Tuesday , 24 October 2017

Home » तीज तयोहार » शिवरात्रि – 1 तारीख नै चढ़ावैंगें कांवड़िये शिवजी पै जल

शिवरात्रि – 1 तारीख नै चढ़ावैंगें कांवड़िये शिवजी पै जल

महाशिवरात्रि जितना महत्व है सावन शिवरात्रि का

July 30, 2016 1:43 pm by: Category: तीज तयोहार Leave a comment A+ / A-

shiv_puja_b_1000x250

 

आज कल बम बम भोले, हर-हर महादेव का नारा हर और गूंज रहा है। पूरा वातावरण बाबा भोलेभंडारी के जयकारों, नारों से गूंजायमान है। सब कुछ शिवमय हो गया है। सड़कों पर अपने कंधों पर रंग-बिरंगी कांवड़ को लटकाकर हरिद्वार से पैदल चल कर आ रहे कावड़ियें भी आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं तो वहीं कांवड़ की रिले दौड़ करते हुए यानि डाक कावंड़ के जरिये भी हरिद्वार से अपने-अपने गंतव्यों तक शिवभक्त गंगाजल लेकर आते हैं। महौल्लों और गांवों में प्रतिस्पर्धाएं होती हैं कि कौन सा दल पहले भोलेनाथ का जलाभिषेक करेगा। कुछ आस्था न होते हुए भी इसे पर्यटन का जरिया मानकर शिव की और खिंचे चले जाते हैं।

 

सावन शिवरात्रि

वैसे तो शिवरात्रि हर महीने आती है लेकिन इनमें सबसे महत्वपूर्ण मानी जाती है फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को आने वाली शिवरात्रि इसके बाद चूंकि सावन का महीना शिव की भक्ति के लिये जाना जाता है, सावन के सोमवार बहुत शुभ माने जाते हैं। इसी प्रकार सावन शिवरात्रि का त्यौहार भी पावन माना जाता है यही नहीं बल्कि फाल्गुन मास में आने वाली महाशिवरात्रि से ज्यादा उत्साह कांवड़ियों में इस समय होता है। अंग्रेजी कलेंडर के अनुसार सावन मास में शिवरात्रि का त्यौहार 1 अगस्त को मनाया जायेगा।

 

त्यौहारों की शुरुआत

सावन शिवरात्रि के बाद त्यौहारों की शुरुआत हो जाती है जिस प्रकार सावन के महीने में रिमझिम फुहारों की झड़ी लग जाती है उसी प्रकार सावन के माह में ही त्यौहारों का आगाज़ हो जाता है। हरियाणा में तो इन त्यौहारों को बहुत ही उत्साहपूर्वक मनाया जाता है कुछ प्रमुख त्यौहार जो सावन शिवरात्रि के बाद आते हैं।

 

हरियाली तीज – हरियाली तीज तो यह बाकि देश के लिये है हरियाणा में तो इसे तीज कहा जाता है और तीज की खास बात होती है झूले, गीत, गुलगुले-सुहाली, घेवर-फिरनी आदि। 2016 में यह 5 अगस्त को होगी।

 

सलोमण (रक्षाबंधन) – जिस त्यौहार को पूरा देश रक्षाबंधन के नाम से जानता है। हरियाणा में उसे सलोमण कहते हैं। सलोमण सावन यानि कि सामण महीने की पणवासी (पूर्णिमा) को मनाया जाता है। इस दिन तीर्थ स्थलों पर मेलों का आयोजन होता है। हरियाणा के एक प्रसिद्ध तीर्थ रामराय में इस दिन काफी बड़ा मेला लगता है और पिछले कई सालों से इस त्यौहार पर यहां इस मेले का आयोजन होता है।

 

सावन के महीने के बाद श्री कृष्ण की पूजा का पवित्र माह भादों शुरु हो जाता है और त्यौहारों का सिलसिला चलता रहता है।

 

 

शिवरात्रि – 1 तारीख नै चढ़ावैंगें कांवड़िये शिवजी पै जल Reviewed by on .   आज कल बम बम भोले, हर-हर महादेव का नारा हर और गूंज रहा है। पूरा वातावरण बाबा भोलेभंडारी के जयकारों, नारों से गूंजायमान है। सब कुछ शिवमय हो गया है। सड़कों   आज कल बम बम भोले, हर-हर महादेव का नारा हर और गूंज रहा है। पूरा वातावरण बाबा भोलेभंडारी के जयकारों, नारों से गूंजायमान है। सब कुछ शिवमय हो गया है। सड़कों Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top