Saturday , 21 April 2018

किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी

किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी

किताबें कुछ कहना चाहती हैं – सफदर हाश्मी किताबें करती हैं बातें बीते ज़मानों की दुनिया की, इंसानों की आज की, कल की एक-एक पल की ख़ुशियों की, ग़मों की फूलों की, बमों की जीत की, हार की ...

Read More »
काश मैं सिर्फ एक इंसान होता

काश मैं सिर्फ एक इंसान होता

काश मैं सिर्फ एक इंसान होता काश मैं सिर्फ एक इंसान होता मां हिंदू होती, बाप मुसलमान होता या मां मुसलमान होती, बाप हिंदू होता मेरे मौला इससे क्‍या फर्क पड़ता आखिर मालिक तो दोनों का ...

Read More »
scroll to top