Sunday , 22 October 2017

राममनोहर लोहिया – गांधी और मार्क्स के बीच की कड़ी

राममनोहर लोहिया – गांधी और मार्क्स के बीच की कड़ी

अयं निजः परोवेति गणना लघुचेतसाम। उदारचरितानां तु वसुधैव कुटुम्बकम्।। संस्कृत के इस श्लोक में वर्णित ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ की कसौटी पर खरा उतरता था भारतीय समाजवादी विचारक राम मनोहर ल ...

Read More »
scroll to top