Saturday , 25 November 2017

मा. सतबीर – गायकी में भी मास्टरी थी मास्टर जी की

मा. सतबीर – गायकी में भी मास्टरी थी मास्टर जी की

आज की पीढ़ी को पंडित लख्मीचंद को देखना नसीब नहीं हुआ क्योंकि वह बहुत पहले अपना सबकुछ आने वाली पीढियों को समर्पित करके जा चुके हैं लेकिन पुरानी के साथ आज की पीढ़ी पंडित लख्मीचंद, म ...

Read More »
मास्टर सतबीर – लोक संस्कृति के एक युग का अंत

मास्टर सतबीर – लोक संस्कृति के एक युग का अंत

लोक गायक मास्टर सतबीर पंडित लख्मीचंद, बाजे भगत, धनपत, पंडित मांगेराम की पंरपरा को संभालने वाले एक मजबूत स्तंभ थे उनका चले जाना एक पूरे युग का चले जाना है। फेसबुक पर उनके बहुत से च ...

Read More »
scroll to top