Saturday , 25 November 2017

Home » साहित्य खास » सपने म्हं नेता

सपने म्हं नेता

रामधारी खटकड़ कैसे बने नेता जानिये इस कविता से

July 26, 2016 10:09 am by: Category: साहित्य खास Leave a comment A+ / A-

(हरियाणा में सपनों के दो बड़े कवि माने जाते हैं दोनों ही गुरु शिष्य हैं। फौजी (जाट) मेहर सिंह और कृष्णचंद। इनके सपनों में सौंदर्य का वर्णन हैं, ससुराल का वर्णन है, एक भरा पूरा ग्रामीण जीवन दिखाई देता है। लेकिन सपनों के एक ऐसे कवि भी वर्तमान में हैं जो राजनीतिक विषयों को अपने लेखन का हिस्सा बना रहे हैं। रामधारी खटकड़ का आज के दिन हरियाणा के कवियों में सम्मान से नाम लिया जाता है। उनकी कविताओं में सामाजिक पक्ष बहुत गज़ब का उभर कर आता है। अपनी एक रागनी या कहें हरियाणवी कविता में वे सपने में राजनेता बनते हैं। आप भी पढ़िये एक राजनेता बनने की कौन-कौन सी सीढ़ियां होती हैं उनकी इस कविता में – जगदीप सिंह)

ramdhari khatkar

 

सुण सपने का जिकर करूं मैं नेता बणग्या भारी
चुनाव जीत कै बणया मंत्री होई हकूमत म्हारी

 

जवानी म्हं कॉलेज गया तै पढाई म्हं जी लाग्या ना
बदमाशां की रया टोळी म्हं देख्या पाछा-आगा ना
बहोत घणा समझाया था पर बोल मेरै कति लाग्या ना
तरह-तरह के खेल खिलाए , भाग मेरा कति जाग्या ना
इब राजनीति म्हं शामिल होग्या सुणो हकीकत सारी………..

चुनाव जीत कै बणया मंत्री होई हकूमत म्हारी

 

चरण पकड कै बडे-बड्यां के उन की गेल्यां जाण लग्या
बदमाशी छोड्डी छोटी-मोटी , बड्डे गुल खिलाण लग्या
नजायज कब्जे मनै कराए माळ ओपरा खाण लग्या
सारै ढाळ की ऐश मिली , मैं पीवण और पिलाण लग्या
गाँधी टोपी खद्दर धार कै अकल देश की मारी………………….

चुनाव जीत कै बणया मंत्री होई हकूमत म्हारी

 

 

फेर पार्टी का टिकट मिल्या मनै पहल्यां सकीम बणाई थी
जात , गोत का लाकै नारा माळा रोज घलाई थी
कमजोर वर्ग की वोटां तो मनै हाँगे तै गिरवाई थी
बूथां ऊपर करकै कब्जा जय – जयकार कराई थी
ऊपर तक जब राज म्हारा था मिली मदद सरकारी…………………

चुनाव जीत कै बणया मंत्री होई हकूमत म्हारी

 

 

झण्डी आळी कार मिली जब फुल्या नहीं समाया रै
जितने यार – सगार फिरैं थे उन्हें नौकरी लाया रै
रोज घोटाले कर – कर कै नामा खूब बणाया रै
आँख खुली फेर बेरा पाट्या भुण्डा सपना आया रै
‘रामधारी’ जिसे ऊत्तां कै या सूत जोर की आ री………….

चुनाव जीत कै बणया मंत्री होई हकूमत म्हारी

(चित्र और रचना रामधारी खटकड़ की फेसबुक भीत से साभार)

सपने म्हं नेता Reviewed by on . (हरियाणा में सपनों के दो बड़े कवि माने जाते हैं दोनों ही गुरु शिष्य हैं। फौजी (जाट) मेहर सिंह और कृष्णचंद। इनके सपनों में सौंदर्य का वर्णन हैं, ससुराल का वर्णन (हरियाणा में सपनों के दो बड़े कवि माने जाते हैं दोनों ही गुरु शिष्य हैं। फौजी (जाट) मेहर सिंह और कृष्णचंद। इनके सपनों में सौंदर्य का वर्णन हैं, ससुराल का वर्णन Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top