Friday , 24 November 2017

Home » खबर खास » सूखी नहीं स्याही, भरे नहीं जख्म…

सूखी नहीं स्याही, भरे नहीं जख्म…

October 20, 2016 10:25 am by: Category: खबर खास Leave a comment A+ / A-

tanwar-and-saini

हरियाणा में इस समय राजनीति के गलियारों में दो मामले खूब गर्म हैं और मीडिया में इन्हीं की धूम है। पहला मामला भाजपा सांसद राजकुमार सैनी पर स्याही फेंकने का है और दूसरा दिल्ली में कांग्रेसियों का गुटबाजी के चलते एक-दूसरे से हाथापाई के बीच प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर का गंभीर रूप से घायल होना। न तो अभी तक सांसद सैनी पर फेंकी स्याही सूखी है और न ही अशोक तंवर के जख्म भर पाए हैं। मीडिया में दोनों मामले छाए हुए हैं। सैनी ने अपने ऊपर स्याही फेंकने वाले युवकों को माफ नहीं किया बल्कि उन पर धारा 307 के तहत केस दर्ज हो गया है। अशोक तंवर ने भी पिटाई करने वालाों को माफी नहीं दी है बल्कि दिल्ली में केस दर्ज करवाया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार शिंदे को मामले की जांच का जिम्मा सौंपा गया है। जो एक्सरे रिपोर्ट डॉक्टरों को दिखानी चाहिएं, वे रिपोर्ट्स लेकर घायल कांग्रेसी कार्यकर्ता सुशील कुमार शिंदे को दिखाने ले गए। कांग्रेसी शिंदे से ऐसे मुलाकात कर रहे थे, मानो वे हरियाणा का मुख्यमंत्री बनाने के लिए उनके मन की थाह ले रहे हों। दिन भर मुलाकातों का दौर चलता रहा और शिकायतों का अंबार शिंदे के टेबल पर जमा लगता गया। विधायक कह रहे हैं कि अध्यक्ष जी उनकी अनदेखी कर रहे हैं और उनके क्षेत्र में होने वाले कार्यक्रमों की जानकारी भी नहीं दी जाती। तंवर समर्थकों पर सोनिया गांधी व राहुल गांधी के पोस्टर फाडऩे की शिकायतें भी हैं। दूसरी ओर तंवर गुट ने वीडियो क्लिप सौंप कर अपनी बात रखी है और सीडी भी पेश की है। पगडिय़ों के रंग, हूटिंग और नारेबाजी, बयानबाजी की फोटो व अखबारों की कतरनें भी पेश की गईं। इस तरह कांग्रेसियों के जख्म अभी तक भरे नहीं बल्कि एक बार सुनवाई में फिर हरे हो गए। 

 

उधर भाजपा सांसद राजकुमार सैनी पर फेंकी स्याही भी सूखने या धुलने का नाम नहीं ले रही। कुरुक्षेत्र में तो सैनी के पक्ष और विरोध में प्रदर्शन हुए जबकि सैनी अपनी रैली का न्याौता देने सोनीपत, झज्जर गए हुए थे। स्याही थी कि पीछे-पीछे आ गई। सैनी ने स्याही फेंकने और हमला करने का आरोप, इनेलो व कांग्रेस पर लगा दिया। करनाल में सांसद सैनी को जैड सुरक्षा देने की मांग ओबीसी ब्रिगेड ने उठाई। सैनी ने अपने ऊपर हुए हमले की जांच सीबीआई से किए जाने की मांग की है। दूसरी ओर खाप पंचायतों और जाट महासभाओं ने हमला करने वाले युवकों पर धारा 307 हटाए जाने की मांग करते हुए चेतावनी दी है कि ऐसा न किए जाने पर सडक़ों पर विरोध करने उतरेंगे। रामबिलास शर्मा कह रहे हैं कि यदि सांसद सैनी सीबीआई जांच की मांग करें तो सरकार को इसका अनुमोदन करना चाहिए। पर उचाना की विधायक व केंद्रीय इस्पात मंत्री बीरेंद्र सिंह की धर्मपत्नी प्रेमलता ने तर्क दिया है कि युवकों ने सैनी पर स्याही ही फेंकी, यदि इन युवकों की नुकसान पहुंचाने की नीयत होती तो तेजाब भी तो फेंक सकते थे। इसलिए धारा 307 लगाना गलत है। वे यह मानती हैं कि युवकों ने गलत काम किया है लेकिन उनकी नीयत नुकसान पहुंचाने की नहीं थी। 

 

भाजपा विधायक प्रेमलता उदाहरण दे रही हैं कि सीएम रहते भूपेंद्र हुड्डा पर हाथ उठाने वाले व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर दो बार स्याही फेंकने वाले आरोपियों पर धारा 307 नहीं लगाई गई। बीरेंद्र सिंह जाट आरक्षण पर बयानबाजी करते रहते हैं और सांसद सैनी को भी कटघरे में खड़े रखते हैं। इस बार उनकी धर्मपत्नी प्रेमलता भी मुखर हो गई हैं। 

 

इस तरह हरियाणा की राजनीति भी कमाल की है। एक तरफ कांग्रेसी ही कांग्रेसियों से भिड़ रहे हैं तो दूसरी तरफ भाजपा सांसद व केंद्रीय इस्पात मंत्री एक-दूसरे पर शब्दभेदी बाण चला रहे हैं। सच साबित कर दिया कि महाभारत भी कुरुक्षेत्र के मैदान में ही लड़ी गई थी। जब अपने ही अपनों के सामने हथियार उठाए खड़े थे। कुछ भी नहीं बदला, आज भी अपनों की महाभारत जारी है।  

हम तो बस इतना ही कह सकते हैं:-

युगों-युगों से चल रही,

ये है महाभारत। 

लेखक परिचय

kamlesh-bhartiya

लेखक कमलेश भारतीय हरियाणा ग्रंथ अकादमी के पूर्व उपाध्यक्ष रहे हैं। इससे पहले खटकड़ कलां में शहीद भगतसिंह की स्मृति में खोले सीनियर सेकेंडरी स्कूल में ग्यारह साल तक हिंदी अध्यापन एवं कार्यकारी प्राचार्य।  फिर चंडीगढ से प्रकाशित दैनिक ट्रिब्यून समाचारपत्र में उपसंपादक,  इसके बाद हिसार में प्रिंसिपल रिपोर्टर ।


 

सूखी नहीं स्याही, भरे नहीं जख्म… Reviewed by on . हरियाणा में इस समय राजनीति के गलियारों में दो मामले खूब गर्म हैं और मीडिया में इन्हीं की धूम है। पहला मामला भाजपा सांसद राजकुमार सैनी पर स्याही फेंकने का है और हरियाणा में इस समय राजनीति के गलियारों में दो मामले खूब गर्म हैं और मीडिया में इन्हीं की धूम है। पहला मामला भाजपा सांसद राजकुमार सैनी पर स्याही फेंकने का है और Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top