Friday , 22 September 2017

ब से बलात्कार, ब से बीफ

ब से बलात्कार, ब से बीफ

कहते हैं जब किसी लकीर को बिना हस्तक्षेप किए छोटी करना होता है, तो उसके पास एक बड़ी लकीर और खींच दी जाती है। राजनीति में भी ठीक ऐसा ही होता है, जब किसी मुद्दे पर सरकार बैकफुट पर चल ...

Read More »
बकरीद के भोजन पर सरकार की निगाह

बकरीद के भोजन पर सरकार की निगाह

कहा जाता है कि धर्म और राजनीति को अलग-अलग रखा जाना चाहिए। राजनीति करते वक्त धर्म की आड़ नहीं लेनी चाहिए और धर्म को मनाते वक्त भी राजनीति से अपेक्षा नहीं होती है कि बीच में कोई दखल ...

Read More »
हिंसा का बड़ा रूप ले सकते हैं मेवात के हालात

हिंसा का बड़ा रूप ले सकते हैं मेवात के हालात

सरसरी निगाहों से अखबार छानने वालों के लिए बलात्कार की खबर एक खबर भर हो सकती है। या उन लोगों के लिए भी ये महज एक दिलचस्पी हो सकती है जो अखबार में सिर्फ रेप की खबर ढूंढते हैं। मनोरं ...

Read More »
scroll to top