Friday , 24 November 2017

Home » खबर खास » सर्जिकल स्ट्राइक – कुछ ना कहो कुछ भी ना कहो

सर्जिकल स्ट्राइक – कुछ ना कहो कुछ भी ना कहो

October 11, 2016 10:57 am by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-
photo-bbc-getty

photo-bbc-getty

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद किसको सलाम? राजनेता या जवान? किसको कहें महान? या मेरा भारत महान? सर्जिकल स्ट्राइक पर सबसे पहले देश को जानकारी देने की मांग करने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अब कह रहे हैं कि पूरे देश को प्रधानमंत्री का साथ देना चाहिए जबकि महाराष्ट्र से कांग्रेस नेता संजय निरूपम की पत्नी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर अपने पति को सुरक्षा देने की मांग की है। संजय निरूपम ने भी सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत देने की बात उठाई थी। अभी भाजपा व शिवसेना कार्यकर्ता केजरीवाल व निरूपम के विरुद्ध प्रदर्शन कर और पुतले जलाकर आराम भी नहीं कर पाए थे कि कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बयान देकर भाजपा कार्यकर्ताओं को फिर से प्रदर्शन के लिए उकसा दिया। उत्तर प्रदेश में किसान महायात्रा में तो राहुल गांधी ने सर्जिकल स्ट्राइक पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना करते कहा था कि अढ़ाई वर्षों में पहली बार कोई सही कदम उठाया लेकिन दिल्ली तक आते-आते राहुल गांधी की भाषा ही नहीं, विचार भी एकदम बदल गया। उन्होंने उत्तर प्रदेश में ऐसे पोस्टर देखे, जिनमें एक तरफ प्रधानमंत्री का तो दूसरी तरफ सैनिक का फोटो था। संभवत: इन्हीं पोस्टरों ने राहुल की विचारधारा बदल दी, हृदय परिवर्तन कर दिया और दिल्ली में यात्रा समापन पर की गई रैली में कह दिया कि प्रधानमंत्री देश पर शहीद होने वाले जवानों के पीछे छिपे हैं और जवानों के खून की दलाली कर रहे हैं।

राजद के लालू प्रसाद यादव ने इस पर छिड़ी बहस में कहा कि राहुल को अपनी बात ठीक से रखनी नहीं आई। उधर केजरीवाल पर प्रतिक्रिया दी कि वे अब धरती में गढ़ रहे हैं। इनके कोई न कोई मंत्री रोज फंस रहे हैं। केजरीवाल की ईमानदारी को पोल खुलती जा रही है। सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर खबरिया चैनलों पर लंबी-लंबी बहसें चल रही हैं। इसी बीच पूर्व रक्षामंत्री रहे महाराष्ट्र के शरद पवार ने कहा कि उनके समय में तीन बार सर्जिकल स्ट्राइक हुई लेकिन इसे गुप्त रखा गया। कांग्रेस प्रवक्ता भी यही कह रहे हैं कि केंद्र में सत्ता में रहते हुए चार बार सर्जिकल हुई लेकिन इसकी राजनीतिक फुटेज या राजनीतिक लाभ नहीं लिया, जवानों को सलाम किया। बस, असल में सर्जिकल स्ट्राइक की बहस की जड़ में यही बात है। इसी पर राहुल गांधी कहते हैं कि आप अपना काम कीजिए और जवानों को अपना काम करने दीजिए। पर लालू यादव कह रहे हैं कि बात को सही ढंग से रख नहीं पाए।

इस पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मीडिया कर्मियों के रूबरू होते हुए कहा कि ‘खून की दलाली’ कहने वालों के खून में ही खोट है। यदि सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर आपको आपत्ति है तो आपके खून में ही खोट है। राहुल गांधी ने सारी सीमाएं लांघ दी। इसके जवाब में पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल कांग्रेस की ओर से सामने आए और कहा कि तड़पार होने वाले न बताएं कि खोट किसके मूल में है। कांग्रेस केमूल में खोट की बात कह कर जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी व राजीव गांधी की तरफ इशारा किया है। सिब्बल ने शाह का नाम लिए बिना कह दिया  कि जिन्होंने जेल की हवा खाई, जो तड़ीपार हुए, वह हमें बताएंगे कि किसके मूल में खोट है। भाजपा के रविशंकर प्रसाद ने इस पर कहा कि कांग्रेस देशभक्ति से ज्यादा राहुल भक्ति में डूबी है। भाजपा, कांग्रेस, आप के नेता सर्जिकल स्ट्राइक पर इतने निचले स्तर पर उतरने के लिए एक-दूसरे को दोषी बता रहे हैं।

फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार ने एक वीडियो जारी कर कहा है कि फिल्म रिलीज होगी या नहीं, पाक कलाकारों पर बैन लगाना या नहीं, इस समय ये बातें कोई मायने नहीं रखतीं। इस समय यही है कि फौजी जवान है तो मैं हूं, आप हैं। शहीद जवानों के परिवारों के भविष्य के बारे में सोचो। सच, कुछ बड़ा सोचो। राजनीति छोड़ो, जवानों की सोचो और कुछ न कहो, कुछ भी न कहो… आखिर क्या कहना है। कुछ खबरिया चैनलों को भी राजनेताओं की बयानबाजी पर कम शहीदों की सच्ची शहादत पर कवरेज को प्रमुखता देनी चाहिए। राजनेता भटके हैं तो मीडिया उन्हें सही ट्रैक पर लाएं।

-कमलेश  भारतीय (लेखक हरियाणा ग्रंथ अकादमी के पूर्व उपाध्यक्ष रहे हैं।)

अन्य लेख पढ़ने के लिये नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करें

रामलीला मंचन और भाजपा का मंथन

सर्जिकल स्ट्राइक – कुछ ना कहो कुछ भी ना कहो Reviewed by on . [caption id="attachment_1141" align="aligncenter" width="624"] photo-bbc-getty[/caption] सर्जिकल स्ट्राइक के बाद किसको सलाम? राजनेता या जवान? किसको कहें महान? य [caption id="attachment_1141" align="aligncenter" width="624"] photo-bbc-getty[/caption] सर्जिकल स्ट्राइक के बाद किसको सलाम? राजनेता या जवान? किसको कहें महान? य Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top