Friday , 20 July 2018

आइए अभी तो वक्त है

आइए अभी तो वक्त है

आइए अभी तो वक्त है आइए अभी तो वक्त है मजदूर संगठन समीति को गैरकानूनी घोषित करती है सत्ता हजारों मजदूर संगठन चुप्पी की चादर ओढे रहते हैं नहीं करते आह्वान सड़को पर निकलने का नहीं कर ...

Read More »
पैरों से निकलने वाले

पैरों से निकलने वाले

      वर्ण-व्यवस्था   जो जांघ से निकले थे, वे थोड़ा करीब पहुंचे थे सत्य तो वो भी नहीं थे,   मुख से निकलने वाले बचपन के दिनों के उस सफेद झूठ की तरह थे जिसम ...

Read More »
तू किधर ?

तू किधर ?

तू किधर ? रामधारी खटकड़ ओ महा कवि !  कविता को नीलाम न कर मत रख गिरवी लेखनी को छोड़ चाटुकारिता का साज मत बजा चिरौरी की डफली आश्रय न खोज , ये राजभोग न चख..... कह दे खुलकर जमाने की प ...

Read More »
नोटबंदी पर मोदी विरोधी की कविताएं

नोटबंदी पर मोदी विरोधी की कविताएं

  1 भक्त मार रहे रूक्के मोदी नै बोल्ड स्टैप उठाया है मैं कहूं इस एक कदम नै पूरा देश रंभाया है वें मारैं सैं रूके इसतै काळा धन काबू आ ज्यागा मैं कहूं काळा धोळा हो लिया इब बता ...

Read More »
क्यों उड़ाया गया दोपदी का फेसबुक अकाउंट ?

क्यों उड़ाया गया दोपदी का फेसबुक अकाउंट ?

“कवि हूं, आदीवासी हूं, संघर्षों भरी अपनी कथा रही“ बस ! इतना सा परिचय... और इतना काफी भी था सियासत की रंगत फीकी करने करने के लिए। नाम दोपदी सिंघार। व्यवसाय- निजि स्कूल में अध्यापिक ...

Read More »
प्रेमी प्रेमिका संवाद

प्रेमी प्रेमिका संवाद

शहर के एक बड़े उद्यान में प्रेमी ने कहा प्रेमिका के कान में चलो प्रिये कहीं और चलते है जहाँ पर मोहोब्बतो के दौर चलते है यहाँ प्यार करना आसान नहीं है इस पार्क में कोई जगह सुनसान नह ...

Read More »
scroll to top