Sunday , 19 August 2018

विलक्षण प्रतिभा के धनी थे भारतेंदु हरिश्चंद्र

विलक्षण प्रतिभा के धनी थे भारतेंदु हरिश्चंद्र

हिंदी साहित्य के इतिहास में आधुनिक काल का आरंभ जिस विलक्षण प्रतिभा के धनी साहित्यकार के ज़िक्र से शुरू होता है, वह सुप्रसिद्ध चर्चित नाम है- भारतेंदु हरिश्चंद्र। एक ऐसे साहित्यकार ...

Read More »
पसीने के बल सृजन

पसीने के बल सृजन

किसी व्यक्ति को बढ़ी दाढ़ी व घिसे कपड़ों में ऊंटगाड़े पर बैठ नित खेत जाते देख कौन कह सकता है कि यह राजस्थानी का बड़ा कथाकार और कवि है। पर यह सच है। रामस्वरूप किसान राजस्थानी कथा-स ...

Read More »
साहित्य जगत को अपूर्णनीय क्षति, नहीं रहे प्रोफेसर गुरदयाल सिंह

साहित्य जगत को अपूर्णनीय क्षति, नहीं रहे प्रोफेसर गुरदयाल सिंह

ज्ञानपीठ, पद्मश्री, सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार, साहित्य अकादमी पुरस्कार, चार बार बेस्ट फिक्शन बुक अवॉर्ड एवं पंजाब साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित साहित्यकार प्रोफेसर गुरदयाल ...

Read More »
scroll to top