंद्र द्वारा लिखी एक रागनी गाये जाने पर विवादों में उलझी हरियाणवी डांसर और गायिका सपना चौधरी को ने आखिरकार सोशल मीडिया के जरिये अपना रखा है। सपना ने अपने Rating: 0

Comments (2)

  • prince lohno

    Sapna chodri is write

Leave a Comment

scroll to top