Tuesday , 24 October 2017

Home » खबर खास » सपना के डांस से बलात्कारी हो रहा है हरियाणा या कुंठित मानसिकता है कारण?

सपना के डांस से बलात्कारी हो रहा है हरियाणा या कुंठित मानसिकता है कारण?

September 8, 2016 12:47 am by: Category: खबर खास, मनोरंजन खास Leave a comment A+ / A-

sapna-chaudhry-2

जब औरत को इंसान नहीं, या तो देवी (बीवी) या वैश्या (बाहर वाली औरते) समझा जाता है। वो बनाती है बलात्कारी मानसिकता। सपना का डांस नहीं।

हरियाणवी डांसर सपना चौधरी की सेहत में सुधार की कामना के साथ इस मामले पर सोशल मीडिया पर हो रही चर्चाओं ने नया मोड़ ले लिया है। जातिवादी टिप्पणी से शुरु होकर सपना की बदनामी की साजिश रचता हुआ यह मामला अब हरियाणवी संस्कृति और सपना के डांस से बलात्कारी प्रवृति के बढ़ने का कारण बन गया है।

दरअसल सोशल मीडिया पर सपना के बारे में अश्लील टिप्पणियां कर उसे बदनाम करने से आहत सपना से खुदकुशी की कोशिश की तो देखते ही देखते हरियाणवी कला जगत का एक बड़ा तबका सपना के समर्थन में अपनी सहानुभूति दिखाने लगा तो वहीं कुछ लोग सपना को हरियाणवी संस्कृति के साथ जोड़ने पर उसे गलत मानते हैं। वरिष्ठ पत्रकार दीपकमल सहारण लिखते हैं कि सपना ने हरियाणवी वेशभूषा को बेचा है अगर सपना विदेशी पहनावे में डांस करे तो गुम हो जायेगी। इतना ही नहीं वे सपना को एक अफीम मानते हैं और कहते हैं कि सपना का डांस देखकर युवा एक नशे में रहते हैं। इसी को वे बढ़ते बलात्कारों का एक कारण भी मानते हैं। उनके शब्दों में

वो जानबूझकर वैसे कपड़े पहनकर नाचती है जैसे कपड़ों में हम आसपास युवतियों को कॉलेज-ट्यूशन जाते, बहुओं को पानी लाते, घर-पड़ोस में काम करते देखते हैं, और नाचती भी हैं तो ध्यान रखती हैं कि सब ठीक दिखे, शालीनता व मर्यादा बनी रहे। वैसे कपड़ों में जब सपना बेबाक नाचती हैं, तो दरअसल वो एक अफीम सी परोसती है जो हमें आसपास सपना ढूंढने का निरंतर नशा देती है। और फिर हरियाणा बनता है देश में बलात्कार में नंबर वन राज्य।

बलात्कार से याद आया कुछ महीने पहले एक कम्यूनिष्ट नेता ने सन्नी लियोनी के कंडोम के विज्ञापन को बलात्कारी प्रवृति को बढ़ाने वाला माना था। इसी प्रकार संस्कृति के ठेकेदार कुछ स्वयंभू नेता भी गाहे बगाहे लड़कियों के छोटे या भड़कीले कपड़ों को बलात्कारों का जिम्मेदार मानने लगते हैं। सोशल मीडिया पर जब सपना पर लगातार हमले बढ़ने लगे और एक धड़ा यह मानने भी लगा कि सपना के डांस से बलात्कारी प्रवृति बढ़ रही है तो दुनिया में अकेले घूमकर लड़कियों के लिये आज़ादी का ब्रांड बनने वाली हरियाणा की छोरी अनुराधा बेनीवाल अपने फेसबुक अकाऊंट अनुराधा सरोज पर लिखती हैं

जिस तरह से औरत का मजाक बना के फूहड़ता से कॉमेडी नाइट्स में पेश किया जाता है। जिस तरह से ग्रैंड मस्ती, हे बेबी, बीवी नंबर वन, जैसी फिल्मों में बहार और घर की औरतों के नियम तय होते हैं। जब हीरो दर्जन लड़कियों के साथ कैसिनोवा बनता है, और शादी सती-सावित्री उस लड़की के करता है जिसका आजतक कोई बॉयफ्रेंड नहीं रहा। जब औरत को इंसान नहीं, या तो देवी (बीवी) या वैश्या (बाहर वाली औरते) समझा जाता है। वो बनाती है बलात्कारी मानसिकता। सपना का डांस नहीं। मुजरा नाचने वाली से नहीं, उसके ऊपर पैसे उड़ाने, और उसके आगे धुल में लौटने वालो से बनता है। हम जाने कितनी बार शादी, पार्टी, घर में दोस्तों के साथ ऐसा डांस करते हैं। वो मुजरा नहीं फन होता है। फूहड़ वो नहीं, उसके ऊपर पैसा फेकने वाले हैं।

sapna

 

सोशल मीडिया पर सपना के पक्ष और विपक्ष में बोलने वालों की बिल्कुल भी कमी महसूस नहीं हो रही। लेकिन इसी बीच खबर यह भी है कि सपना पर दिल्ली में भी एक और मामला दर्ज हो गया है और साथ ही अग्रिम जमानत की उसकी याचिका भी खारिज हो गई है। लिहाजा सपना के समर्थकों सहित उनका विरोध करने वाले भी फिलहाल तो यही चाहते हैं कि सपना की बॉडी फिर से सॉलिड हो जाये। बाद की फिर बाद में देखेंगें।

सपना के डांस से बलात्कारी हो रहा है हरियाणा या कुंठित मानसिकता है कारण? Reviewed by on . “जब औरत को इंसान नहीं, या तो देवी (बीवी) या वैश्या (बाहर वाली औरते) समझा जाता है। वो बनाती है बलात्कारी मानसिकता। सपना का डांस नहीं।” हरियाणवी डांसर सपना चौधरी “जब औरत को इंसान नहीं, या तो देवी (बीवी) या वैश्या (बाहर वाली औरते) समझा जाता है। वो बनाती है बलात्कारी मानसिकता। सपना का डांस नहीं।” हरियाणवी डांसर सपना चौधरी Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top