Tuesday , 21 August 2018

कैसे हो कवि

कैसे हो कवि

कैसे हो कवि तुम प्रतिबंधित नहीं हो  तुमसे है प्रतिबंध तुम्हारे शब्दों से डर जाती है सरकार तुम्हारी उपस्थिति से कानून के पैर होने लगते हैं कमजोर पुलिस की सांस अटक जाती है छाती में ...

Read More »
scroll to top